Demographic Transition Model, Application, Types of Migration International Part 18

Glide to success with Doorsteptutor material for UGC : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 332K)

जननांकीय संक्रमण सिद्धांत Demographic Transition model

Demographic Transition model

Demographic Transition Model

DTT गैर स्थानिक-कालिक मॉडल है जो जनसंख्या परिवर्तन अथवा प्राकृतिक वृद्धि को देश के बदलते आर्थिक, सांस्कृतिक सामाजिक प्रक्रियाओं से संबंद्ध करता है। देश में Demographic chance को क्रमबद्ध एवं काल आधारित मॉडल के रूप में प्रस्तुत किया। इसके प्रणेता Nolestein एवं thump है जो यूरोप के जनानांकीय इतिहास, औद्योगिक क्रांति एवं वैज्ञानिक अन्वेषण के साथ जन्मदर एवं मृत्यु दर को परिवर्तन शील मानते है।

मूलभुत अवधारणायें:-

  • पारंपरिक कृषि समाज में BR व DR दोनों उच्च होते ळें

  • आर्थिक वृद्धि एवं औद्योगिक क्रांति के साथ जन्म दर एवं मृत्यु दर में परिवर्तनशीलता देखी जाती है। प्रथमत: मृत्यु दर घटता है पुन: जन्म दर।

  • आर्थिक वृद्धि के साथ समाज व्यक्तिपरक, उपभोक्तावादी होता है तथा शिशु की कामना घटती है।

  • जनसंख्या में विस्फोट के उपरांत क्रमश: पतन होता है जबकि विस्फोट तीव्र होता है।

Phase I: - might stationary phase:-

परंपरागत कृषि आधारित समाज, दुर्भिक्ष अकाल, महामारी, कुपोषण, प्राकृतिक आपदा से ग्रस्त, धार्मिक अंधविश्वास से ग्रस्त pre Newtonian science, BR, DR दोनों ही 35 व्यक्ति/1000 से उच्च जनसंख्या वृद्धि दर न्यून। कुल जनसंख्या स्थैतिक जैसे-पश्चिमी एवं पूर्वी अफ्रीकी देश।

Phase II: early expanding phase:-

  • BR- 35 से उच्च परन्तु DR 20 व्यक्ति/1000 क्योंकि कृषि क्रांति के कारण उत्पादकता में वृद्धि खाद्यान्न कृषि संकट एवं भुखमरी में नियंत्रण, आर्थिक अधिशेष की उत्पत्ति, औद्योगिक क्रांति जिससे R&D एवं Medicine की खोज, चिकित्सा सुविधा आदि।

    • जैसे-बांग्लादेश, पाकिस्तान, वेस्ट ऐशिया जहाँ आयातित medicine है।

Phase III: late expanding phase:-

  • DR घटकर 10-15 व्यक्ति/1000, BR- 20 जन्म दर में पतन होता है क्योंकि समाज में उपभोक्तावाद, व्यक्तिवाद, वैज्ञानिकता, Nuclear family का प्रचलन एवं भुखमरी महामारी, कुपोषण पर नियंत्रण।

    • जैसे-चाईना, साउथ अफ्रीका

Phase IV: - Low stationary phase:-

जनसंख्या पुन: स्थैतिक हो जाती है जिसमेंं BR एवं DR दोनों की नियंत्रित हो जाता है एवं 10-15/1000 इस चरण में आर्थिक पूँजीवाद धर्मान्धता के स्थान पर विज्ञान one child policy एवं उच्च female education] woman empowerment high. Ex- USA, Canada, UK

Phase V

  • वर्तमान यूरोप में एवं विकसित देशों में नई जनसंख्या प्रवृत्तियाँ दृष्टिगोचर है।

    • जैसे- BR, DR से भी कम है तथा जनसंख्या में Negative growth हो रहा है।

    • जैसे-जापान, रूसिया, जर्मनी, ऑस्ट्रिया

Application:-

  • यह मॉडल यूरोप के परिप्रेक्ष्य में निर्मित है अत: अफ्रीका एवं एशिया के देशों में लागू नहीं होता।

  • सभी अवस्था अनुक्रमित प्राप्त नहीं होती।

  • आर्थिक वृद्धि के साथ जनसंख्या वृद्धि के संबंध उचित नहीं है पश्चिम एशिया के देश आर्थिक वृद्धि stage IV में जबकि जनसंख्या वृद्धि में stage II

  • ऑस्ट्रेलिया एवं NZ जैसे देश जो श्वेत लोगों के प्रवसन से बने है वहाँ कोई भी stage लागू नहीं होता अथवा stage I से stage IV की प्राप्ति हुई है।

  • भारत जैसे देश Demographic trap में तथा phase II व IIIके मध्य में प्राप्त होते है।

  • इस मॉडल में जनसंख्या परिवर्तन के अन्य कारक प्रवसन को स्थान नहीं दिया गया है।

  • यह मॉडल अत्यंत नियतिवादी एवं पूर्व घोषणाकारी है।

जनसंख्या संबंधी अन्य सिद्धांत:-

इन सिद्धांतों को दो वर्गों में रखा जाता है:

  • प्रकृतिवादी सिद्धांत:-Malthus, settler

  • आर्थिक सामाजिक सिद्धांत:-marx, duomont, recordo

  • saddler:-:-ये Malthus के विरोधी है एवं Malthus के preventive एवं positive check का विरोध करते है विशेषकर positive check पर आपत्ति है।

  • इनके अनुसार जनसंख्या जब क्रोतिक बिन्दु अथवा Thresold पर पहुँचती है तब जनसंख्या पर स्वयं ही नियंत्रण कायम हो जाता है क्योंकि मानव की संतानोत्पत्ति की कामना घटती है। संसाधनों पर दबाव, खाद्यान्न संकट जैसी दशाओं में मानव की मूल प्रवृत्ति में ही परिवर्तन होगा तथा वह स्वयं ही जनसंख्या उत्पादित नहीं करता।

  • Duomont:-इनके अनुसार जैसे भौतिक कोशिका क्रिया कार्य करती है उसी प्रकार सामाजिक कोशिका क्रिया भी आर्थिक क्रिया से उत्पन्न होती है इसका अर्थ है व्यक्ति की आर्थिक सामाजिक प्रगति की कामना। आर्थिक प्रगति के साथ-साथ मानव की सोच में भी परिवर्तन होते है तथा उसकी मुख्य कामना संतानोत्पत्ति न होकर आर्थिक वृद्धि एवं उपभोगवाद होता है। व्यक्तिपरकता मनोरंजन विलासी जीवन की प्रधानता बढ़ती है तथा अधिक संतान इस मार्ग में बाधक होते है अत: मानव social capillarity के साथ अपने नृजातीयता, प्रजातीयता एवं भाषायी सचेतना को छोड़ता है तथा आर्थिक संपन्नता की ओर प्रेरित रहता है। इसका असर महिलाओं पर विशेष रूप से दिखता है। जिससे उनके fecundity में अंतर उत्पन्न होता है।

Population growth & distribution –I & II

Causes & consequences of migration

Types of migration international

Types of migration international

Types of Migration International

Types of Classification

Types of Classification

  • Population growth & distribution:-वृद्धि जनसंख्या विश्लेषण का कालिक वितरण है जबकि स्थानिक विश्लेषण वृद्धि को BR एवं DR प्रवसन के आधार पर विश्लेषित करते है तथा यह मूल रूप्ज्ञ से दशकीय वृद्धि दर एवं वार्षिक वृद्धि दर के आधार पर आंकलित किया जाता है जबकि जनसंख्या वितरण भूदृश्य पर जनसंख्या के सकेन्द्रण अथवा घनत्व का विश्लेषण है।

  • विश्व में जनसंख्या वृद्धि पर Durand ने एक मॉडल प्रस्तुत किया जो अनुमानित जनसंख्या एवं आर्थिक क्रियाओं में परिवर्तन तथा विज्ञान प्रौद्योगिकी के संबंधों पर आधारित है।

  • phase I कृषि क्रांतिकाल:-8000 BC से 1779, BR एवं DR दोनों ही 35 से उच्च विश्व की कुल जनसंख्या 1650 में 500 मिलियन अनुमानित की गई जो 1850 में 1 बिलियन हुई।

  • यूरोप में औद्योगिक क्रांति के आने से जनसंख्या विस्फोट हुए जबकि गैर विकसित देशों में जनसंख्या स्थैतिक रही।

  • Phase II-औद्योगिक क्रांति काल (1779-1925)

  • 75 वर्ष में जनसंख्या दो गुनी हो गई अर्थात 1850 में 1 B से बढ़कर दो बिलियन हो गई। इसका मुख्य कारण दुर्भिक्ष महामारी अकाल एवं कुपोषण पर नियंत्रण तथा Medicine एवं स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता बढ़ी।

  • Phase III- 1925-75:- विकसित देशों की जनसंख्या नियंत्रित हुई किन्तु विकासशील देशों में जनसंख्या विस्फोट देखा गया जिसका मुख्य कारण आयातित medicine एवं food seuirity महामारी में नियंत्रण, 1975 में जनसंख्या चार बिलियन प्राप्त हुई।

  • Phase IV -जनसंख्या पतन का new declining :- विकासशील देशों में जनसंख्या वृद्धि दर में कमी देखी जा रही है जैसे-भारत, चीन, साउथ अफीका परन्तु कुल जनसंख्या में विस्फोटक वृद्धि जारी है। 2001 में जनसंख्या 6 बिलियन तथा 2025 तक आठ बिलियन अनुमानित थी परन्तु 2015 में ही यह जनसंख्या आठ बिलियन हो जायेगी।

  • जनसंख्या का वितरण:-उत्तरी गोलार्द्ध में 3/4th भूखंड है जबकि 90 प्रतिशत जनसंख्या निवास करती है क्योंकि यहाँ विश्व का 99 प्रतिशत eumene (निवास स्थल) है।

Eumene-

  • Intensive- महानगरीय प्रदेश, नदी घाटिया, delta तटीय

  • Extensive -घास के मैदान

  • Sporadic -पठारी प्रदेश

  • Non eumene- मरूभूमि, दलदल भूमि, उच्च पर्वतीय क्षेत्र

अक्षांशीय आधार पर:-

दक्षिणी गोलार्द्ध:- 9 प्रतिशत

ऊँचाई के आधार पर-

  • 900 मी से ऊपर-10 प्रतिशत

  • 600 मी से ऊपर-50 प्रतिशत (40+10)

  • 300 मी से ऊपर-75 प्रतिशत (50+25)

  • Base से ऊपर-100 प्रतिशत

Lawrence curve के दव्ारा वितरण

UN के अनुसार:- तीन भागों में बाँटा

अतिसघन:-

  • प्राथमिक संघनता-300 से अधिक

  • दव्तीयक संघनता-200 व्यक्ति/

  • तृतीयक संघनता-100 व्यक्ति/

प्राथमिक सघनता:- Bengal delta, ganga plain, SE china, BENILUX

दव्तीयक सघनता

सघन:- 25-100 व्यक्ति/

विरल:-25 व्यक्ति/km2 से क्रम

Developed by: