यू एस ए का भूगोल (Geography of USA) Part 5 for Bank PO (IBPS)

Doorsteptutor material for UGC is prepared by world's top subject experts: Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 151K)

  • मध्यवर्ती मैदान- इस मैदान को मिसीसीपी मिसौरी का मैदान भी कह सकते है, क्योंकि मिसीसिपी-मिसौरी और इनकी सहायक नदियों दव्ारा बहाकर ला गए जल से निर्मित यह समतल धरातल वाला मैदान है। ओजार्क पठार एवं ओचीटा उच्च भूमियांँ इस समतल मैदान के मध्य उच्चवचीय विषमता उत्पन्न करती है। मिसीसीपी इस क्षेत्र की सबसे प्रमुख नदी है। मिसौरी, अरकन्सास तथा ओहियो इसकी मुख्य सहायक नदियाँ है। अपनी सहायक नदियों के साथ यह मैक्सिको की खाड़ी में गिरती है। इस मैदान के उत्तरी भाग में महान झीले है। इन झीलों के समीपवर्ती मैदान को आंतरिक निम्न भूमि के नाम से जाना जाता है।

ऊँचाई के आधार पर आंतरिक विशाल मैदान को 1000 पश्चिमी देशांतर के सहारे दो भागों में बाँटते हैं-

  • उच्च मैदान- 100’ पश्चिमी देशांतर के पश्चिम स्थित मैदान को उच्च मैदान या महान मैदान कहते है। इसकी ऊँचाई 300-500 मी. तक है। यह लहरदार मैदान है।

  • निम्न मैदान- यह 1000 वेस्ट (पश्चिम) देशांतर के पूरब में मध्यवर्ती निम्न भूमि है। इसकी ऊँचाई 100-200 मी. के मध्य है। इस मैदान मेे मिसीसीपी, मिसौरी, ओहियो, टेनेसी मुख्य नदियां प्रवाहित होती है। ओजार्क एवं ओचीटर उच्च भूमि के अतिरिक्त सर्वत्र यह निम्न मैदान समतल है।

  • तटीय मैदान-मध्यवर्ती मैदान के दक्षिण तथा अप्लेशियन पठार के पूर्व में समुद्रतट तक जो मैदान मिलते हैं उन्हें तटीय मैदान कहते है। यह तटीय मैदान दो खंडो में बाँटा जा सकता है-

  • गल्फ तटीय मैदान- यह फ्लोरिडा से लेकर मैक्सिको के तेहानन पेक जलसंधि में फैला हुआ है। यह समतल है तथा मुख्य रूप से मिसीसीपी दव्ारा लार्ड उपजाऊ मिटवित रुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्र्‌ुरुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्रुरू टी से बना है। समुद्री लहरों और पवनों के निक्षेपण ने भी इसके निर्माण में योगदान किया है।

  • पूर्व तटीय मैदान- यह अप्लेशियन पर्वत और अटलांटिक महासागर के बीच लंबा तथा संकरा है। उत्तर की अपेक्षा दक्षिण में यह अधिक चौड़ा है। इस मैदान में अप्लेशियन से निकलकर पूर्व की ओर बहने वाली कई नदियां है जैसे- हडसन, मोहावक, डेलावेयर, सस्केहाना, पोटोमैक, जेम्स आदि। ये नदियांँ पठार से मैदान से उतरते समय प्रपात बनाती है।

Developed by: