International Financial Institutions World Bank, International Monetary Fund, Asian Development Bank

Glide to success with Doorsteptutor material for competitive exams : get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of your exam.

Download PDF of This Page (Size: 201K)

अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थायें विश्व बैंक (International financial institutions world bank)

  • विश्व बैंक एक अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्था है जो ऋण प्रदान करती है, इसका मुख्यालय अमरीका की राजधानी वाशिंगटन डीसी में है।

  • विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की स्थापना एक साथ 1944 में ब्रिटन वुड्‌स सम्मेलन के दौरान हुई थी।

  • उस समय इसका मकसद दव्तीय विश्व युद्ध और विश्वव्यापी आर्थिक मंदी से जूझ रहे देशों में आई आर्थिक मंदी से निपटना था।

  • इसका मुख्य उद्देश्य सदस्य राष्ट्रों को पुननिर्माण और विकास के कार्यों में आर्थिक सहायता देना है। विश्व बैंक देशों को वित्त और वित्तीय सलाह देता हैं।

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund)

  • अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष या अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (अंग्रेजी: International Monetary Fund; इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड, लघुरूप IMF ; आईएमएफ) एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है, जो अपने सदस्य देशों की वैश्विक आर्थिक स्थिति पर नज़र रखने का काम करती है। यह अपने सदस्य देशों को आर्थिक और तकनीकी सहायता प्रदान करती है। यह संगठन अंतरराष्ट्रीय विनिमय दरों को स्थिर रखने के साथ-साथ विकास को सुगम करने में सहायता करता है। इसका मुख्यालय वाशिंगटन डी.सी. संयुक्त राज्य में है। इस संगठन के प्रबंध निदेशक डॉमनिक स्ट्रॉस है। आईएमएफ की विशेष मुद्रा एसडीआर (स्पेशल ड्रांइग राइटस) है। अंतरराष्ट्रीय व्यापार और वित्त के लिए कुछ देशों की मुद्रा का इस्तेमाल किया जाता है, इसे एसडीआर कहते है। एसडीआर में यूराेे, पाउंड, येन और डॉलर हैं। आईएमएफ की स्थापना 1944 में की गई थी। विभिन्न देशों की सरकार के 45 प्रतिनिधियों ने अमेरिका के ब्रिटेन वुड्‌स में बैठक कर अंतरराष्ट्रीय आर्थिक समझौते की रूपरेखा तैयार की थी। 27 दिसंबर, 1945 को 2 देशों के समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद आईएमएफ की स्थापना हुई।

  • आईएमएफ के कुल 186 सदस्य देश हैं। 29 जून 2009 को कोसोवो गणराज्य 186 वे देश के रूप में शामिल हुआ था। आईएमएफ का उद्देश्य आर्थिक स्थिरता सुरक्षित करना, आर्थिक प्रगति को बढ़ावा देना, गरीबी कम करना, रोजगार को बढ़ावा देना और अंतरराष्ट्रीय व्यापार सुविधाजनक बनाना है। सदस्य देशों की संख्या बढ़ने केे साथ वैश्विक अर्थ-व्यवस्था में आईएमएफ का कार्य काफी बड़ा है। कोई भी देश आईएमएफ की सदस्यता के लिए आवेदन कर सकता है। पहले यह आवेदन आईएमएफ के कार्यपालक बोर्ड दव्ारा विचाराधीन भेजी जाती है। इसके बाद कार्यकारी बोर्ड, बोर्ड ऑफ गर्वनेंस को उसकी संस्तुति के लिए भेजता है। वहां स्वीकृत होने पर सदस्यता मिल जाती है।

एशियाई विकास बैंक (Asian Development Bank)

  • एशियाई विकास बैंक (एडीबी) एक क्षेत्राीय विकास बैंक है जिसकी स्थापना 22 अगस्त 1966 को एशियाई देशों के आर्थिक विकास के सुगमीकरण के लिए की गयी थी। यह बैंक यूएॅन (UN) इकोनॉमिक कमीशन फॉर एशिया एंड फार ईस्ट (अब यूएनईएससीएपी-UNESCAP) और गैर क्षेत्रीय विकसित देशों को सदस्यों को सम्मिलित करता है। इस बैंक की स्थापना 31 सदस्यों के साथ हुई, अब एडीबी के पास अब 67 सदस्य हैं- जिसमें से 48 एशिया और पैसिफिक से हैं और 19 सदस्य बाहरी है। एडीबी (ADB) का प्रारूप काफी हद तक वर्ल्ड बैंक के आधार पर बताया गया था और वर्ल्ड बैंक (विश्व बैंक) के समान यहा भी भारित वोट प्रणाली की व्यवस्था है जिसमें वोटो का वितरण सदस्यों के पूंजी अभिदान अनुपात के आधार पर किया जाता है। वर्तमान में संयुक्त राज्य अमेरिका और जापान दोनों के ही पास 552,210 शेयर हैं- इन दोनों के पास शेयरों का सबसे बड़ा हिस्सा है जो कुल का 12,756 प्रतिशत है।

  • बैंक की सर्वाच्च नीति- निर्धारक संस्था, बोर्ड ऑफ गवर्नर्स है जो प्रत्येक सदस्य देश के एक प्रतिनिधि के दव्ारा बनी है, इसके बदले में, बोर्ड ऑफ गवर्नर्स, अपने समूह में से 12 सदस्यों को बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स और उनके सहायक के रूप में चुनते है। इन 12 सदस्यों में से 8 सदस्य क्षेत्रीय सदस्यों (एशिया-पैसिफिक) में लिए जाते है, जबकि अन्य गैर क्षेत्रीय सदस्यों में से होते है।

  • बोर्ड ऑफ गवर्नर्स, बैंक के अध्यक्ष का भी चुनाव करते हैं जो वोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स का भी अध्यक्ष होता है और एडीबी (ADB) का प्रबंधन देखता है। अध्यक्ष का कार्यकाल 5 वर्षों का होता है और इसे पुन: निर्वाचित किया जा सकता है। परंपरागत रूप से अब तक अध्यक्ष सदैव जापान से ही रहे है और यह संभवत: इसलिए भी है क्योंकि जापान बैंक के सर्वाधिक बड़े शेयरधारकों में से हैं। वर्तमान अध्यक्ष, हारुहिको कुरोदा है, जिन्होने 2005 में तदाओं चिनो से पद्भार लिया था।

  • बैंक का मुख्यालय 6 एडीबी एवेन्यू, मंडलूयोंग सिटी, मैट्रो मनीला, फिलिपिन्स में है और इसके प्रतिनिधि कार्यालय पूरे विश्व में हैं।

विभिन्न समितियां और उनसे संबंधित क्षेत्रों की सूची (List of various committees and their respective fields)

यहां विभिन्न समितियां और उनसे संबंधित क्षेत्रों की सूची दी गई है।

List of Various Committees and Their Respective Fields)
List of various committees and their respective fields)

ए.सी.शाह समिति

गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी

ए. घोष समिति

बैंकों में धोखाधड़ी व कदाचार

आबिद हुसैन समिति

पूंजी बाजार विकास

बी. शिवरामन समिति

कृषि और ग्रामीण विकास के लिए संस्थागत ऋण

बी वेंकटप्पैय्या समिति

अखिल भारतीय ग्रामीण ऋण की समीक्षा

बी डी शाह समिति

स्टॉक लेंडिंग योजना

बी.डी. ठाकर समिति

बैंक ऋणों में नौकरी मानदंड (दृष्टिकोण)

भगवती समिति

बेरोजगारी

भगवती समिति

लोक कल्याण

भूतलिंगम समिति

वेतन, आय एवं मूल्य

सी. राव समिति

कृषि नीति

सी.ई. कामथ समिति

कृषि वित्त में बहु एजेंसी दृष्टिकोण

चेतालियर समिति

लघु उद्योग के लिए वित्त

चेसी समिति

प्रत्यक्ष कर

(भारतीय मानक ब्यूरो) कुछ समिति-बेसल समिति के तहत बैंको की पूंजी पर्याप्तता

दंतवाला समिति

रोजगार का आकलन

डेव समिति

म्युचुअल फंड (कामकाज)

धारिया समिति

सार्वजनिक वितरण प्रणाली

डॉ गाडगिल समिति

कृषि वित्त

दत्ता समिति

औद्योगिक लाइसेंसिंग

जी सुंदरम समिति

निर्यात ऋण

गाडगिल समिति (1969)

लीड बैंकिंग प्रणाली

गोडवाला समिति

ग्रामीण वित्त

गोइपोरिया समिति

बैंकों में ग्राहक सेवा

जी एस दाहोत्रे समिति

पट्टा उद्योग की क्रेडिट आवश्यकताएँ

जी.एस. पटेल समिति

शेयर बाजारों में फॉरवर्ड सिस्टम कैरी

हाथी समिति

गंदे बैंकनोट्‌स

हजारी समिति

औद्येगिक नीति

आईटी वाज समिति

बैंकों में वर्किंग कैपिटल वित्त

जे रेड्डी समिति

बीमा क्षेत्र में सुधार

जेम्स राज समिति

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के कामकाज

जानकीरमन समिति

बैंकों और वित्तीय संस्थानों की प्रतिभूतियों में लेनदेन

के. माधव दास समिति

शहरी सहकारी बैंक

कामथ समिति

शिक्षा ऋण योजना

के बी चोरे समिति

कैश क्रेडिट क्यू के प्रतीक की समीक्षा के लिए

खन्ना समिति

अनर्जक आस्ति

खुसरो समिति

कृषि ऋण

एलके झा समिति

अप्रत्यक्ष कर

महादेवन समिति

सिंगल विंडो सिस्टम

महालनोबिस समिति

आय वितरण

मराठे समिति

नए बैंकों को लाइसेंस

एमएल दंतवाला समिति

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक

श्रीमती एस शेरे समिति

इलेक्ट्रॅनिक फंड ट्रांसफर

नरसिंहम समिति

वित्तीय प्रणाली

ओम्कारा गोस्वामी समिति

औद्योगिक रुग्णता और कंपनियों का पुनर्गठन

पी.आर. नायक समिति

लघु उद्योग क्षेत्र के लिए संस्थागत ऋण

पी सेल्वम समिति

बैंकों की अनर्जक आस्तियां

पीसी लूथर समिति

बैंकों की उत्पादकता, संचालन क्षमता और लाभप्रदता

पीडी ओझा समिति

सेवा क्षेत्र दृष्टिकोण

राघवन समिति

प्रतिस्पर्धा कानून

राजा चेलैय्या समिति

कर सुधार

राजमन्नार समिति

केन्द्र-राज्य वित्तीय संबंध

राकेश मोहन समिति

पेट्रो रसायन क्षेत्र

रंगराजन समिति

बैंकिंग उद्योग के कंम्यूटरीकरण

रंगराजन समिति

सार्वजनिक क्षेत्र विनिवेश

राशिद जिलानी समिति

नकद ऋण प्रणाली

रे समिति

औद्योगिक रुग्णता

आर. के. हजारे समिति

विभेदी ब्याज दर योजना

आर. के. तलवार समिति

ग्राहक सेवा

आर.एन. मल्होत्रा समिति

बीमा क्षेत्र सुधारों

सामल समिति

ग्रामीण ऋण

एस. सी. चोकसी समिति

प्रत्यक्ष कर कानून

एस. के कालिया समिति

ऋण में एनजीओ और एसएचजी की भूमिका

एसएल कपूर समिति

लघु उद्योग के लिए संस्थागत ऋण

सोधनी समिति

भारत में एनआरआई निवेश में विदेशी मुद्रा बाजार

एसएस कोहली समिति

रुग्ण औद्योगिक इकाइयों का पुनर्वास

एसएस तारापोर समिति

पूंजी खाता परिवर्तनीयता

सुखमय चक्रवर्ती समिति

मौद्रिक प्रणाली के कामकाज की समीक्षा

टंडन समिति

औद्योगिक रुग्णता

थिंगलाया समिति

आरआरबी का पुनर्गठन

यू. के. शर्मा समिति

लीड बैंक योजना (समीक्षा)

उषा थोराट पैनल:

वित्तीय समावेशन

वाघुल समिति:

म्युचुअल फंड स्कीम

व्यास समिति

ग्रामीण ऋण

वांचू समिति

प्रत्यक्ष कर

डब्ल्यू एस सराफ समिति

बैंकिंग उद्योग में प्रौद्योगिकी मुद्दे

Developed by: