थाणे क्रीक फ्लेमिंगो (राजहंस) अभयारण्य (Thane Creek Flamingo Sanctuary – Environment And Ecology)

Download PDF of This Page (Size: 137K)

§ महाराष्ट्र सरकार दव्ारा वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 के अनुच्छेद 18 के अंतर्गत थाणे क्रीक को फ्लेमिंगो अभ्यारण्य घोषित किया गया है।

§ यह मालबन के बाद महाराष्ट्र का दूसरा समुद्री अभ्यारण्य है।

§ इस अभ्यारण्य में नंवबर माह तक लगभग 30,000 पक्षी आ जाते हैं जो मई तक यहाँ रूकते हैं। मई के बाद प्रजनन हेतु ये पक्षी समुह गुजरात के भुज क्षेत्र में प्रवास कर जाते हैं।

§ इनमें लगभग 90 प्रतिशत छोटे फ्लेमिंगो और शेष ग्रेटर (बड़ा) फ्लेमिंगों (राजहंस) होते हैं।

§ अन्य प्रजातियों के पक्षी: लगभग 200 अन्य प्रजातियों के पक्षी भी आते हैं जिसमें वैश्विक स्तर पर संकटग्रस्त प्रजातियों जैसे कि ग्रेटर (बड़ा) स्पॉटेड (स्थान) ईगल (बाज) भी शामिल हैं।