CTET July 2019 Paper 2 Hindi Language II Questions Paper Part 1

Doorsteptutor material for CTET/Paper-2 is prepared by world's top subject experts: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET/Paper-2.

121. निम्नलिखित गघांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के सबसे उपयुक्त उत्तर वाले विकल्प चुनिए:

आज शिक्षा के क्षेत्र में भी बाजारीकरण हो जाने के कारण शिक्षा महंगी और गरीबों की पहुँच से बाहर हो चुकी है। एक और तो रुचि और उपयोगिता के अनुसार उपयुक्त शिक्षा पाने के लिए गरीबों के पास धन उपलब्ध नहीं है, तो वही जो संपन्न हैं उनके पास समय का अभाव है। ऐसे में ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था एक बेहतर विकल्प के तौर पर उभरी है। पिछले वर्ष देश के गरीब और स्कूल न जा सकने वाले बच्चों के लिए सरकार की और से प्रभावी कदम उठाते हुए ई-शिक्षा व्यवस्था की शुरुआत करते हुए ‘स्वयं डॉट जीओवी डॉट इन’ वेब पोर्टल की शुरुआत की गई है। इससे बच्चे ऑनलाइन शिक्षा पा सकेंगे और उन्हें किसी भी तरह का शुल्क नहीं देना होगा। इस पोर्टल की विशेषता यह है कि इससे छात्र मैनेजमेंट, इंजीनियरिंग सहित तमाम पाठ्यकर्मों कि पढ़ाई घर बैठे कर सकेंगे। इससे छात्रों को घर बैठे ही सर्टिफिकेट और डिग्री भी हासिल होंगे, जो किसी भी विश्वविधालय में मान्य होंगे।

ऑनलाइन एजुकेशन के प्रति लोगों का बढ़ता उत्साह देखकर कहा जा सकता है कि भारत में इसका भविष्य उज्ज्वल है। यही करण है कि अब अधिकतर शिक्षण संस्थान इस व्यवस्था को अपना रहे हैं। पढ़ाई का बढ़ता खर्च और किसी भी प्रोफेशनल कोर्स कि डिग्री प्राप्त करने के लिए कॉलेजों का चुनाव, प्रवेश परीक्षा और फिर एक साथ मोटी फीस चुकाना युवाओं की बढ़ती संख्या के लिए काफी मुश्किल साबित हो रहा है। भारत में केवल बारह प्रतिशत छात्रों को विश्वविधालय में प्रवेश मिलता है। ऐसे में ऑनलाइन शिक्षा देने वाली कंपनियों के लिए भारत एक बहुत बड़ा बाजार बन गया है। आज एक-दूसरे का समझने-जानने की जिज्ञासा भी लोगों में बढ़ी हुई देखी जाती है। ऐसे में किसी देश की भाषा सीखना आवश्यक हो जाता है क्योंकि भाषा सीखने से उस देश की संस्कृति तथा अन्य बातें समझी जा सकती हैं। इसीलिए भारत के प्रति भी रुचि बढ़ी है और हिंदी सीखने-सिखाने की मांग भी बढ़ी है। यह भारत के लिए, विशेषकर हिंदी भाषा के लिए शुभ संकेत है।

भारत में ऑनलाइन शिक्षा में निरंतर रुचि बढ़ाने का उपयुक्त कारण नहीं है।

A. अधिकतर शिक्षण संस्थान ऑनलाइन व्यवस्था अपना रहे हैं।

B. महँगी होने के कारण पढ़ाई में खर्च बढ़ता जा रहा है।

C. विश्व के अनेक देशों की भारत में रुचि बढ़ रही है।

D. अधिकतर छात्रों को विश्वविधालयों में प्रवेश नहीं मिलता।

122. भारत ऑनलाइन शिक्षा देने वाली कंपनियों के लिए बहुत बड़ा बाजार बन गया है, क्योंकि

A. आज एक-दूसरे को समझने की जिज्ञासा बढ़ी है।

B. ऑनलाइन शिक्षा पाने का फैशन युवक युवतियों को आकर्षित करता है।

C. लोगों को कोई काष्ठ उठाए बिना डिग्री मिल जाती है।

D. अधिकांश युवक किन्हीं कारणों से विश्विद्यालय शिक्षा से वंचित रह जाते हैं।

123. गघांश में प्रयुक्त निम्नलिखित वाक्य को चार भागों में बाँटा गया है जिनमें से किसी एक भाग में अशुद्धि है। अशुद्ध भाग को पहचानकर चिर्हित कीजिए-

i. आज एक दूसरे को

ii. समझने जानने की जिज्ञासा

iii. भी लोगों में बढ़ी हुई

iv. देखी जाती है

A. (ii)

B. (iii)

C. (iv)

D. (i)

124. उत्पति की दृष्टि से ‘ऑनलाइन’ और ‘शिक्षा’ शब्द हैं क्रमश:

A. तदभव, आगत

B. आगत, तत्सम

C. तदभव, तत्सम

D. तत्सम, तदभव

125. ‘उपयोगिता’ शब्द में उपसर्ग और प्रत्यय क्रमश: हैं

A. उप, इता

B. उ, गिता

C. उप, ता

D. ता, उप

126. आज शिक्षा गरीबों की पहुँच से बाहर होती जा रही है। इसका कारण है:

A. गरीब आरक्षण का लाभ नहीं उठा पाते।

B. उपयुक्त व्यवस्था का सरकारीकरण हो गया है।

C. बाजारीकरण के कारण शिक्षा महँगी हो गई है।

D. गरीब अधिक गरीब होते जा रहे हैं।

127. ‘ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था’ का तात्पर्य है।

A. घर बैठे इन्टरनेट एक माध्यम से शिक्षा

B. मैनेजमेंट, इंजीनियरिंग आदि की शिक्षा

C. गरीब और साधनहीन लोगों के लिए शिक्षा

D. किसी भी प्रकार के शुल्क से मुक्त शिक्षा

128. भारत के लिए शुभ-संकेत है।

A. शिक्षा का बाजारीकरण

B. हिन्दी सीखने- सिखाने की मांग बढ़ाना

C. नि: शुल्क शिक्षा व्यवस्था

D. ऑनलाइन शिक्षा

Developed by: