कोरिंग वन्य जीवन अभयारण्य (Koringa Wildlife Sanctuary – Environment And Ecology)

Download PDF of This Page (Size: 164K)

अभ्यारण्य में प्रवासी पक्षियों की संख्या में वृद्धि का कारण

• पुलिकट झील में कीचड़ युक्त तालाबों का सूखना।

• प्लाइंट कैलिमेर का गिरता जलस्तर।

कोरिंग वन्य जीवन अभ्यारण्य

• यह भारत में पश्चिम बंगाल के सुंदरवन डेल्टा (नदी मुख-भूमी) के बाद दूसरा सबसे बड़ा मैंग्रोव वन क्षेत्र है।

• यहाँ मैंग्रोव की कुल 24 प्रजातियाँ पाई जाती है।

• यहाँ 94 प्रवासी पक्षियों की प्रजातियों सहित पक्षियों की कुल 266 प्रजातियाँ पाई जाती हैं।

• प्रवासी पक्षी आर्कटिक क्षेत्र, रूस, चीन और मंगोलिया से आते हैं।