ILEDTHEWAY अभियान (IledTheWay Campaign – Environment And Economy)

Download PDF of This Page (Size: 178K)

ऊर्जा बचत हेतु एलईडी बल्ब के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार ने यह अभियान चालू किया है।

टैग (खाली सिरा) लाइन (रेखा) : टू (की ओर) मैक (बनना) इंडिया (भारत) ब्राइटर (उज्जवल) एंड (और) स्मार्टर (होशयार)

सुर्खिंयों में क्यों

विद्युत, कोयला और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री ने www.iledtheway.in वेबसाइट का शुभारंभ किया।

इस माइक्रो वेबसाइट का महत्व

• यह माइक्रो (सूक्ष्म) वेबसाइट भारत के सभी नागरिकों तक अपनी पहुँच सुनिश्चित करेगी और एनर्जी (ऊर्जा) एफिशिंएसी (दक्षता) सर्विसेज (सेवा) लिमिटिड (सीमित) (ईईएसएल) पहल #iLEDtheway के देशव्यापी अभियान के बारे में जागरूकता का प्रसार करेगी।

• इस वेबसाइट (संचार प्रौद्योगिकी/वेब स्थल) के माध्यम से उपभोक्ता एलईडी बल्ब उपयोग करने की शपथ ले सकते हैं। एलईडी बल्ब अन्य बल्बों की तुलना में सस्ते व अधिक प्रकाश युक्त होते हैं तथा कम ऊर्जा की खपत करते हैं।

• इस योजना के तहत ईईएसएल दव्ारा घरेलू कुशल प्रकाश कार्यक्रम शुरू किया गया है और उपभोक्ताओं को करीब 2.4 करोड़ एलईडी बल्ब वितरित किये गए हैं।

• सरकार इस योजना के तहत तीन साल में करीब 77 करोड़ परंपरागत बल्बों और सीएफएल की जगह एलईडी बल्ब लगाना चाहती है। साथ ही 3.5 करोड़ स्ट्रीट (सड़क) लाइट (रोशनी) भी एलईडी बल्ब से ही रोशन होगी। इस प्रकार यह दुनिया का सबसे बड़ा एलईडी आधारित लाईटिंग (रोशनी) कार्यक्रम है।

• लाइट (रोशनी) एमिटिंग (उत्सर्जक) डायोड्‌स (एक विद्युतीय उपकरण जिसमें विद्युत धारा केवल एक दिशांं में प्रवाहित होती है) (एलईडीएस), ऊर्जा दक्ष तथा पारा मुक्त होने के कारण पर्यावरण अनुकूल माने जाते हैं।

• संभाव्य संसाधनों की कमी से उत्पन्न होने वाला पर्यावरणीय बोझ मुख्यत: गोल्ड (सोना) और सिल्वर (चांदी) से उत्पन्न होता है जबकि संभाव्य विषाक्ता से संबंद्ध पर्यावरणीय बोझ मुख्यत: आर्सेनिक, कॉपर (पीपा बनाने वाला), निकल, लेड, आयरन (लोहा) तथा सिल्वर (चांदी) से जुड़ा है।