Importance of Growth Pole, Basic Tenements of Growth Theory, State of Growth Pole and Its Development

Glide to success with Doorsteptutor material for UGC : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 165K)

Importance of Growth Pole (Growth Pole एवं Growth Centre का अभिमत क्रमश्)

France एवं यूएसए में उत्पन्न हुए जिसका उद्देश्य त्वरित आर्थिक विकास एवं आर्थिक क्रियाओं के दर को तीव्र करना था। आर्थिक विकास से संबंधित दो मॉडल है।

  • Equilibrium Growth theory (साम्यावस्था वृद्धि सिद्धांत):-इसमें यह माना गया है कि आर्थिक विकास संपूर्ण भूदृश्य पर एक साथ एक समान दूर से होना चाहिए।

  • Schumpeter’s Theory :-इसके अनुसार भूदृश्य पर एक समान विकास असंभव है एवं किसी वृद्धि केन्द्र पर आर्थिक शक्तियों के समूहन से तीव्र आर्थिक वृद्धि संभव होती है हालांकि यह प्रादेशिक विषमता को जन्म देती है परन्तु कालांतर से विकास केन्द्र से आर्थिक लाभ का विसरण होता है एवं संपूर्ण भूदृश्य पर विकास की प्रक्रियायें स्वचालित हो जाती है।

    • विकास ध्रुव की परिकल्पना Schumpter’s Theory से प्रभावित है।

    • विकास ध्रुव में के बाद 1950 के दशक में तीव्र आर्थिक वृद्धि के लिए परिकल्पित किया गया जिसके जनक Perroux है। Boudville ने Perroux के economic space शब्द को प्रतिस्थापित कर Geographical space एवं विकास केन्द्र की परिकल्पना की जो राष्ट्र स्तर पर क्रियाशील न होकर राज्य स्तर पर कार्य करता है।

Basic Tenements of Growth Theory (विकास ध्रुव सिद्धांत की मूलभूत अवधारणायें)

  • Concept of economic space: -ES जैसे:-इनमें से 3 अथवा सभी 3 है:-

    • economic plan-ex –Baurauni plant

    • economic force: -जहाँ पूँजी, श्रम आदि का केन्द्रीकरण है

    • Agglomeration :-जहाँ खनिज संपदा, अवस्थिति समूहन प्रभाव का कुल योग हो।

  • Concept of dominant industry :-प्रभावी उद्योग वह है जो आर्थिक क्रियाओं को तीव्र करे एवं अन्य उद्योगों को जन्म दे।

  • Concept of propulsive industry:-प्रणोदक उद्योग का अर्थ है जिस उद्योग में-

    • रोजगाकर सृजन की बड़ी संभावना हो।

    • स्थानीय संसाधनों का सदुप्रयोग एवं विकास करे।

    • जिस उद्योग के forward व Backward linkages अर्थात अन्य पूरक सहयोगी उद्योगों के संजाल निर्माण की क्षमता हो।

    • प्रणोदक firm का अर्थ है वह कर्म जो पूँजी निवेश औद्योगिक वैविध्यीकरण नये उद्योगों की स्थापना में संलग्न हो।

Firm internal to industries firm < Industry

Firm external to ind. firm> industry

  • Concept of polarization:-:-ध्रुवीकरण का अर्थ है उत्पादन के कारकों का संकेन्द्रीकरण land, labour, capital उद्यमशीला का संकेन्द्रण

  • समूहन:-इसका अर्थ है तीन अथवा अधिक प्रणोदक फर्म अथवा वृहद उद्योगों का संकेन्द्रित होना।

State of Growth Pole and Its Development (विकास ध्रुव के विकास की अवस्था)

  • ध्रुवीकरण की अवस्था:-जब सरकारी नीतियों दव्ारा अथवा अन्य उत्प्रेरकों से किसी एक केन्द्र की ओर प्रेरित होते है।

  • Agglomeration stage (समूहन):-जब नये उद्योग प्रणोदक फर्म एवं उद्योगों के अग्रगामी व पश्चगामी औद्योगिक संकुल विकसित होते है इस अवस्था में विकास ध्रुव निर्मित हो जाता है तथा यह अपने समीपवर्ती क्षेत्रों में brain drain, economic drain के कारण आर्थिक विपन्नता को जन्म देता है इससे प्रादेशिक विषमता उत्पन्न होती है। इसे Back wash effect भी कहा गया है।

  • Trickle down टपकन सिद्धांत:-यह विकास ध्रुव की अत्यावस्था है जिसमें आर्थिक लाभ प्रौद्योगिकी, पूँजी निवेश आर्थिक रूप से विपन्न प्रदेशों में फैल जाते है तथा संपूर्ण भूदृश्य का विकास हो जाता है।

Developed by: