राष्ट्रीय पेंशन (नौकरी समाप्ति के बाद का विशेष वेतन) योजना (नेशनल पेंशन स्कीम-एनपीएस) (National Pension Scheme – Government Plans)

Glide to success with Doorsteptutor material for CTET-Hindi/Paper-2 : get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-2.

उद्देश्यअपेक्षित लाभार्थीमुख्य विशेषताएं
• सभी नागरिकों को सेवानिवृत्ति आय प्रदान करना।

• पेंशन सुधारों को संस्थागत करना और नागरिकों में सेवानिवृत्ति संबंधी बचत की आदत डालना

• 18 - 60 वर्ष की आयु वाले सभी भारतीय नागरिक

• टियर-1 के सभी सरकारी कर्मचारी

• सभी नागरिक जैसे- निजी कर्मचारी एवं असंगठित क्षेत्र के श्रमिक

• 18 - 60 वर्ष की आयु वाले सभी भारतीय नागरिक इस योजना से जुड़ सकते हैं

• पीएफआरडीए दव्ारा प्रशासित

• अंशदान योजना के रूप में परिभाषित

• 3 प्रकार:

Ø टियर 1 एनपीएस एकाउंट (खाता)

Ø टियर 2 एनपीएस एकाउंट

Ø एनपीएस-स्वावलंबन योजना

• सरकार की ‘स्वावलंबन योजना एनपीएस लाइट’ (रोशनी) के सभी वर्तमान सदस्य स्वत: ही ‘अटल पेंशन योजना’ में स्थानांतरित हो जायेंगे। यह सब स्वावलंबन योजना का स्थान लेगी।

• साधारण: एनपीएस के रूप में अकाउंट खुलवाने पर एक ‘स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्या (पीआरएएन) ’ प्रदान की जाती है, जो कि एक अदव्तीय नंबर है और यह अभिदाता (एनपीएस में योगदान करने वाले) के साथ आजीवन रहेगा।

• वहनीय (पोर्टेबल (जिसे हाथ में उठाए घूमा जा सके अथवा आसानी से एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाया जा सके) : निवर्तमान सभी पेंशन योजनाओं, जिसमें इपीएफओ की योजनाओं भी सम्मिलित हैं, के विपरीत एनपीएस सभी प्रकार के नौकरियों तथा सभी स्थानाेें पर सीमलेस (निर्बाध) वहनीयता की सुविधा प्रदान करता है।

• लचीला: एनपीएस निवेश के विविध विकल्प प्रदान करता है एवं पेंशन फंड (कोष) मैंनेजर (संचालक/संचालिका) (पीएफएमएस) को चुनने का अधिकार प्रदान करता है।

• निवेशक समग्र जोखिम को विभिन्न परिसंपति वर्गों में बांटने के विकल्प को चुन सकते है, जिसे परिसंपति आवंटन कहा जाता है, (इ = समता, सी = ऋण जोखिम, सरकारी प्रतिभूतियों के अतिरिक्त अन्य प्रतिभूतियां, जी = सरकारी प्रतिभूतियां)

Developed by: