Behaviorism, Behaviorism of Model, Radicalism, Humanism, Welfareism Part 28

Glide to success with Doorsteptutor material for UGC : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 209K)

व्यवहारवाद (Behaviorism)

  • व्यवहारवाद मानववादी दृष्टिकोण है जो मात्रात्मक क्रांति में मानव के भावनात्मक एवं नैतिक मूल्यों के अस्वीकृत करने की प्रवृत्तियों का विरोध करता है। परन्तु यह प्रत्यक्ष वाद का विरोधी नहीं है। बल्कि प्रमाणीकरण का समर्थक है। इस अर्थ में अलग है कि व्यवहारवाद में प्रतिव्यक्ति विश्लेषण महत्वपूर्ण हो जाता है तथा प्रत्येक व्यक्ति के भावनाओं आकांक्षाओं, निर्णय लेने की क्षमता के आधार पर सर्वेक्षण करता है।

  • व्यवहारवादी दृष्टिकोण 1960 के दशक में kirk ने भूगोल में स्थापित किया। व्यवहारवाद मनोविज्ञान, समाजशास्त्र, मानवविज्ञान एवं अन्य मानववादी चिंतनों से निर्मित (बहुविषयक) चिंतक है जिसके केन्द्र में मानव है।

  • व्यवहार का अर्थ है मानव के आंतरिक अनुभूतियों को बाह्य निस्पंदन।

Model (व्यवहार का) Behaviorism of model

Behaviorism of model

ठमींअपवतपेउ व उवकमस

  • व्यवहारवाद में दो प्रकार के पर्यावरण माने गये है:-

    • बाह्य पर्यावरण/भौतिक पर्यावरण

    • आंतरिक/बौद्धिक पर्यावरण

  • Portions ने तीसरे पर्यावरण, सांस्कृतिक पर्यावरण को भी माना है जो निर्णय लेने की क्षमता एवं व्यवहार को प्रभावित करता है।

  • Downs ने व्यवहार वाद पार एक मॉडल प्रस्तुत किया। physical world में सूचना निहित है जो mental preceptor एवं mental filter से होती हुई मृत्यु तंत्र में प्रवेश करती है जिससे एक मानसिक चित्र उत्पन्न होता है जो व्यवहार को उत्पन्न करता है तथा यह व्यवहार पुन: भौतिक पर्यावरण की ओर प्रकट होता है।

  • मनुष्य के व्यवहार को प्रमाणीकृत नहीं किया जा सकता क्योंकि प्रत्येक समरूपी दशाओं में मानव व्यवहार पृथक-पृथक हो सकता है। इस कारण से व्यवहारवादी में models भी मानव एक मशीन अथवा Robot की तरह कार्य करता है।

  • pred का व्यवहारवादी संभात्यवादी मॉडल भविष्य के पूर्व घोषणा में असफल रहा अत: व्यवहारवाद उत्तर व्यवहारवाद के रूप में मानववाद में संश्लिष्ट हो गया तथा वर्तमान में यह मानववाद ही है।

Behaviorism of model

ठमींअपवतपेउ व उवकमस

उग्र सुधारवाद (Radicalism):-उग्र सुधारवाद यूएस में तीन कारणों से उत्पन्न हुआ।

  • वियतनाम युद्ध में यूएस की हार जिससे अमेरिकी युवक छोटी शक्ति के दव्ारा पड़ी शक्ति की पराजय से प्रेरित हुये।

  • रंगभेद नीति के विरूद्ध एवं नगरीय में अश्वेतों की दशा।

  • यूएस में महिलाओं की सामाजिक स्थिति।

  • अर्थात Radicalism में उच्च मानववादी, कल्याणवादी दृष्टिकोण है। यह मार्क्सवाद से प्रभावित चिंतन है। जिसमें पूंजीवाद को सभी असमानता एवं भेदभाव, प्ज्ञर्यावरणीय विनाश का कारण माना गया है।ं

  • Radicalism ऐतिहासिक भौतिकवाद पर आधारित है तथा पूँजीवाद एवं वर्ग विभेद का विरोधी। अतिपर्यावरणीय दोहन पूँजीवाद की प्रवृत्तियाँ है तथा सामाजिक असामनता का कारक भी।

  • इसके प्रचारक prof peet थे, जिन्होंने Antipode नामक पत्रिका के माध्यम से उग्र सुधारवादी विचारों को फैलाया। पमुख विधियों में भाषण, लेख, पत्रिका, विरोध प्रदर्शन, जुलूस, सभा, pamplcts etc थे। उग्र सुधारवादी किसी अन्य वृहद योजना का निर्माण नहीं कर सके अत: विफल रहे एवं 1976 के बाद इनका विलय कल्याण एवं मानववाद में हो गया।

  • उग्र सुधारवाद मानववाद में निहित मात्रात्मक क्रांति का विरोधी प्रत्यक्षवाद के विरूद्ध 1960 का एक प्रमुख चिंतन है जो नारीवाद का समर्थक रंगभेद का विरोधी, असमानता एवं अमानवीयता का विरोधी रहा है।

मानववाद (Humanism)

  • मानववाद का उदय QR के विफलता पर हुआ। मानववाद दृष्टिकोण प्रत्यक्षवाद एवं QR का विरोधी है तथा मानव के भावनात्मक नैतिक मूल्यों निर्णय लेने की क्षमता को विशिष्ट महत्व देता है।

  • भूगोल की परिभाषज्ञ मानववाद में इस प्रकार है- ”भूगोल अध्ययन है ऊपरी सतह का मानव के गृह के रूप में अर्थात मानववाद के केन्द्र में सिर्फ मानव है तथा यह व्यक्तिपरक तथा समष्टिपरक दोनों का ही विश्लेषण करता है। अंर्तसंबंधी प्रवृत्ति का है एवं मानव कल्याण की भावना से ओत प्रोत है।

मानववाद चार सिद्धांतों पर आधारित है:-

  • Human agency -मानव एक कर्ता के रूप में मानव निष्क्रिय नही है न ही दास बल्कि सक्रिय क्रियाशील इकाई है जो स्थूल प्रकृति पर कार्य करता है। यह सिद्धांत संभववाद से प्रेरित है।

  • Human Awareness:-मानव भौगोलिक ज्ञान से युक्त है तथा उसे अपने प्रगति आवश्यकताओं के प्रति जागरूकता है। यह अस्तित्व वाद से प्रभावित principle है।

  • Human creativity (सृजनात्मकता):-मानव Technical चीज़ों का विकास करने में सक्षम है तथा वह उपकरणों के माध्यम से प्रकृति के प्रतिरोध को नष्ट करता है। यह उपकरण निर्माण उसके बौद्धिक एवं वैज्ञानिक सोच का प्रतीक है। यह संकल्पना idealism से प्रभावित है।

  • Human consciousness (सचेतना):-मानव के अंदर एक बौद्धिक सचेतना होती है जो निर्णय को प्रभावित करती है। यह व्यवहारवादी चिंतन के समकक्ष है। मनुष्य का व्यवहार private एवं public में अलग-अलग होता है।

मानववाद Kirk एवं Tuan के दव्ारा 1970 के दशक में भूगोल में प्रविष्ठ हुआ एवं वर्तमान में मानववाद की अजस्व धारा जारी है।

कल्याणवाद (Welfareism)

  • कल्याणवाद का उदय मानववाद के समकक्ष हुआ है तथा ये -उग्रसुधारवाद, व्यवहारवाद, मानववाद, अस्तित्ववाद, आदर्शवाद से अनुप्राणित है।

  • कल्याणवाद में मूल सिद्धांत है who gets what where & how who gets what का अर्थ है सामाजिक विषमता का विश्लेषण था वर्ग विभेद एवं आर्थिक असमानताओं का विश्लेषण where का अर्थ है living condition एवं social wellbeing जबकि how का अर्थ है Right to work economic security एवं आर्थिक लाभ का न्यायिक वितरण।

  • ”कल्याणवाद है कोई चिंतन नहीं” एवं यह विश्व में निम्नांकित आदर्शवादीलक्ष्य की प्राप्ति करना चाहता है:-

    • Gender equality.

    • आर्थिक विभेद को खत्म करना।

    • रंगभेद का विरोध।

    • पर्यावरण संरक्षण।

    • स्पााेंषणीय विकास।

    • प्राकृतिक अधिकार एवं न्याय का रक्षण।

  • भूगोल में कल्याणवाद smith के 1976 में प्रकाशित welfare geography से उत्पन्न होती है। वर्तमान में कल्याणवाद की धारा के अंतर्गत।

    • भूगोल एवं आतंकवाद।

    • भूगोल एवं प्रादेशिक संतुलन।

    • भूगोल एवं समकालीन समस्यायें, आपदा प्रबंधन।

    • भूगोल एवं अपराधशास्त्र की ओर है।

Developed by: