जल क्रांति अभियान (Water Revolution Campaign – Environment And Economy)

Download PDF of This Page (Size: 173K)

• जल क्रांति अभियान जल सुरक्षा एवं जल संरक्षण विभिन्न पहलुओं के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए केंद्र सरकार का एक कार्यक्रम है।

’जल क्रांति अभियान’ के तहत अत्यधिक जल की किल्लत का सामना करने वाले दो गांवों का चयन ’जल ग्राम’ के रूप में किया जा रहा है।

• जल का अधिकतम एवं सतत उपयोग सुनिश्चित करने के लिए पंचायत स्तरीय समिति दव्ारा इन गांवो के लिए एक एकीकृत जल सुरक्षा योजना, जल संरक्षण, जल प्रबंधन एवं संबंधित गतिविधियों पर विचार किया जा रहा है।

• हर जल ग्राम से पंचायत के एक निर्वाचित प्रतिनिधि और जल उपयोगकर्ता संघ के एक प्रतिनिधि की पहचान जल मित्र/नीर नारी के रूप में की जा रही है और उन्हें प्रशिक्षित किया जा रहा है, ताकि जल से जुड़े मुद्दों के बारे में आम जागरूकता पैदा की जा सके तथा इसके साथ ही जल आपूर्ति से जुड़े दैनिक मुद्दों से निपटने के लिए उनका आवश्यक मार्गदर्शन भी किया जा सके।

• ’सुजलाम कार्ड’ (पत्रक) जिसका लोगो है-’वाटर सेव्ड(सुरक्षित रखना), वाटर प्रोडॅक्ट) (पानी , पानी उत्पाद) नामक एक कार्ड प्रत्येक जल ग्राम के लिए तैयार किया जा रहा है, जो सभी स्रोतों से गांव के लिए जल की उपलब्धता से जुड़ी जानकारी/वार्षिक स्थिति प्रदान करेगा।

• केंद्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) और केंद्रीय भूजल बोर्ड (मंडल) (सीजीडब्ल्यूबी) इसके कार्यान्वयन के लिए नोडल एजेंसियाँ (संघों) होंगी।

इसके निम्नलिखित उद्देश्य हैं

• पंचायती राज संस्थाओं और स्थानीय निकायों सहित सभी हितधारकों की जमीनी स्तर पर भागीदारी को सुदृढ़ बनाना।

• जल संसाधान के संरक्षण एवं प्रबंधन में परंपरागत ज्ञान के अंगीकरण/उपयोग को प्रोत्साहन देना।

• सरकार, गैर-सरकारी संगठनों, नागरिकों आदि की क्षेत्र स्तर की विशेषज्ञता का उपयोग करना।

• ग्रामीण क्षेत्रों में जल सुरक्षा के माध्यम से आजीविका सुरक्षा का संवर्धन करना।