General Hindi Sample Subjective Questions Part 3 forCompetitive Exams 2020

Doorsteptutor material for competitive exams is prepared by world's top subject experts: fully solved questions with step-by-step explanation- practice your way to success.

Download PDF of This Page (Size: 161K)

7 (अ) निम्नलिखित शब्द-युग्मों का अर्थ लिखकर वाक्यों में प्रयोग दव्ारा उनका अंतर स्पष्ट कीजिए:

(क) अभिराम-अविराम

(ख) कपीश-कपिश

(ग) क्रत-क्रीत

(घ) निमित्त-नमित

(ङ) रोचक-रेचक।

7 (ब) निम्नलिखित शब्दों के तद्भव रुप लिखिए:

(क) त्वरित

(ख) श्रृंगार

(ग) चतुर्थ

(घ) अमूल्य

(ङ) उत्साह

8 (अ) निम्नलिखित गद्यांश का हिन्दी अनुच्छेद कीजिए:

India is the largest democracy in the world. About sixty crores of people have the right of vote to elect members of the Legislative Assemblies of the states and the Lok Sabha at the centre. We have had fourteen general elections to the Lok Sabha and many more to the legislative assemblies since the enforcement of our constitution on January 26, 1950. All these years have been marked by democratic activity which has given credibility to Indian democracy. While in our neighbourhood both in the west and in the east and to some extent in the north, Dictatorship of the various brands have risen and continue to maintain themselves, Indian democracy has stood the test of time and has earned the admiration of the peoples the world over.

8 (ब) निम्नलिखित गद्यांश का अंग्रेजी में अनुवाद कीजिए:

गाँधी जी की अदव्तीय देन यह है कि उन्होंने पूँजीवाद और समाजवाद का समन्वय किया। उनके ट्रस्टीशिप के सिद्धांत का यह लक्ष्य है। गाँधी जी अमीरों से धन छीनकर गरीबों में बाँटने में विश्वास नहीं रखते थे। ये अमीरों के फालतू धन को अमीरों दव्ारा ही समाज के भले के लिए ट्रस्ट में रखना चाहते थे। गाँधी जी का यह विचार आजकल बहुत सार्थक है, क्योंकि मार्क्स के प्रकार के समाजवाद की स्थापना या पूँजीवाद को नष्ट करना संभव नहीं हैं। ट्रस्टीशिप के सिद्धांत दव्ारा गाँधी जी ने समाजवाद और पूँजीवाद के बीच का एक रास्ता निकाला।

9 निम्नलिखित विषयों में से किसी एक पर लगभग 300 शब्दों में निबंध लिखिए:

  • भारतीय किसान

(अ) भारतीय किसान का परिचय।

(ब) भारतीय किसान की दयनीय स्थिति के कारण।

(स) भारतीय किसान और बाजारवाद।

(द) किसान की दशा में सुधार के उपाय।

  • मूल्यवृद्धि : कारण और निवारण

(अ) मूल्यवृद्धि से तात्पर्य।

(ब) मूल्यवृद्धि का अर्थव्यवस्था पर प्रभाव।

(स) मूल्यवृद्धि और आम जनं

(द) मूल्यवृद्धि निवारण के उपाय।

  • सामाजिक सद्भाव

(अ) सांप्रदायिकता से तात्पर्य

(ब) सांप्रदायिकता क्यों?

(स) सांप्रदायिकता के दुष्परिणाम।

(द) सांप्रदायिक सद्भाव की आवश्यकता और प्रयत्न।

10 निम्नलिखित में से किन्हीं चार पर टिप्पणियाँ लिखिए:

  • शासकीय आवास-आवंटन हेतु आवेदन का प्रारूप।

  • टिप्पण की आवश्यकता और महत्व।

  • हिन्दी का भविष्य।

  • अनुवाद की समस्याएँ।

  • भाषा में मुहावरे और कहावतों के प्रयोग का महत्व।

  • विभिन्न अनुशासनों में पारिभाषिक शब्दावली की आवश्यकता।

Developed by: