International Migration, Types of Migration, Developed Countries Population Problem Part 20

Get unlimited access to the best preparation resource for UGC : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 366K)

International Migration

Phase-I:-

  • प्राचीनकाल:-प्राचीन काल में मगध से दक्षिण एशिया की ओर प्रवसन हुआ है।

  • महेन्द्रबर्मन-अंगकोरवाट का मंदिर (कंबोडिया)

  • मध्य एशिया के देशों के राजा अपने आप को मगध का वंशज बतलाते है।

  • श्रीलंका के सिंघली-magadh का वंशज/ प्रवसन

  • चोल का प्रवसन हिन्दू राजा:-TN, A.P. से मलेशिया, इंडोनेशिया श्रीलंका में प्रवसन

II दास प्रवसन (slove migration):-

  • (1618-1833) अफ्रीका के अश्वेतों का दक्षिण अमेरिका, उत्तरी अमेरिका कैरेबियन की ओर migration

  • कृषि कार्य हेतु मजदूर एवं श्रम का प्रवसन।

Phase-III- 1833-1925:-

  • ह Migration indentured labour (बधुआ मजदूर) Migration कहलाता है। तथा 1833 में slove act का उन्मूलन किया गया परन्तु बंधुआ मजदूर कानून इससे कुछ पृथक नही था। मुख्य रूप से भारतीयों का प्रवसन हुआ। sugar cane cultivation हेतु हुआ तथा भोजपुरी भाषायी क्षेत्र के लोगों का प्रवसन हुआ जो गन्ना उत्पादन में निपुण थे।

  • 1834 में Mauritius, 1874 rige , 1861 वायना, 1845-75 के बीच कैरेबियन दव्ीप क्यूबा, reunion island, south Africa

Phase-IV 1925.75:-

Brain drain , migration कहलाता है। विज्ञान, शिक्षा का पलायन। मुख्य रूप्स से गन्तव्य यूएस, यूके एवं कनाडा, आस्ट्रेलिया, NZ में प्रवसन हुआ।

Phase-V:-

Information technology migration computer, software के युग California, Canada, Boston में प्रवसन हुआ।

Interstate migration (अंतरराज्यीय प्रवसन)

  • source region:- empowered action group से migration (Bihar, up, raj, mp, CG, Orissa, thaskhand, Kerala से प्रवसन

  • गन्तव्य:-महाराष्ट्र, असम, WB, पंजाब, दिल्ली एवं अन्य महानगर, TN, की ओर प्रवसित।

मुख्य रूप से migration -

  • मध्य गंगा के मैदान से पार गंगा के मैदान की ओर।

  • मध्य गंगा के मैदान से Mumbai metropolitan.

  • Kerala से international migration है एवं में प्रवसन

  • एमपी से मुंबई में प्रवसन

Types of Migration:-

Rural to rural :-लगभग 2/3rd प्रवसन होते है अथवा 64 प्रतिशत migrants

कारण-

  • विवाह-inter specific migration, female specific

  • labour migration-ex-Bihari labour का पंजाब में migration

  • राजस्थान से गुजरात की ओर migration

  • II Rural to urban:-लगभग 21प्रतिशत बेहतर आर्थिक जीवन, उच्च, wage rate स्वास्थ्य चिकित्सा सुविधा मनोरंजन नगरीय आकर्षण, शिक्षा, व्यापार हेतु

  • III Urban to rural:-लगभग 6 प्रतिशत retirement गांव के शुद्ध जीवन, आर्थिंक मंदी, Job loss.

  • IV Urban to urban:-छोटे नगर से बड़े नगरों की ओर लगभग 9 प्रतिशत बेहतर सुख सुविधा, नगरीय आकर्षण सामाजिक सुरक्षा, आर्थिक लाभ, उच्च शिक्षा, बेहतर चिकित्सा सुविधा हेतु।

    • Concept of optimum population

    • Over population

    • Under population

Concept of Optimum Population

  • Optimum population नारी सौन्दर्य की तरह है जिसे परिभाषित नहीं किया जा सकता। इसे कई रूपों में वर्णित किया गया परन्तु सामान्यीकृत नहीं किया जा सकता है।

  • Optimum population वह है जिसमें मांग एवं आपूर्ति के मध्य संतुलन कायम रहे। वह जनसंख्या जो दिये गये संसाधनों के दव्ारा पूर्णत: पोषित है, अनुकूलतम है। वह जनसंख्या जिसे कुपोषण, भुखमरी, महामारी जैसी परिस्थितियाँ प्रभावित नहीं करता एवं उच्च जीवन स्तर के सभी वस्तु एवं सुविधायें उपलब्ध हो अनुकूलतम जनसंख्या कहलाती है।

  • वह जनसंख्या जो देश के संसाधनों पर भार नहीं है बल्कि संसाधनों के दोहन एवं समुचित उपयोग में कार्यरत है अनुकूलतम जनसंख्या कहलाती है।

  • वह जनसंख्या जो शिक्षित, विज्ञान प्रौद्योगिकी में उन्नत आर्थिक क्रियाओं में संलग्न एवं जीडीपी में योगदान करती है उस देश में अनुकूलतम जनसंख्या मानी जाती है।

  • वह जनसंख्या जहांँ संसाधन एवं सामाजिक आर्थिक प्रक्रियायें इस प्रकार की हो कि संपूर्ण व्यक्तित्व के विकास के लिए सभी आर्थिक शर्तें लागू होती है। जैसे-यूएसए

Over Population

O.p. का अर्थ है वह जनसंख्या जो देश के संसाधनों पर भार स्वरूप है तथा कुपोषित अशिक्षित बेरोजगार, निर्भर तथा संसाधनों के अतिदोहन एवं विनिष्टता का कारण हो। जैसे बाग्लादेश, इंडिया स्े संबंधित समस्यायें

Under Population

वह जनसंख्या जो संसाधनों के व्याप्ति से आनुपातिक विश्लेषण में अत्यंत कम हो जिससे संसाधन सुसुप्त रह जाते है तथा आर्थिक वृद्धि के लिए यह एक अवरोधक है क्योंकि शिक्षित जनसंख्या मानव संसाधन बनती है तथा मानव संसाधन ही प्राकृतिक संसाधनों को क्रियाशील करता है। जैसे -ब्राजील, NZ, आस्ट्रेलिया, केनाडा

जनसंख्या समस्या के रूप में:-

  • ”जनसंख्या स्वयं में कोई समस्या नहीं है, परन्तु किसी अन्य समस्या का समाधान इसके नियंत्रण के बिना संभव नहीं है।”

    • PL. J.L. Nehru

  • ”गरीबी जनसंख्या का प्रजनन करती है। विकास सर्वश्रेष्ठ निरोधक है।”

    • Indira Gandhi

  • ”जनसंख्या समस्या तभी बनती है जब अकुशल एवं अशिक्षित है, शिक्षित एवं कुशल जनसंख्या मानव संसाधन होती है।”

  • ”जनसंख्या संसाधनों पर बोझ है, यदि अक्रिय एवं सुसुप्त है।”

Ackerman ने जनसंख्या को संसाधन एवं प्रौद्योगिकी के आधार पर विश्लेषित किया है जिसमें यह स्पष्ट होता है कि जनसंख्या प्रतिकूल वही है जो संसाधनों के उपलब्धता से अधिक एवं प्रौद्योगिकी में पिछड़ी हो।

Type Resource Population Technology
Type Resource Population Technology

Type

Resource

Population

Technology

Us type

High

Optimum

High

Non prob.

European type

Low

High

High

No-prob.

Brazil

High

low

Low

Under pop.

Egyptian type

Low

High

Low

Over population

Arctic type

Low

Low

Low

No-prob.

Developed countries population problem

क्मअमसवचमक बवनदजतपमे चवचनसंजपवद चतवइसमउ

Problem of developing countries

च्तवइसमउ व कमअमसवचपदह बवनदजतपमे

Social capital:-पूँजी तीन प्रकार की होती है:-

  • Material capital:-जैसे-मौद्रिक सोना संसाधन

  • Human capital:-ex- universities के pass ut जैसे-के विद्यार्थी, training

  • Social capital:-यह एक समाजशास्त्रीय विवेचना है। इसमें न तो शिक्षा एवं श्रम कुशलता और न ही भौतिक एवं आर्थिक धन का कोई संदर्भ है। सामाजिक पूँजी से तात्पर्य व्यक्ति एवं समूह के जागरूकता, सचेतना, अभिव्यक्ति एवं उसके सामाजिक, आर्थिक राजनैतिक चिंतन से है जो विकास के प्रक्रियाओं को तीव्र करता है। आर्थिक लाभ का वितरण एवं सहयोगात्मक भावना से निर्मित है।

  • Social capital का अर्थ है social interaction जिसमें व्यक्ति, व्यक्ति को सहयोगात्मक समर्थित भावना से तथा सामाजिक सहभागिता एवं संयोजकता से अधिक संपन्नता अथवा प्रगति को उत्प्रेरित करता है।

  • सर्वप्रथम यूएसए में 1820 के दशक में यह देखा गया कि जिस समाज में व्यक्तियों के मधुर संबंध थे, व्यवहार, विचार के आदान प्रदान थे। सामाजिक आर्थिक मुद्दों में विमर्श एवं सहभागिता था वहांँ आर्थिक प्रगति की प्रक्रियायें तीव्र थी।

  • Social capital को सर्वप्रथम hanifan ने परिभाषित किया। इनके अनुसार Social capital सामाजिक संबंधों एवं संयोजकता, सचेतना, जागरूकता तथा अभिव्यक्ति का प्रतीक है जिसके आधार पर आर्थिक प्रगति के मार्ग खुलते है।

  • Robot Putnam ने social capital को व्यक्ति एवं समाज के अंर्तक्रियाओं से उत्पन्न जागरूकता एवं चेतन को कहा है जो राजनैतिक, आर्थिक, सांस्कृतिक सामाजिक मुद्दों पर दृष्टिकोण के रूप में फलित होता है।

  • भारत में social capital ग्रामीण प्रदेशों में अधिक है जहाँं पारस्परिक सहयोग की भावना एवं सामाजिक अंर्तसंबंध अधिक सशक्त है social capital का ex- self-help group corporative, society, social forum (मंच) cultural forum के माध्यम से अभिव्यक्ति होते है।

    • Social well-being एवं जीवन की गुणवत्ता के परस्पर निर्भर संबंध है। Social well-being की संकल्पना विकसित राष्ट्रों में अनुप्रयुक्त होती है जहाँ आर्थिक प्रगति चरम पर हैं। Social well-being का अर्थ हैं अच्छी गुणवत्ता युक्त जीवन एवं आर्थिक प्रगति शिक्षा, सामाजिक सुरक्षा के साथ संपोषणीय विकास की प्राप्ति।

    • Social well-being , economic wellbeing पर आधारित है तथा दोनों में कारण कार्य संबंध है। Social wellbeing के अंतर्गत निम्नांकित प्रतिमान सम्मिलित है।

Social well being

ैवबपंस ूमसस इमपदह

Developed by: