भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार के तीन वर्ष का विवरण (GoI 3 Years) Part-4 (Download PDF)

()

Download PDF of This Page (Size: 316.23 K)

मोदी जी की यात्राएं: -प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी अब तक 57 बार विदेश यात्रा कर चुके हैं। 45 देशों की इन यात्राओं में उन्होंने 119 दिन विदेश में बिताए हैं। जबकि उनके पहले प्रधनमंत्री रहे मनमोहन सिंह ने 10 सालों में कुल 80 और पहले तीन साल में 24 विदेश यात्राएं की थीं।

अमरीका-सबसे ज्यादा 4 बार अमेरिका की यात्रा, सितंबर 2014, सितंबर 2015, अप्रैल 2016 और जून 2016।

9 देशों में गए 2 - 2 बार-

Table Contain Shows List of PM visit 2 times this 9 countries

Table Contain Shows List of PM visit 2 times this 9 countries

Table Contain Shows the political map of 2014

Table Contain Shows the political map of 2014

Table Contain Shows List of PM visit 2 times this 9 countries

Table Contain Shows List of PM visit 2 times this 9 countries

1. जापान

नवं-2014-नवं-2016

2. रूस

जुलाई-2015, दिसं-2015

3. अफगानिस्तान

दिसं-15 जून-16

4. चीन

मई-2015, सितंबर-2016

5. नेपाल

अगस्त-2014, नवंबर-2014

6. फ्रांस

अप्रैल-2015, नवंबर-2015

7. श्रीलंका

मार्च-2015, मई-2017

8. सिंगापुर

मार्च-2015, नवंबर-2015

9. उजबेकिस्तान

जुलाई-15, जून-16

एक बार इन 35 देशों की यात्रा-ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, बेल्जियम, भूटान, ब्राजील, कनाडा, फिजी, जर्मनी, ईरान, आयरलैंड, केन्या, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, लाओस, मलेशिया, मॉरिशस, मैक्सिको, मोजाम्बिक, म्यांमार, कतर, पाकिस्तान, सेशल्स, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, स्विअजरलैंड, ताजाकिस्तान, तंजानिया, थाईलैंड, तुर्की, तुर्कमेनिस्तान, यूएई, ब्रिअेन, वियतनाम, मंगोलिया, सऊदी अरब।

म्गााेंलिया- मोदी मंगोलिया (मई 2015) जाने वाले पहले प्रधाानमंत्री हैं। इस साल जुलाई में जब मोदी इजरायल जाएंगे तो ऐसा करने वाले भी पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे।

सऊदी अरब-मोदी को सऊदी अरब (अप्रैल 2016) ने शीर्ष नागरिक सम्मान द (यह) ऑर्डर (आदेश) ऑफ (का) किंग (राजा) अब्दुल्लअजीज से नवाजा। यह सम्मान पाने वाले वे पहले भारतीय हैं।

मिशन (दूतमंडल) मोदी: -लोकसभा चुनाव के बाद 17 राज्यों में भाजपा सत्ता में 2018 तक राजस्थान सहित 10 राज्य जीतने का संघर्ष।

2014 का राजनीति नक्शा- 26 मई को मोदी प्रधानमंत्री बने तब भाजपा 7 राज्यों में थी। 39 प्रतिशत आबादी भाजपा शामिल राज्यों में हैं।

Table Contain Shows the political map of 2014

Table Contain Shows the political map of 2014

भाजपा 5

मध्यप्रदेश

छत्तीसगढ़

गुजरात

राजस्थान

गोवा

भाजपा गठबंधन 2

प्जाांब

आंध्रप्रदेश

कांग्रेस 10

हरियाणा

हिमाचल

उत्तराखंड

कनार्टक

केरल

असम

अरुणाचल

मणिपुर

मेघालय

मिजोरम

कांग्रेस गठबंधन 3

महाराष्ट्र

झारखंड

जम्मू-कश्मीर

श्रीजनल 9

बिहार

उत्तरप्रदेश, प. बंगाल

ओडिशांं

नागालैंड, त्रिपुरा

पुडुचेरी

सिक्किम, तमिलनाडु

दिल्ली में राष्ट्रपति शासन था।

मई 2014 में तेलंगाना अलग राज्य नहीं था। वोटिंग (मतगणना) 30 राज्यों में हुई थी और चुनाव के बाद आंध्रपद्रेश से अलग हुआ तेलंगाना।

2017 का राजनीतिक नक्शा-3 साल बाद भाजपा और सहयोगियों की यूपी सहित 17 राज्यों में सरकार, 61 प्रतिशत आबादी भाजपा शासित राज्यों की।

Table Contain Shows the political map of 2017

Table Contain Shows the political map of 2017

भाजपा 8

1. मध्यप्रदेश

2. छत्तीसगढ़

3. गुजरात

4. राजस्थान

5. हरियाणा

6. उत्तर प्रदेश

7. उत्तराखंड

8. अरुणाचल

9. भाजपा गठबंधन 9

10. गोवा

11. जम्मू-कश्मीर

12. झारखंड

13. आंध्रप्रदेश

14. महाराष्ट्र

15. मणिपुर

16. नागालैंड

17. सिक्कम

18. असम

19. कांग्रेस 6

20. कर्नाटक

21. हिमाचल

22. पुडुचेरी

23. प्जाांब

24. मेघालय

25. मिजोरम

26. कांग्रेस गंठबंधन 1

27. बिहार

28. श्रीजनल 7

29. प्ां. बंगाल

30. त्रिपुरा

31. तेलंगाना

32. तमिलनाडु

33. ओडिशा

34. केरल

35. दिल्ली

2 जून 2014 को आंध्रप्रदेश से अलग हुए राज्य तेलंगाना में टीआरएस ने सरकार बनाई। केसीआर मुख्यमंत्री बनाए गए। इसके चुनुाव संयुक्त आंध्रपद्रेश में हुए थ।

गोवा, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में उठापठक कर बनाई अपनी सरकार: -

  • यहां पाई सफलता-2014 में मोदी के सत्ता में आने के बाद भाजपा ने हिरयाणा, महाराष्ट्र झारंखड, 2016 में असम और 2017 में उप्र, उत्तराखंड, गोवा मणिपुर में सरकार बनाई।
  • यहां गठबंधन-सिक्मिक नागालैंड, आंध्र, जम्म कश्मीर, महाराष्ट्र, झारखंड, असम, मणिपुर, गोवा में गठबंधन से सरकार बनाई। इनमें से 5 राज्यों में भाजपा के सीएम हैं।
  • यहां मजबूत हुए- भाजपा ने केरल में 1 विधानसभा सीट और पश्चिम बंगाल में 3 सींटे जीतकर खाता खोला। अरुणाचलन प्रदेश में दलबदल से सरकार बनाई।
  • यहां फेल हुए-2015 में भाजपा की सबसे बड़ी हार बिहार और दिल्ली में हुई। दिल्ली में 31 से 3 सीटों पर आ गई। 2017 में पंजाब में अकाली-भाजपा गठबंधन हारा।
  • कांग्रेस से टक्ककर- मप्र, राजस्थान, छत्तीसगढ़, गुजरात और हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस से सीधी टक्कर है। इनमें से हिमाचल को छोड़कर 4 राज्यों में भाजपा की सरकार है।
  • यहां मौजूदगी नहीं- तमिलनाडु, त्रिपुरा, पुडुचेरी, मेघालय, मिजोरम में भाजपा की एक भी सीट नहीं है, केवल वोट (मत) प्रतिशत बढ़ा है। पीर्टी (राजनीतिक दल) संघ के सहारे आधार मजबूत कर रही हैं।

अब आगे ये………. .

2017: गुजरात और हिमाचल प्रदेश में चुनाव

1. गुजरात-प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी के गृहराज्य में पहला चुनाव होगा। भाजपा की 4 बार से सरकार, 3 बार मोदी के नेतृत्व में जीता चुनाव।

कुल सीट: 182

Table Contain Shows the Total Seat 182

Table Contain Shows the Total Seat 182

भाजपा

121

कांग्रेस

57

अन्य

04

पटेल और दलित राजनीति से भाजपा बैकफुट पर आई है।

2. हिमाचल प्रदेश- मुख्यमंत्री वीरभ्रद सिंह पर भ्रष्टाचार के आरोपों से कांग्रेस बैकफुट पर। कांग्रेस और भाजपा दोनों गुटबाजी से परेशान हैं।

कुल सीट: 68

Table Contain Shows the Total Seat of Himachal Pradesh

Table Contain Shows the Total Seat of Himachal Pradesh

भाजपा

26

कांग्रेस

36

अन्य

06

लोकसभा चुनाव में सभी 4 सीटों पर भाजपा का कब्जा।

2018: राजस्थान सहित 8 राज्यों में चुनाव

1. राजस्थान- यहां हर चुनाव में सत्ता परिवर्तन होता रहा है। लोकसभा चुनाव में भाजपा ने क्लीनस्वीप (पुरा सफ़ाया) किया था।

कुल सीट: 200

Table Contain Shows the Total Seat of Rajasthan

Table Contain Shows the Total Seat of Rajasthan

भाजपा

161

कांग्रेस

24

अन्य

15

भाजपा गुत्तबाजी से परेशान। कांग्रेस ने सचिन पायलट को बढ़ाया।

2. छत्तीसगढ़-पिछली बार भाजपा जीती थी। अजीत जोगी के नई पार्टी (राजनीतिक दल) बनाने से त्रिकोणीय संघर्ष के आसार।

कुल सीट: 90

Table Contain Shows the Total Seat of Chhatisgath

Table Contain Shows the Total Seat of Chhatisgath

भाजपा

49

कांग्रेस

39

अन्य

02

कांग्रेस गुटबाजी की शिकार, भाजपा फिर रमन सिंह के भरोसे।

3. मध्यप्रदेश- शिवराज सिंह के नेतृत्व में भाजपा मैदान में उतरेगी। राज्य में लगातार 3 बार से पार्टी (दल) की सरकार है।

कुल सीट: 230

Table Contain Shows the Total Seat of Madhya Pradesh

Table Contain Shows the Total Seat of Madhya Pradesh

भाजपा

166

कांग्रेस

57

अन्य

07

कांग्रेस गुटबाजी से परेशान। व्यापमं कांड से भाजपा विचलित।

4. कर्नाटक-दक्षिण में पहली बार 2008 में भाजपा ने यहीं सरकार बनाई थी। यहां एक बार फिर से येदियुरप्पा को कमान सौंपी।

कुल सीट: 224

Table Contain Shows the Total Seat of Karnataka

Table Contain Shows the Total Seat of Karnataka

भाजपा

40

कांग्रेस

122

अन्य

62

देवेगौड़ा की जनता दल (एस) की भूमिका भी महत्वपूर्ण रहेगी।

5. मिजोरम-आरएसएस के सहारे भाजपा आधार मजबूत करने में जुटी।

कुल सीट: 40

Table Contain Shows the Total Seat of Mizoram

Table Contain Shows the Total Seat of Mizoram

भाजपा

00

कांग्रेस

34

अन्य

06

6. मेघालय- एनपीए से गठबंधन कर भाजपा यहां मैदान में उतरेगी।

कुल सीट: 60

Table Contain Shows the Total Seat of Meghalaya

Table Contain Shows the Total Seat of Meghalaya

Table Contain Shows the Total Seat of Meghalaya

Table Contain Shows the Total Seat of Meghalaya

भाजपा

00

कांग्रेस

29

अन्य

31

7. नागालैंड-एनपीएफ, भाजपा व निर्दलियों ने मिलकर सरकार बनाई है।

कुुल सीट: 60

Table Contain Shows the Total Seat of Nagaland

Table Contain Shows the Total Seat of Nagaland

भाजपा

04

कांग्रेस

00

अन्य

56

8. त्रिपुरा-लेफ्ट फ्रंट (वाम मोर्चा) की सरकार। इस बार भाजपा भी चुनौती।

कुल सीट: 60

Table Contain Shows the Total Seat of Tripura

Table Contain Shows the Total Seat of Tripura

भाजपा

00

कांग्रेस

10

अन्य

50

2019: लोकसभा चुनाव: -’मिशन 2019’ के तहत भाजपा ने लोकसभा की 400 सीटों को जीतने का लक्ष्य रखा है। भाजपा अमित शाह ने तैयारी शुरू कर दी है। वे उन राज्यों का दौरा कर रहे हैं, जहां भाजपा की मौजूदगी न के बराबर है। कांग्रेस ने भी संगठन में भारी फेरबदल की तैयारी शुरू कर दी है।

2019: जनवरी -मई विधानसभा चुनाव: - आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा, अरुणाचल, सिक्कम, पुडुचेरी में चुनाव होंगे। अभी आंध्र, अरुणाचल, सिक्किम में एनडीए की सरकारें हैं। अरुणाचल में पीपीए के 33 विधायक भाजपा में शामिल हो गए थे।

2019: जुन दिसंबर 3 राज्यों में चुनाव: -

  • महाराष्ट्र-भाजपा ने 2014 में पहली बार शिवसेना से गठबंधन किए बिना चुनाव लड़ा था और सबसे बड़ी पार्टी (दल) बनी थी। बीएमसी और अन्य स्थानीय निकाय चुनावों में मिली जीत से भाजपा के हौसले बुलंद हैं।
  • हरियाणा-वर्ष 2014 में भाजपा ने पहली बार यहां अपने दम पर सरकार बनाई थी। जाट आंदोलन से भाजपा की स्थिति कमजोर। अब मतों के ध्रवीकरण का ही सहारा।
  • झारखंड-भाजपा ने यहां गठबंधन सरकार बनाई है। पार्टी के बड़े नेताओं में गुटबाजी से हो सकता है नुकसान।

उपसंहार: - क्यां भारत बदल रहा है बड़े बदलाव की बयार लेकर 2014 में यूपीए सरकार को सत्ता से हटाकर एनडीए भारी बहुमत के साथ मोदी के नेतृत्व में सत्तासीन हुई। मोदी सरकार के बीते तीन साल की उपलब्धियों की चर्चा करें तो बात नकारात्मकता से शुरू होती है, लेकिन खत्म सकारात्मक परिणाम पर होती है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण है, हर बड़े निर्णय को योजनाबद्ध तरीके से लागू करना। इसलिए जब सरकार की नीतियों को मोदीफिकेशन नाम दिया गया तो इस पर ऐतराज जताने वाले कम ही नजर आए। यकीनन देश की अर्थव्यवस्था को बुलेट (बंधुक की गोली) गति देने के संसाधन ठोस धरातल पर तैयार है। एनालिस्टों (विग्रह करने वाला) में शेयर बाजार के 40 और 50 हजार होने की चर्चा का शुरू हो जाना इसके संकेत भी देता है कि देश नई उड़ान के लिए तैयार हो चुका है।

- Published/Last Modified on: June 11, 2017

News Snippets (Hindi)

Monthy-updated, fully-solved, large current affairs-2018 question bank(more than 2000 problems): Quickly cover most-important current-affairs questions with pointwise explanations especially designed for IAS, NTA-NET, Bank-PO and other competetive exams.