Indian Geography MCQs in Hindi Part 74 with Answers

Doorsteptutor material for DU is prepared by world's top subject experts: fully solved questions with step-by-step explanation- practice your way to success.

Download PDF of This Page (Size: 119K)

9 निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ क्षुद्र सरिता का निर्माण प्रवाहित जल के घर्षण के कारण अधिक मात्रा में लाए गए तलछटों के कारण होता है।

  • अवनालिकाएँ गहरी, चौड़ी तथा लंबाई में विस्तृत होकर एक-दूसरे में समाहित होकर घाटियों का जाल बनाती हैं।

उपर्युक्त कथनों में से कौन- सा/से सत्य है/हैं।

अ) केवल 1

ब) केवल 2

स) 1 और 2 दोनों

द) न तो 1 और न ही 2

उत्तर: (स)

10 नदियों दव्ारा अपरदन के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ प्रारंभिक अवस्था में नदियों दव्ारा अधोमुखी कटाव अधिक होता है, जिससे जलप्रपात व सोपान जलप्रपात का निर्माण होता है।

  • मध्यावस्था में नदियाँ अपने तल में धीमा कटाव करती हैं और घाटियों में पार्श्व अपरदन अधिक होता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन- सा/से सत्य है/हैं।

अ) केवल 1

ब) केवल 2

स) 1 और 2 दोनों

द) न तो 1 और न ही 2

उत्तर: (स)

1 छोटी सहायक नदियाँ कम होती हैं और ढाल मंद होता है। नदियाँ स्वतंत्र रूप से बाढ़ के मैदानों बहती हुई नदी-विसर्प, प्राकृतिक तटबंध, गोखुर झील आदि बनाती हैं। विभाजक विस्तृत तथा समतल होते हैं, जिनमें झील दलदल पाए जाते हैं। अधिकतर भू-दृश्य समुद्र तल के बराबर या थोड़े ऊँचे होते हैं। उपर्युक्त विशेषताएँ नदी की किस अवस्था से संबंधित हैं?

अ) शैशवावस्था

ब) युवावस्था

स) प्रौढ़ावस्था

द) वृद्धावस्था

उत्तर: (द)

Developed by: