निर्माण और विध्वंस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए नए नियम (New Rules For Construction And Vandalism Waste Management)

Download PDF of This Page (Size: 170K)

• भारतीय शहरों में वायु पदूषण का एक प्रमुख कारण निर्माण गतिविधियाँ है।

• भारत में प्रतिवर्ष 530 मिलियन (दस लाख) टन (एक बड़ा पीपा) निर्माण और विध्वंस अपशिष्ट उत्पन्न होता है।

• वर्तमान में इसे मौजूदा नगर निगम ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियम के तहत प्रबंधित किया जा रहा है।

• स्थानीय प्राधिकारियों पर जिम्मेदारी

• स्पाूंर्ण अपशिष्ट प्रबंधन योजना को स्थानीय प्राधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत करने के बाद ही अब निर्माण और विध्वंस की अनुमति प्रदान की जाएगी।

• अवैध रूप से अपशिष्ट निपटान करने वालों पर अंकुश लगाया जाएगा।

बड़े पैमाने पर अपशिष्ट सृजन करने वालों पर उत्तरदायित्व: इन्हें संग्रहण, परिवहन, प्रसंस्करण, और निपटान के लिए संबंधित प्राधिकारी दव्ारा अधिसूचित उचित शुल्क का भुगतान करना होगा।

पुर्नप्रयोग/पुन: उपयोग पर बल:

• स्थानीय प्राधिकारियों के लिए यह अनिवार्य है कि वे निर्माण और विध्वंस अपशिष्ट के 10-20 प्रतिशत का उपयोग नगर निगम और सरकारी ठेके में करें जैसे-नालियों को ढकने में।