Science & Technology: National Electronic Mission and Anuexei & Non-Aunexe

Get unlimited access to the best preparation resource for CTET-Hindi/Paper-1 : get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-1.

अद्यतन विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (Latest Development in Science & Technology)

राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक मिशन (NEM: National Electronic Mission)

राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक मिशन (एनईएम) उद्योग के सहयोग से इलेक्ट्रॉनिक्स में अनुमोदित नीति निर्धारण, कार्यान्वयन और ‘ब्रांड इंडिया’ के संवर्धन के लिए संस्थागत प्रणाली के रूप में एक इनईएम की स्थापना की जाएगी। इस संदर्भ में गठित टास्क फोर्स ने 198 संस्तुतियां सरकार को प्रस्तुत की हैं। यह मिशन इलेक्ट्रॉनिक उद्योग के एक नोडल एजेंसी के रूप में कार्य करेगा। यह मिशन सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के अंतर्गत कार्य करेगा जो सीधे प्रधानमंत्री कार्यालय से संबद्ध होगा। इस टाक्स फोर्स की अध्यक्षता अजय चौधरी दव्ारा की जा रही है। यह मिशन इलेक्ट्रॉनिक उद्योग से संबद्ध विभिन्न क्रियाकलापों को एकीकृत करने में सहायता करेगा। इस संदर्भ हेतु यह सरकार के विभिन्न मंत्रालयों एवं विभागों से संबद्ध होगा।

एनेक्स-1 एवं गैर एनेक्स-1 (Anuexei & Non- Aunexe)

जलवायु परिवर्तन की शब्दावली के अनुसार एनेक्स-1 पार्टियों का आशय उन औद्योगिक देशों से है जो हरित गैसों के उत्सर्जन को रोकने के लिए स्वयं तत्पर हुए हैं जबकि गैर-एनेक्स-1 देशों में वे विकासशील अथवा इसी प्रकार अपेक्षा तथा कम विकासशील देश शामिल हैं जिन्होंने उत्सर्जन घटाने की कोई बाध्यता नहीं दर्शायी हैं।

मेघा ट्रॉपिक्स (Megha Tropiques)

पीएसएवी-सी 18 दव्ारा 12 अक्टूबर, 2011 को प्रक्षेपित मेघा ट्रॉपिक्स भारत का पहला मौसम उपग्रह है, जो उष्णकटिबंधीय वातावरण में मौसम और जलवायु परिवर्तन के संदर्भ में जल चक्र का अध्ययन करेगा। यह भारत और फ्रांस की संयुक्त परियोजना है, जिसे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) और फ्रांस के राष्ट्रीय अंतरिक्ष केन्द्र (CNES) ने मिलकर विकसित किया है। मेघ संस्कृत से लिया गया शब्द है जिसका अर्थ ‘बादल’ है जबकि फ्रेंच भाषा में ट्रॉपिक्स (उष्णकटिबंधीय) को ‘ट्रॉपिक्यूज’ कहते हैं।

मद्रास (Madras: Microwave Analysis & Detection of Rain & Atmospheric Structure)

भारत और फ्रांस के सहयोग से विकसित पेलाड मद्रास (Microwave Analysis & Detection of Rain & Atmospheric Structure -MADRAS) एक माइक्रोवेव इमेजर है। जिसके साथ एक शंक्वाकार स्कैनिंग यंत्र भी लगा हैं। इसमें 150 गीगा हर्ट्‌ज की आवृत्ति भी जोडी गई है। इस पेलोड का कार्य बादल तंत्र और संवहन तंत्र से जुड़े बर्फीले बादलों का अध्ययन करना होगा।

साफिर (Saphir)

फ्रांसीसी अंतरिक्ष एजेंसी सीएनईएस दव्ारा विकसित साफिर छह चैनलों वाला ध्वनि यंत्र है जो आर्द्रता का अध्ययन करने में सक्षम हैं 50 डिग्री तक के आयतन कोण वाले बादलों की इस यंत्र की मदद से क्रॉस ट्रैक (पार ट्रैक) स्कैनिंग की जा सकती है।

स्कारैब (Scarab: Sannuz for Radiation Budget Measurement)

फ्रांसीसी अंतरिक्ष एजेंसी सीएनईएस दव्ारा विकसित स्कारैब (Sannuz for Radiation Budget Measurement - SCARAB) चार चैनल वाला स्कैनर है, जो विकिरण का अध्ययन करता है। इसका मुख्य कार्य वायुमंडल के शीर्ष पर बाहर जाने वाले उत्सर्जक फ्लक्स का मापन करना है।

नेरपा परमाणु पनडुब्बी (Nerpa Nuclear Submarine)

रूस ने भारत के लिए बनी परमाणु हमले में सक्षम बहुप्रतिक्षित नेरपा परमाणु पनडुब्बी (के-152) को प्राइमोरये बंदरगाह पर आयोजित एक समारोह के बाद 23 जनवरी, 2012 को भारतीय नौसेना को सौंप दी। इस पनडुब्बी के भारतीय नौसेना को हस्तांतरण से संबंधित दस्तावेजों पर रूस के सुदूर दक्षिण पूर्व के प्राइमोरये इलाके में स्थित बोलशोई कामेन पोत निर्माण केन्द्र में 29 दिसंबर, 2011 को हस्ताक्षर किए गए थे। अकुल-2 श्रेणी की इस नेरपा पनडुब्बी को भारत ने 10 वर्ष की लीज पर प्राप्त किया है और इसके लिए रूस को 92 करोड़ डॉलर का भुगतान किया है। भारतीय नौसेना में इसका नाम ‘आईएनएस चक्र’ रखा गया है। इस पनडुब्बी को प्राप्त करने के बाद भारत परमाणु पनडुब्बी का संचालन करने वाला विश्व का छठा देश बन गया। नेरपा परमाणु पनडुब्बी की भार वहन क्षमता 8140 से 12770 टन है तथा इसकी गति 30 नाट है; यह पनडुब्बी में चार 533 मि. मी. के टारपीडो और चार 650 मि. मी. के टारपीडो से सुसज्जित है।

मीका मिसाइल (Mica Missile)

4 जनवरी, 2012 को केन्द्र सरकार ने फ्रांसीसी कंपनी एमबीडीए से 95 करोड़ यूरो (लगभग 6600 करोड़ रुपये) की लागत से मिराज-2000 लड़ाकू विमानों के लिए हवा से हवा में मार करने वाली 490 अत्याधुनिक मीका (एमआईसीए) मिसाइलें खरीदने की मंजूरी प्रदान कर दी। मिसाइल खरीद सौदे की शर्तों के मुताबिक एमबीडीए को सौदे की 30 प्रतिशत धनराशि वापस भारतीय रक्षा क्षेत्र में निवेश करनी होगी। 80 किमी. दर उड़ रहे दुश्मन के लड़ाकू विमान को गिरा सकने में सक्षम मीका मिसाइलें आवाज से चार गुणा अधिक गति से दुश्मन के विमान का पीछा करते हुए हमला करने में सक्षम हैं। इसे ‘फायर एंड फारगेट’ यावी ‘दागो और भूल जाओ’ मिसाइल कहा जाता है। मध्यम दूरी की हवा से हवा में मार कर सकने वाली यह मिसाइल हर तरह के मौसम में अपने लक्ष्य को भेद सकती है। 112 किलो वजन और तीन मीटर लंबाई वाले इस मिसाइल के कुछ श्रेणियो में ओ. आर. सेंसर भी लगे हैं जो सेंट्रल कमांड को सीधे सूचनाएं भेजते हैं।

रीप प्रणाली (REAP System: Renewable Energy Assisted Pumps)

20 जनवरी, 2012 को ऊंची इमारतों के टैंक तक पानी पहुंचाने की लिए बिजली कंपनी बीएसईएस और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली दव्ारा विकसित रीप (रिन्युअल एनर्जी असिस्टेड पंप) सिस्टम को मयूर विहार के ऑल इंडिया पंचायत परिषद में लगाया गया। उल्लेखीनीय है कि रीप सिस्टम सोलर एनर्जी से बिजली बनाता है और इसे बैटरी में स्टोर करता है, वहीं रीप सिस्टम सूरज की रोशनी से एनर्जी लेकर उसका इस्तेमाल सीधे जमीन के अंदर से पानी को खींचने में करेगा।

जैक्सटर एस. एम. एस. (Jaxtor SMS)

यह एक ऐसा साफ्टवेयर है जो एक मोबाइल फोन से दूसरे मोबाइल फोन तक बिना किसी खर्च के लिखित संदेश प्रेषित करने में सक्षम है। इस साफ्टवेयर का विकास सबीर भाटिया एवं योगेश पटेल ने किया है। उल्लेखनीय है कि सबीर भाटिया ने ही हॉटमल का आविष्कार किया था।

नम्मा मेट्रो (Namma Metro)

कोलकाता और दिल्ली के बाद 20 अक्टूबर, 2011 को नम्मा मेट्रो रेल सेवा की शुरूआत की गई। यह बेंगलुर के एम. जी. रोड से ब्याप्पानाहल्ली के बीच 6.7 किमी. लंबी रेल सेवा है।

जीकैव्स (G-Cabs)

जीकैव्स 28 अक्टूबर, 2011 को फार्मूला -वन रेस के दौरान लांच किया गया ग्रीन रिक्शा है, जो प्रदूषण रहित होने के साथ-साथ इन बिल्ट जीपीएस सिस्टम, फेयर मीटर और प्रिंटर से लैंस है।

एईरास (Eiras)

यह अमेरिका में स्थिति एक गैर लाभकारी जैव प्रोद्योगिकी कंपनी है जिसे बिल एवं मिलिंडा गेट्‌स फाउंडेशन ने पाँच वर्ष के लिए टीबी के खात्मे के लिए आधुनिक टीका विकसित करने के लिए 22 करोड़ डॉलर की सहायता देने की घोषणा 15 वर्ष 2015 को की।

नेक्सावार (Nexavar)

लीवर और किडनी कैंसर के इलाज के लिए जर्मन कंपनी बेयर कार्पोरेशन दव्ारा निर्मित व पेटैंट कराई गई। एक दवा है जिसकी बिक्री का लाइसेंस भारत की स्थानीय फर्म नैटको फार्मा को देने का भारत सरकार ने 12 मार्च, 2012 को एतिहासिक फैसला किया। उल्लेखनीय है कि भारत सरकार ने विश्व व्यापार संगठन (WTO) के कंपलसरी लाइसेसिंग प्रॉविजन के आधार पर नैटको फार्मा को देश का पहला कंपलसरी लाइसेंस दिया है।

आईएस 701 (Is 701)

आकाश टेबलेट के समान बीएसएनएल व पेंटल टेक्नोलॉजी दव्ारा बाजार में 4 फरवरी, 2012 को उतारे गए सस्ते टेबलेट का नाम है। इसमें एनरायड 3.2 ओ. एस. डिवाइस को प्रयुक्त किया गया है तथा इसमें 1 गीगाहर्ट्‌ज ARMII IMP210 प्रोसेसर प्रयुक्त किया गया है।

निर्भय (Nirbhy)

निर्भय डीआरडीओ दव्ारा विकसित की जा रही सतह से सतह पर मार करने वाली दो चरणों वाली (750 किमी. रेंज) सब सोनिक स्पीड पर उड़ने वाली (ध्वनि की रफ्तार से कम) मिसाइल है।

पी-4 (P-4)

पी-4 अमेरिका वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में लगे विशाल हबल टेलीस्कोप के माध्यम से क्षुद्र ग्रह की श्रेणी में आ चुके प्लूटो के खोजे गए दूसरे छोटे चंद्रमा का नाम है। इसका व्यास 13 से 34 किमी. है। यह नया चंद्रमा निक्स एवं हाइड्रा की कक्षा के मध्य स्थित है। यह खोज नासा के New Horizons Mission, जो कि प्लूटो के नजदीक से वर्ष 2015 में गुजरेगा, के लिए महत्वपूर्ण सहायक सिद्ध होगी।

प्रास्पेक्टिव मल्टीरोल फाइटर (Prospective Multirole Fighter)

भारत और रूस एक सुयक्त परियोजना के तहत विश्व के सबसे आधुनिक पांचवी पीढ़ी के लड़ाकू विमान (30 टन वजन, आवाज से दो गुना तेज रफ्तार, अंडवास्ड एवियोनिक्स युक्त, स्टील्थ तकनीक एवं आएसा राडार युक्त) का निर्माण कर रहे हैं। जिसे वर्ष, 2018 में भारतीय वायुसेना में शामिल किए जाने का लक्ष्य है।

Developed by: