एनसीईआरटी कक्षा 10 अर्थशास्त्र अध्याय 3: धन और क्रेडिट (CRR, SLR & रेपो रैट) यूट्यूब व्याख्यान हैंडआउट्स for CDS Exam

Doorsteptutor material for CDS is prepared by world's top subject experts: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CDS.

Get video tutorial on: Examrace Hindi Channel at YouTube

एनसीईआरटी कक्षा 10 अर्थशास्त्र अध्याय 3: धन और क्रेडिट (CRR, SLR, & रेपो रैट)

अध्याय 3: धन और क्रेडिट

धन वर्सिस वस्तु-विनिमय

  • वस्तु विनिमय पद्धति – इच्छाओं का दोहरा संयोग
  • धन – अदलाबदली और जरूरतोंके सामान्य संयोग को हटाता है|
Barter System , Double Coincidence of Wants; Money- Elimina …

धन के रूप

  • चलन: कागजकी नॉट और सिक्के – सरकार द्वारा अधिकृत (भारत – RBI)
  • बेंकोके पास जमा करना – ज्यादा पैसे कमाने के लिए व्याज कमाना; जमा मांग (मांग पर वापस लेना) – चेक से ज्यादा बहेतर रोकड़ रकम
Deposite with Banks, Demand Deposite, Withdrawn on Demand, C …

जमाकर्ता वार्सिस उधारकर्ता

  • कुल जमा पैसेमेसे 15 % बैंक अपने पास रख लेती है|
  • B/w बचत और उनके लिए जिन्हे जरूरत है |
  • ऋण राशिको बढ़ाना
  • ऋण पर उच्च ब्याज दर
  • Diff. = बैंकके लिए अर्थ प्राप्ति
Bank Hold 15 % of Total Deposit as Cash, B/W Surplus & Those …

जमा धन (ऋण) परिस्थिति

  • ऋणदाता उधारकर्ताको भविष्यमे भुगतानके वादे की पूर्ति करता है|
  • उद्योग, आवास, फसल उत्पादन के लिए
  • आगे जाकर उधारकर्ता जमा धनमें जोर दे सकता है (फसलकी निष्फलता)

जमा धनकी शर्ते

  • ब्याज + मूलधन = दुबारा भुगतान
  • सहायक: वह ऋण जो उधारकर्ता का मालिक होता है और ऋणदाता द्वारा चुकाए जाने तक ऋणदाता जमानतके रूप में इसका उपयोग करता है|
  • ब्याज दर + सहायक + दस्तावेज़ीकरण + दुबारा भुगतान करने का तरीका = जमाधनकी शर्ते

औपचारिक क्षेत्रका जमा धन

  • औपचारिक क्षेत्र ऋण – बैंक और सहकारी – 90 % समृद्ध घर
  • अनौपचारिक क्षेत्र ऋण - साहूकारों, व्यापारियों, नियोक्ताओं, रिश्तेदार और दोस्तों – देखरेख नहीं और किसीभी कीमतका चार्ज लग सकता है (आमतौर पर उच्च) – 85 % गरीब परिवार
  • औपचारिक – RBI द्वारा देखरेख – पता चलता है
    • पेसोको बैंक द्वारा संभाला जा सकता है|
    • ऋण सिर्फ व्यापारमे लाभ बनाने के नहीं लेकिन कई काम में आता है।
  • उच्च उधार मूल्य लेनेका तात्पर्य है कि ज्यादातर पैसे ऋण चुकाने में जाते हैं|
  • सस्ते और किफायती जमाधन की आवश्यकता है|
  • 50 % औपचारिक क्षेत्र द्वारा ग्रामीण ऋण की जरूरत है|

स्व-सहायता समूह

  • समूहों में मिलकर ग्रामीण गरीबों को ठीक करना और धन इकट्ठा करना|
  • सदस्य समूह से ऋण लेते हैं|
  • समूह व्याज का चार्ज करते है|
  • यदि समूह नियमित बचत करते है – बेंक से ऋण ले सकते है|
  • ऋण समूहके नाम पर दिया जाता है – स्व-रोजगार के अवसर
  • सहायक की समस्याको खत्म करना चाहिए|
  • ग्रामीण बैंक (बांग्लादेश) – 1970 के दशक – 40,000 गांवों में 6 मिलियन उधारकर्ता थे|

मामूली स्थायी सुविधा – तीव्र कमी में (आपातकालीन स्थिति) – MSF Rate > Repo Rate

पैसे देता है|

रेपो रेट – कम समय

बैंक का दर – ज्यादा समय

Minor Sustainable Facility - In Acute Shortage

Cash Reserve Ratio (CRR) – RBI के साथ बैंक रोकड़ रकम अपने पास जमा रखती है|

अगर CRR ज्यादा है – बैंक कम खर्च उपयोग कर सकती है।

Cash Reserve Ratio (CRR)
Repo Rates and Deposit Rates for Economics

Developed by: