नये ई-अपशिष्ट प्रबंधन नियम (New E-Waste Management Rules – Environment And Economy)

Download PDF of This Page (Size: 178K)

पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने ई-अपशिष्ट (प्रबंधन तथा निपटान) नियम, 2016 को अधिसूचित किया है। यह ई-अपशिष्ट प्रबंधन नियम, 2011 का स्थान लेगा।

मुख्य विशेषताएँ

प्रासंगिकता

• इससे पहले यह केवल उत्पादकों और उपभोक्ताओं, विघटनकर्ताओं और पुन: चक्रणकर्ताओं पर लागू था। अब इसे निर्माता, व्यापारी, नवीकरणकर्ताओं और उत्पादक दायित्व संगठन (पीआरओ) तक बढ़ा दिया गया है।

• इससे पहले केवल इलेक्ट्रिक (बिजली से चलने वाला) और इलेक्ट्रॉनिक (विद्युतीय) उपकरणों को कवर (आवरण) किया गया था। अब उनके घटकों और स्पेयर (अतिरिक्त) पाट्‌र्स (हिस्सा) को भी कवर किया गया है। कांपैक्ट (समझौता) फ्लोरेसेंट (प्रतिदीप्त/देदीप्यमान) लैंप (चिराग) (सीएफएल) तथा मरकरी वाले अन्य लैंप और ऐसे अन्य उपकरण भी शामिल किए गए हैं।

विस्तारित उत्पादक उत्तरदायित्व

• विस्तारित उत्पादक उत्तरदायित्व (ईपीआर) एक ऐसी रणनीति है जो किसी उत्पाद के संपूर्ण जीवन काल के दौरान आई पर्यावरणीय लागत और उसके बाजार मूल्य को एकीकृत करने को प्रोत्साहित करती है।

• ई-अपशिष्ट के तहत स्वतंत्र कंपनियाँ (संघों) उन उपकरणों की बिक्री करने और खरीदने की सेवाओं की पेशकश कर सकती हैं जिनका जीवन-काल समाप्त हो चुका है।

• संग्रहण अब उत्पादक की अनन्य जिम्मेदारी है। इसके लिए अलग से किसी अनुमोदन की आवश्यकता नहीं होगी जैसा कि पूर्व में आवश्यक था।

• संग्रहण के लिए एक लक्ष्य आधारित दृष्टिकोण अनिवार्य कर दिया गया है। पहले चरण में यह उत्पन्न कचरे की मात्रा का 30 प्रतिशत है और अंतत: 7 साल में इसे 70 प्रतिशत किया जाएगा।

बड़े उपभोक्ताओं का उत्तरदायित्व: इन्हें अनिवार्य रूप से वार्षिक रिटर्न (वापसी) फाइल (नत्थी) करना है। स्वास्थ्य सुविधाओं को परिभाषा में जोड़ा गया है।

राज्य सरकार की भागीदारी: नियमों के प्रभावी क्रियान्वयन और इसके साथ ही ई- अपशिष्ट प्रबंधन के क्षेत्र में लगे श्रमिकों का कल्याण, सुरक्षा तथा स्वास्थ्य सुनिश्चित करने की भूमिका राज्य सरकारों की है।

• विनिर्माण चरण के दौरान खतरनाक पदार्थों में कमी लाने की प्रावधानों को मौजूदा यूरोपीय संघ के नियमों के अनुरूप लाया गया है। गैर-अनुपालन के मामले में उत्पाद को हटाने और उसके वापस लेने के लिए प्रावधान जोड़ा गया है।