Hindi Class 11 Question Paper 2012 Download All the Papers for 2021 Exam

Get unlimited access to the best preparation resource for CBSE/Class-10 Hindi: fully solved questions with step-by-step explanation- practice your way to success.

1. निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर दिए गए प्रश्नों का उत्तर दीजिए।

हिन्दी रंगमंच में गतिविधियाँ बढ़ रही हैं। रंग महोत्सव के अवसर पर रंगमंच पर नाटकों का प्रदर्शन होता है हिन्दी रंगमंच से अनेक अनूदित नाटक्वूदसवंक ंसस जीम चंचमते वित रुक्ष्ल्म्।त्दव्रु म्गंउ्‌ैवसनजपवदे ंदक मगचसंदंजपवदे ंज कववतेजमचजनजवतण्बवउरू य रचनाओं को प्रस्तुत किया जा रहा है। हिन्दी में मौलिक नाटकों का अभाव है। रंगमंच की माँग पर हिन्दी लेखकों ने भी लिखना आरंभ किया। अधिकांश लेखक, कहानीकार जब नाटक की रचना करते हैं तो कई बार विधागत भेद को भुला देते हैं। कहानी के पात्रों के सपाट संवादों को कह देने भर से वह कथावस्तु नाटक नहीं बन जाती। रंग नाटक वही होता है, जिसे मंच पर भली भाँति खेला जा सके। कविता या संगीत आदि के माध्यम से काव्य को समास शैली में प्रस्तुत करने पर भी कोई रचना नाटक नहीं हो जाती।

नाटक का अपना विधागत स्वरूप होता है। यह कहानी अथवा कविता के स्वरूप से भिन्न होता है। अभिनय प्रदर्शन, मंच सज्जा और नाटकीय कार्य व्यापार की प्रस्तुति से रंग नाटक बनता है। अत: रंग नाटक की रचना को रंग वस्तु की अपेक्षाओं के रूप में ही जाना पहचाना जा सकता है। कहानी का रूपांतरण हो या मौलिक रचना नाटक आपके रूप और रंग से देश में एक अलग साहित्यिक सत्ता रखता है।

प्रश्न-

1. हिन्दी रंगमंच पर अनूदित नाटकों की प्रस्तुति का क्या कारण हैं?

2. कहानी के पात्रों के सपाट संवादों से रंग नाटक क्यों नहीं बनता?

3. रंग नाटक की वस्तु को कैसे पहचाना जा सकता हैं?

4. रंग नाटक से क्या तात्पर्य हैं?

5. ‘साहित्यिक’ शब्द में से प्रत्यय अलग कर एक नवीन शब्द बनाए।

6. गद्यांश का उचित शीर्षक दीजिए

2. निम्नलिखित काव्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर पूछे गए प्रश्नों का उत्तर दीजिए।

तिनका तिनका लाकर चिड़िया

रचती है आवास नया!

इसी तरह से रच जाता है

सर्जन का आकाश नया।

मानव और दानव में यूँ तो

भेद नजर नहीं आएगा

एक पोंछता कहते आँसू

जो भर एक रुलाएगा।

रचने से ही आ पाता है

जीवन में विश्वास नया

कुछ तो इस धरती पर केवल

खून बहाने आते हैं।

आग बिछाते हैं राहों में

फिर खुद ही जल जाते हैं।

जो होते खुद को मिटाने वाले

वे रचते इतिहास नया।

मंत्र नाश का पढ़ा करें कुछ

दव्ार दव्ार पर जा करके

फूल खिलने वाले रहते

घर घर फूल खिला करके।

(क) सर्जन का नया आकाश कैसे बनता हैं?

(ख) मानव और दानव में क्या अंतर हैं?

(ग) जीवन में नया विश्वास कैसे आता हैं?

(घ) अत्याचारी का अंत क्या होता हैं?

(ङ) नाश का मंत्र पढ़ने और फूल खिलाने से क्या तात्पर्य हैं?

