आचार संहिता (Code of Ethics – Part 14)

Download PDF of This Page (Size: 175K)

खंड 1: शासन में ईमानदारी

1. लोकतंत्र में खबरों के प्रसारण का बुनियादी उद्देश्य है, लोगों को शिक्षित करना और उन्हें यह बताना कि देश में क्या हो रहा है ताकि देश की जनता महत्वपूर्ण घटनाओं को भली भांति समझ सके और उनके बारे में अपने मुताबिक निष्कर्ष निकाल सके।

2. सभी प्रसारणकर्ताओं को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि किसी भी समाचार को संपूर्ण और निष्पक्ष रूप से प्रस्तुत किया जाए क्योंकि प्रत्येक समाचार चैनल की बुनियादी जिम्मेदारी एक जैसी ही होती है। लोकतंत्र में सभी प्रकार के दृष्टिकोणों को प्रस्तुत करने की अहमियत को महसूस करते हुए प्रसारणकर्ताओं को यह सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी अपने ऊपर लेनी चाहिए कि विवादित विषयों को बिना किसी पक्षपात के पेश किया जाएगा और उसमें प्रत्येक दृष्टिकोण के लिए पर्याप्त समय दिया जाए। इसके अलावा सामाचार सामग्री के चयन के समय भी जनहित को सबसे ऊपर रखा जाए और किसी भी लोकतंत्र में उन समाचार सामग्रियों के महत्व के आधार पर उन्हें चुना जाए।

खंड 2: आत्म नियंत्रण का सिद्धांत

• खुद पर नियंत्रण रखने के लिए न्यूज ब्राडकास्टर्स (समाचार प्रसारण) एसोसिएशन (संगति) ने साझा रूप से स्वीकार किए गए सामग्री संबंधी दिशा निर्देश तैयार किए हैं। इसका उद्देश्य संपादकीय सिद्धांतों को परिभाषित करना है, जो भारत के संविधान में उल्लिखित अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के सिद्धांत और तत्वों से पूरी तरह मेल खाते हैं। इसके अलावा इन दिशानिर्देशों में नियामक ढांचा तैयार किया गया है, जो टेलीविजन दर्शकों की भावनाओं का ध्यान में रखकर बनाया गया है।

• आत्म नियंत्रण के लिए बनाए गए इन दिशा निर्देशों का उद्देश्य उन बुनियादी मूल्यों और लक्ष्यों को समझते हुए उनकी उदघोषणा करना और उनका भली भांति पालन करना है, जिन्हे समाचार चैनल अंगीकार करते हैं। इनका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि ये सिद्धांत कार्य में भी दिखाई दें महज शब्दों में ही नहीं।

• आत्म नियंत्रण के सभी सिद्धांतों को एक साथ रखने का उद्देश्य प्रसारित होने वाली किसी भी ऐसी सामग्री के माध्यम से टेलीविजन समाचार की शुचिता के साथ समझौता होने से रोकना है, जो कि पक्षपात पूर्ण, विपरीतगामी, जानबूझकर गलत, नुकसान पहुंचाने वाली और भ्रामक है तथा हितों के टकराव को छुपाने के लिए जानबूझ कर प्रसारित की जा रही है।

• आत्म नियंत्रण के इन सिद्धांतों का उद्देश्य टेलीविजिन पत्रकारिता के पेशे को मजबूत करना और उसके लिए मूल्यों की ऐसी संहिता तैयार करना है, जो लंबे समय तक कायम रहेगी और यह सुनिश्चित करेगी कि भारत के लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए संतुलित और समग्र पत्रकारिता फलती फूलती रहे।

• नीचे ऐसे कुछ क्षेत्रों के बारे में विस्तार से बताया गया है, जहां प्रसारणकर्ताओं को आत्म नियंत्रण की सबसे ज्यादा जरूरत पड़ती है।