Science and Technology MCQs in Hindi Part 17 with Answers

Download PDF of This Page (Size: 824K)

1 स्मार्ट हवाई-क्षेत्र रोधी हथियार (Smart Anti Airfield Weapon-SAAW) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ यह हवा में 100 किलोमीटर की दूरी तक के लक्ष्य को उच्च परिशुद्धता से भेदने में सक्षम है।

SAAW का विकास इसरो ने अमेरिका के सहयोग से किया है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

अ केवल 1

ब) केवल 2

स) 1 और 2 दोनों

द) न तो 1 और न ही 2

उत्तर : (द)

व्याख्या:

  • स्मार्ट हवाई-क्षेत्र रोधी हथियार एक लंबी दूरी की हल्के उच्च परिशुद्धता निर्देशित एंटी (विरोधी) एयरफील्ड (हवाईक्षेत्र) हथियार है। यह 120 किलोग्राम वजनी एक स्मार्ट (नया) हथियार है, जो ज़मीन पर 100 किलोमीटर की दूरी के भीतर तक के लक्ष्य को उच्च परिशुद्धता से भेदने में सक्षम है। अत: कथन 1 गलत है।

  • SAAW का विकास रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) दव्ारा किया है। यह भारत का पूर्ण स्वदेशी एंटी एयरफील्ड शस्त्र परियोजना है, जिसकी स्वीकृति भारत सरकार ने सितंबर 2013 में दी थी। अत: कथन 2 गलत है।

  • उल्लेखनीय है कि SAAW का प्रयोग भारतीय वायु सेना के विभिन्न प्रकार के हथियारों के साथ एकीकृत कर किया जा सकता है।

2 निर्भय मिसाइल (अस्त्र) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ इसका विकास रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) दव्ारा किया गया है।

  • इसकी मारक क्षमता 700-1000 किलोमीटर तक है।

  • यह एक वायु से वायु नाभिकीय क्षमता से युक्त सुपर-सोनिक (पराध्वनिक) क्रूज़ (परिभ्रमण) मिसाइल (प्रक्षेपास्त्र) है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा /से सही है/हैं।

अ) केवल 1

ब) केवल 1 और 2

स) केवल 2 और 3

द) 1, 2 और 3

उत्तर : (ब)

व्याख्या:पेज 103

  • निर्भय एक सतह से सतह पर मार करने वाला सब-सोनिक क्रूज़ मिसाइल है, जिसका विकास रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) दव्ारा किया गया है। अत: कथन 1 सही है।

  • इसकी मारक क्षमता 700-1000 किलोमीटर तक है। यह अपनी एक उड़ान में कई लक्ष्यों को भेदने में सक्षम है । अत: कथन 2 सही है।

  • यह एक सतह से सतह मार करने में सक्षम नाभिकीय क्षमता से युक्त सब-सोनिक क्रूज़ मिसाइल है। अत: कथन 3 गलत है।

    Image of Super Sonic Missile

    प्उंहम व ैनचमत ैवदपब डपेेपसम

    प्उंहम व ैनचमत ैवदपब डपेेपसम

3 हाल ही में भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने हथियार और गोला-बारूद के उत्पादन को ’मेक (बनाना) इन (में) इंडिया (भारत)’ अभियान के तहत बढ़ावा देने और इस क्षेत्र में रोज़गार बढ़ाने के लिये नियमों को उदार बनाया है। इस संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ उत्पादन के लिये दिया गया लाइसेंस (अधिकार) अब हमेशा के लिये वैध होगा।

  • प्रत्येक 5 वर्ष के बाद लाइसेंस के नवीकरण की शर्त को हटा दिया गया है।

  • यदि अनुमति से 15 फीसदी अधिक का उत्पादन किया जाता है तो इसके लिये सरकार से स्वीकृति लेने की आवश्यकता नहीं होगी।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा /से सही है/हैं।

अ) केवल 1 और 2

ब) केवल 2

स) केवल 1 और 3

द) 1, 2 और 3

उत्तर : (द)

व्याख्या: उपर्युक्त सभी कथन सही हैं।

  • हाल ही में भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने हथियार और गोला-बारूद के उत्पादन को ’मेक इन इंडिया’ अभियान के तहत बढ़ावा देने और इस क्षेत्र में रोज़गार बढ़ाने के लिये नियमों को उदार बनाया है।

  • इस संबंध में बनाए गए नए नियम छोटे हथियारों के निर्माण के लिये प्रदान किये जाने वाले लाइसेंसों (अधिकारों) पर लागू होंगे।

  • साथ ही ये नियम औद्योगिक नीति एवं संवर्द्धन विभाग के तहत लाइसेंस प्राप्त करने वाले टैंक (तोप से सज्जित इस्पाती गाड़ी), हथियारों से लैस (कम) लड़ाकू वाहन, रक्षक विमान, स्पेस (अंतरिक्ष) क्राफ्ट (यान), युद्ध सामग्री और अन्य हथियारों के पुर्जे तैयार करने वाली इकाईयों पर लागू होंगे।

नियमों को उदार बनाने के लिए उठाए गए कदम निम्नलिखित हैं-

  • उत्पादन के लिये दिया गया लाइसेंस अब हमेशा के लिये वैध होगा।

  • प्रत्येक 5 वर्ष के बाद लाइसेंस के नवीकरण की शर्त को हटा दिया गया हे।

  • हथियार उत्पादकों दव्ारा निर्मित छोटे और हल्के हथियारों को केन्द्र और राज्य सरकारों को बेचने के लिये गृह मंत्रालय की पूर्व अनुमति की अब जरूरत नहीं होगी।

  • जितने उत्पादन की अनुमति है अगर उससे 15 फीसदी अधिक का उत्पादन किया जाता है तो इसके लिये सरकार से स्वीकृति की आवश्यकता नहीं होगी।

  • सिर्फ उत्पादक इकाई को लाइसेंस देने वाले प्राधिकरण को सूचना देनी होगी।

4 भारतीय बैलिस्टिक (प्राक्षेपिक) मिसाइल (अस्त्र) रक्षा कार्यक्रम के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ इसका उद्देश्य बैलिस्टिक मिसाइल हमलों से बचने के लिये बहु-बहुस्तरीय बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली विकसित करना है।

  • यह एक चार-स्तरीय बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली है।

  • यह 5000 किलोमीटर दूर से आ रही मिसाइल को मार गिरा सकती है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा /से सही है/हैं।

अ) केवल 1 और 2

ब) केवल 2

स) केवल 1 और 3

द) 1, 2 और 3

उत्तर : (स)

व्याख्या:

  • भारतीय बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा कार्यक्रम का उद्देश्य बैलिस्टिक मिसाइल हमलों से बचने के लिये बहु-बहुस्तरीय बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली विकसित करना है। अत: कथन 1 सही है।

  • यह जमीन और समुद्र आधारित दो-स्तरीय इंटरसेप्टर (सेना वायुयान) मिसाइल (अस्त्र) रक्षा प्रणाली है। इसके अंतर्गत अधिक ऊँचाई की मिसाइल को मार गिराने के लिए पृथ्वी एयर (हवाई) डिफेंस (रक्षा) तथा कम ऊँचाई की मिसाइल को मार गिराने के लिये एडवांस (अग्रिम) एयर (वायु) डिफेंस (एएडी) नामक मिसाइलों को विकसित किया गया है। अत: कथन 2 गलत है।

  • यह दोनों मिसाइलें 5000 किलोमीटर दूर से आ रही मिसाइलों को मार गिराने में सक्षम हैं। अत: कथन 3 भी सही है।

5 भारत स्थित न्यूट्‌िनों वेधशाला के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ नेशनल (राष्ट्रीय) ग्रीन (हरित) ट्रिब्यूनल (न्यायालय) दव्ारा भारत स्थित न्यूट्रिनों वेधशाला को दी गई पर्यावरण संबंधी मंजूरी को स्थगित कर दिया गया है।

  • यह केरल तथा तमिलनाडु की सीमा पर स्थित है।

  • जिओ-न्यूट्रिनों का अध्ययन भूकंप चेतावनी प्रणाली में सहयोगी सिद्ध हो सकता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा /से सही है/हैं।

अ) केवल 1

ब) केवल 1 और 2

स) केवल 3

द) 1, 2 और 3

उत्तर : (द)

व्याख्या: उपर्युक्त सभी कथन सही हैं।

नेशनल (राष्ट्रीय) ग्रीन (हरित) ट्रिब्यूनल (कचहरी) दव्ारा भारत स्थित न्यूट्रिनों वेधशाला को दी गई पर्यावरण संबंधी मंजूरी को स्थगित कर दिया गया है। यह केरल तथा तमिलनाडु की सीमा पर स्थित है। जिओ-न्यूट्रिनों का अध्ययन भूकंप चेतावनी प्रणाली में सहयोगी सिद्ध हो सकता है। विज्ञान के इस क्षेत्र से संबंधित अध्ययन को टोमोग्राफी कहा जाता है।

6 निम्नलिखित युग्मों में कौन-सा सही सुमेलित नहीं है? नीचे दिए गए कूट की सहायता से सही उत्तर चुने:

बैलिस्टिक (प्रक्षेप) मिसाइल (अस्त्र) विशेषता

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ पृथ्वी - सतह से सतह पर मार करने वाली कम दूरी की मिसाइल।

  • अग्नि - सतह से सतह पर मार करने वाली मध्यम दूरी की मिसाइल।

  • त्रिशुल - कम दूरी तथा कम ऊँचाई की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल।

  • नाग - सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल।

उपर्युक्त युग्मों में से कौन-सा/से सही है/ हैं?

अ) केवल 1

ब) केवल 2 और 3

स) केवल 1, 2 और 3

द) 1, 2, 3 और 4

उत्तर : (स)

व्याख्या:

  • आकाश सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल है। अत: युग्म 4 गलत है। अन्य सभी युग्म सही हैं।

  • उल्लेखनीय है कि मिसाइल के क्षेत्र में आत्मनिर्भरता के लिये चिकित्सक अब्दुल कलाम के नेतृत्व में मिसाइलों को विकसित करने से संबंधित प्रोग्राम (कार्यक्रम) की शुरुआत 1983 में की गयी।

7 हाल ही में रॉयल (राजसी) स्वीडिश अकादमी (विद्यापीठ) दव्ारा भौतिकी की नोबल लिसा पर कार्य करने वाले वैज्ञानिकों को दिया गया। लीसा के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों में विचार कीतिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ यह अंंतरिक्ष आधारित गुरुत्वाकर्षण तरंग डिटेक्टर (अनुसंधान करनेवाला) है।

  • यह तीन अंतरिक्षयानों का समूह है।

  • इसमें लेज़र इंटरफेरोमेट्री (व्यतिकरणमापी) का उपयोग करके गुरुत्वाकर्षण तरंगों को मापने का लक्ष्य रखा गया है।

नीचे दिये गए कूट की सहायता से सही उत्तर चुने:

अ) केवल 1

ब) केवल 2

स) केवल 1 और 3

द) 1, 2 और 3

उत्तर: (द)

व्याख्या:

लिसा अंतरिक्ष आधारित गुरुत्वाकर्षण तरंग डिटेक्टर है। यह तीन अंतरिक्षयानों का समूह है। इसमें लेजर इंटरफेरोमेट्री का उपयोग करके गुरुत्वाकर्षण तरंगों को मापने का लक्ष्य रखा गया है। द (यह) रॉयल (राजसी) स्वीडिश अकेडमी (विद्यापीठ) दव्ारा वर्ष 2017 का भौतिकी का नोबेल पुरस्कार गुरुत्वीय तरंगों की खोज करने वाले वैज्ञानिकों रैनर वीस, बैरी सी. बैरिश एवं किप एस. थॉर्न को संयुक्त रूप से प्रदान किया गया। उल्लेखलीय है कि इस वर्ष भौतिकी का नोबल पुरस्कार प्राप्त करने वाले तीनों वैज्ञानिक अमेरिका के हैं।

8 हाल ही चर्चा में रहे ’आइन्स्टाइन रिंग’ के संदर्भ में कौन-सा कथन सही है?

अ) यह एक खगोलीय परिघटना है।

ब) यह अंतरिक्ष दूरबीन है जिससे सूक्ष्म ग्रहों के अध्ययन में सहायता मिलेगी।

स) रोबोटिक यान है जो अंतरिक्ष यात्रियों तक आवश्यक वस्तुएं पहुंचाएगा।

द) बुहस्पति पर खोजा गया नया वलय है।

उत्तर : (अ)

व्याख्या: ’ आइन्स्टाइन रिंग’ यह एक खगोलीय परिघटना है। यह कई मिलियन (दस लाख) दूर स्थित आकाशगंगाओं के एक सीधी रेखा में आने पर घटित होती है।

Image of Galaxy gravitation

प्उंहम व ळंसंगल हतंअपजंजपवद

प्उंहम व ळंसंगल हतंअपजंजपवद

9 हाल ही में दुनिया की सबसे बड़ी लेज़र बंदूक तैयार की गई है। इसके संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ इसका नाम यूरोपीय एक्स-रे फ्री (स्वतंत्र) इलेक्ट्रान (विद्युत) लेज़र है।

  • इसे 11 देशों के वित्त पाेेषण से तैयार किया गया है।

  • उसकी सहायता से वैज्ञानिक अब विषाणुओं या कोशिकाओं के विवरणों को समझने, उनकी 3-डी छवियाँ तैयार करने एवं रासायनिक प्रतिक्रियाओं को रिकॉर्ड (लिखित प्रमाण) करने में सक्षम हो सकेंगे।

नीचे दिए गए कूट की सहायता से सही उत्तर चुनें:

अ) केवल 1

ब) केवल 2

स) केवल 1 और 3

द) 1, 2 और 3

उत्तर: (द)

व्याख्या: उपर्युक्त सभी कथन सही हैं।

  • इसका नाम यूरोपीय एक्स-रे फ्री इलेक्ट्रान लेज़र है।

  • इसे 11 देशों के वित्त पाेेषण से तैयार किया गया है। यह परमाणुओं, विषाणुओं और रासायनिक प्रक्रियाओं को भी जानने में सहायक होगी।

  • उसकी सहायता से वैज्ञानिक अब विषाणुओं या कोशिकाओं के विवरणों को समझने, उनकी 3-डी छवियाँ तैयार करने एवं रासायनिक प्रतिक्रियाओं को रिकॉर्ड करने में सक्षम हो सकेंगे।

10 हाल ही में पृथ्वी के समरूप खोजे गए ग्रह प्राक्सिमा-बी के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ इसका भी एक वर्ष पृथ्वी के समान 365 दिन का होता है।

  • इस ग्रह की अवस्थिति ’ऊष्ण’ क्षेत्र में है।

  • सूर्य के समान इस ग्रह का भी एक तारा है जो सूर्य से अधिक चमकीला है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/ हैं?

अ) केवल 1

ब) केवल 1 और 2

स) केवल 1 और 3

द) 1, 2, और 3

उत्तर : (द)

व्याख्या:

  • पृथ्वी के समरूप खोजे गए प्राक्सिमा-बी ग्रह का एक वर्ष पृथ्वी के समान 365 दिन का नहीं बल्कि सिर्फ 11 दिन का होता है। अत: कथन 1 गलत है।

  • इस ग्रह की अवस्थिति ’ऊष्ण’ क्षेत्र में नहीं बल्कि ’शीतोष्ण क्षेत्र’ में है। अत: कथन 2 गलत है।

  • सूर्य के समान इस ग्रह का भी एक तारा है जो आकार में सूर्य के 12वें भाग के बराबर है तथा सूर्य से कम चमकीला है अधिक चमकीला नहीं। अत: कथन 3 गलत है।

Image of Earth size nearby solar system

Image of Earth Size Nearby Solar System

Image of Earth size nearby solar system