3. निम्नलिखित में से किसी एक पर निबंध लिखिए।

(क) भारत में राष्ट्रीय एकता का स्वरूप

(ख) भारत में बाल मजदूरी समस्या और समाधान

(ग) विज्ञापन के लाभ और हानियाँ

(घ) आतंकवाद समस्या और निराकरण

4. दिल्ली परिवहन निगम के महाप्रबंधक को बसों में सुधार करने हेतु अनुरोध पत्र लिखिए

अथवा

नगर निगम कार्यालय में सहायक पद हेतु स्ववृत्त सहित आवेदन पत्र लिखिए।

5. निम्नलिखित में से किन्हीं पाँच प्रश्नों के उत्तर दीजिए-

1. भारत में पत्रकारिता की शुरूआत कब और किससे हुई?

2. इंटरनेट की कोई एक विशेषता लिखिए।

3. पत्रकारिता के मूल में कौन सा भाव होता है?

4. सबसे विख्यात डायरी कौन सी हैं?

5. पटकथा का स्त्रोत क्या हैं?

6. संपादन के कोई दो सिद्धांत लिखिए?

6. विद्यालय के शैक्षिक-विकास और उन्नति को ध्यान में रखते हुए प्रधानाचार्य ने एक समिति का गठन किया। जांच एवं अध्ययन के पश्चात समिति की और से प्रतिवेदन प्रस्तुत कीजिए।

अथवा

कार्यसूची और कार्यवृत्त को परिभाषित करते हुए दोनों में अंतर स्पष्ट कीजिए?

7. निम्नलिखित काव्यांशों में से किसी एक की सप्रसंग व्याख्या करें।

भौरंन को गुंजन बिहार बन कुंजन में

मंजुल मलारन को गावनो लागत है।

कहैं पदक्वूदसवंक ंसस जीम चंचमते वित रुक्ष्ल्म्।त्दव्रु म्गंउ्‌ैवसनजपवदे ंदक मगचसंदंजपवदे ंज कववतेजमचजनजवतण्बवउरू माकर गुमानहूँ तैं मानहूँ तैं

प्रानहूँ वैं प्यारो मनभावनो लागत है।

मोरन को सोर घनघोर चहुँ ओरन

हिंडोरन को बृन्द छवि छावनो लगत है

नेह सरसावन में मेघ बरसावन में

सावन में झुलिबो सुहावनों लगत है।

अथवा

वज्र का उर एक छोटे अश्रु-कण में धो गलाया,

दे किसी जीवन सुधा दो घूँट मदिरा माँग लाया?

सो गई आँधी मलय की बात का उपधान ले क्या?

विश्व का अभिशाप क्या चिर नींद बनकर पास आया?

अमरता-सुत चाहता क्यों मृत्यु को उर में बसाना?

8. निम्नलिखित काव्यांशों का काव्य सौंदर्य स्पष्ट कीजिए।

(क)

झहरि-झहरि झीनी बूँद हैं परति मानो,

घहरि-घहरि घटा घेरी है, गगन में।

अनि कहक्वूदसवंक ंसस जीम चंचमते वित रुक्ष्ल्म्।त्दव्रु म्गंउ्‌ैवसनजपवदे ंदक मगचसंदंजपवदे ंज कववतेजमचजनजवतण्बवउरू यौं स्याम मो सौं चलौं झुलिबे को आज ′

फूली न समानी भई ऐसी हौं मगन मैं।।

चहत उठक्वूदसवंक ंसस जीम चंचमते वित रुक्ष्ल्म्।त्दव्रु म्गंउ्‌ैवसनजपवदे ंदक मगचसंदंजपवदे ंज कववतेजमचजनजवतण्बवउरू योई उठि गई सो निगोड़ी नींद,

सोए गए भाग मेरे जानि वा जगन में।

आँख खोलि देखौं तो न घन हैं, न घनश्याम,

वेई छाई बूँदे मेरे आंसु हृै दृगन में।।

(ख)

जागृति नहीं अनिद्रा मेरी,

नहीं गई भव निशा अंधेरी।

अंधकार केन्द्रित धरती पर,

देती रही ज्योति चकफेरी!

9. किन्हीं दो प्रश्नों का उत्तर दीजिए।

(क) ‘मुरली तऊ गुपालहिं भावति’ पद के आधार पर ‘गिरधिर नार नवावति’ का आशय स्पष्ट कीजिए।

(ख) ′ हस्तक्षेप ′ कविता सत्ता की क्रूरता और उसके कारण पैदा होने वाले प्रतिरोध की कविता है। ′ - स्पष्ट कीजिए

(ग) ‘बादल को घिरते देखा है’ कविता के आधार पर बताइए कि बादलों का वर्णन करते हुए कवि को कालिदास की याद क्यों आती है?

10. निम्नलिखित में से किसी एक गद्यांश की सप्रसंग व्याख्या कीजिए।

1888 में ज्योतिबा फुले को ′ महात्मा ′ की उपाधि से सम्मानित किया गया तो उन्होंने कहा- “मुझे महात्मा ′ कहकर मेरे संघर्ष को पूर्ण विराम मत दीजिए। जब व्यक्ति मठाधीश बन जाता है तब वह संघर्ष नहीं कर सकता। इसलिए आप सब साधारण जन ही रहने दें, मुझे अपने बीच से अलग न करें।” महात्मा ज्योतिबा फुले की सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि वे जो कहते थे, उसे अपने आचरण और व्यवहार में उतारकर दिखाते थे।

अथवा

चाँदनी में एक जादू होता है। लेकिन यह जादू अलग-अलग लोगों के लिए अलग अलग है। न मालूम हमारी बात कहाँ से शुरू हुई। मैं डर-डर कर उससे बात करता जा रहा था। कहीं ऐसा न हो कि उसे जाने अनजाने मुझसे कोई चोट पहुँचे क्योंकि उसने अपने विचारों के लिए खून बहाया है, जिन्दगी खत्म की है।

11. किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(क) ‘दोपहर का भोजन’ शीर्षक किस प्रकार से सार्थक हैं?

(ख) ‘टार्च बेचने वाले’ पाठ के आधार पर निम्न कथन को स्पष्ट करें-

″ भव्य पुरुष ने कहा- ″ जहां अंधकार है वहीं प्रकाश है। ″

(ग) ‘खानाबदोश’ कहानी में आज के समाज की किन-किन समस्याओं को रेखांकित किया गया हैं?

12. देव अथवा महादेवी वर्मा का साहित्यिक परिचय देते हुए उनकी काव्यगत विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।

अथवा

रांगेय राघव अथवा भारतेंदु हरश्चिन्द्र का साहित्यिक परिचय देते हुए उनकी भाषा-शैलीगत विशेषताओं का उल्लेख कीजिए।

13. किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

(क) राधा के चरित्र की ऐसी कौन सी विशेषताएँ है जिन्हें आप अपनाना चाहेंगे।

(ख) किस बात से पता चलता है कि मकबूल को अपने दादा से विशेष लगाव था?

(ग) पाठ ‘दिशाहारा’ के आधार पर शरतक्वूदसवंक ंसस जीम चंचमते वित रुक्ष्ल्म्।त्दव्रु म्गंउ्‌ैवसनजपवदे ंदक मगचसंदंजपवदे ंज कववतेजमचजनजवतण्बवउरू तथा उसके पिता मोतीलाल के स्वभाव की समानताएं बताइए।

14. (क) ′ पराया घर तो लगता ही है, भाभी ′ - ′ अंडे के छिलके एकांकी के आधार पर बताइए कि श्याम ने ऐसा क्यों कहा?

(ख) ‘हुसैन की कहानी अपनी जबानी’ आत्मकथा के आधार पर मकबूल के पिता की चारित्रिक विशेषताएँ बताइए।

अथवा

‘दिशाहारा’ के आधार पर निम्न कथन को स्पष्ट कीजिए-

“उस समय वह सोच भी नहीं सकता था कि मनुष्य को दु: ख पहुँचाने के अलावा भी साहित्य का कोई उद्देश्य हो सकता है।”

Developed by: