Regional Schemes and Development of Island Territories, Water-Shed Management Program

Glide to success with Doorsteptutor material for UGC : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 139K)

Regional Schemes and Development of Island Territories

Ikzknsf”kd ;kstuk ,oa }hi {ks=ksa dk fodkl

  • दव्ीप क्षेत्रों के विकास संबंधी प्रथम योजना VIth fyp में राजीव गांधी के निर्देश में बनी island dev. Territory की स्थापना। 1986 में इस उद्देश्य से की गई परन्तु यह 1997 तक defunctional रही। पंत commission ने island development के लिए निम्नलिखित सुझाव दिये:-

    • Forest resource development

    • Tribal development Program पर बल

    • Energy resource के उत्पादन पर बल

    • Ecotourism की संभावना

  • भारत में दो दव्ीप समूह है-अंडमान-निकोबार एवं लक्षदव्ीप जिनमें क्रमश: 261 एवं 25 दव्ीप है। अंडामान में दव्ीपों की संख्या satellite में 600 से अधिक देखी गई है। यहाँ continental shell का विस्तार है अत: मत्स्य पालन एवं petroleum तथा natural gas की वृहद संभावना है।

  • इन दव्ीपों पर विषुवतीय वर्षा वन 71 प्रतिशत पर व्याप्त है। इनमें वन संसाधन प्राप्ति एवं ecotourism दोनों की असीम संभावना है। नव्यकरणीय ऊर्जा संसाधन में wind energy wave tidal energy की उच्च संभाव्यता है।

  • Andaman and Nicobar पर कई जनजातियों का निवास स्थल है जिनके अस्तित्व को खतरा है जैसे- जाखा, Orang, सेंटेलिज, शौम्पेन आदि इस प्रकार दव्ीपीय क्षेत्र विकास में 5 संभावनायें खुलती है।

    • वन संसाधनों का विकास एवं दोहन

    • समुद्री संसाधनों का विकास एवं दोहन

    • ऊर्जा संसाधनों का विकास एवं दोहन

    • पर्यटन एवं ecotourism की विकास की संभावना

    • जनजाति विकास की संभावना

Water- Shed Management Program

  • Water shed भूगर्भिक दृष्टिकोण से एक जल विभाजक होता है जहाँ नदियों के स्त्रोत होते है एवं यह दो नदी basins को पृथक करता है परन्तु योजना में Water shed का अर्थ कही विस्तृत है। ws से तात्पर्य उस भू-जल-पारिस्थितिक योजना इकाई से है जहाँं नदियों के स्त्रोत अथवा catchment area एवं विभिन्न सहायक एक उभयनिष्ठ अपवहन बिन्दु पर आकर संयुक्त होती है। Watershed एक समेकित एवं एकीकृत विचार है जिसमें संपूर्ण catchment area सरिताओं एवं सहायक नदियों का संजाल होता है तथा इसके अंतर्गत वो संपूर्ण भू आकृतिक प्रदेश आते है जहाँ यह संजाल विकसित होता है अत: इसके अंतर्गत वन क्षेत्र, मानव आदिवासीय क्षेत्र, मृदा क्षेत्र सभी सम्मिलित हो जाता है तथा watershed management का व्यापक अर्थ भौतिक पर्यावरणीय संरक्षण के अतिरिक्त कृषि मानवीय विकास भी होता है।

Watershed दो प्रकार के होते है-

  • Pan Shaped:-इसका विकास द्रुमाकार प्रतिरूप के सरिताओं के विकास से होता है। इसमें सरिताओं की संख्या अधिक होती है एवं संजाल निर्माण होता है।

  • Fan Shaped:-जहाँ नदियाँ drift valley से निकल रही हो अथवा ढाल सामान्य निम्न हो वहाँं Fan Shaped watershed बनते है।

Developed by: