अनिवासी भारतीयों के लिए राष्ट्रीय पेंशन (नौकरी समाप्ति के बाद का विशेष वेतन) योजना (National Pension Scheme For NRIs – Economy)

Download PDF of This Page (Size: 164K)

• केंद्र सरकार ने घोषणा की है कि अब अनिवासी भारतीयों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस) के खाते ऑनलाइन ही खुलवा सकते हैं। अभी तक अनिवासी भारतीय इस योजना में जुड़ने हेतु बैंको में केवल कागजी आवेदन पत्र के माध्यम से आवेदन कर सकते थे।

• इसके लिए अनिवासी भारतीयों को केवल एक इंटरनेट कनेक्शन (संयोजन) और एक आधार/पैन कार्ड की जरूरत होगी।

• इसके अलावा, अनिवासी भारतीयों को प्रत्यावर्तन और गैर-प्रत्यावर्तन आधार पर राष्ट्रीय पेंशन योजना खाता खोलने की अनुमति होगी।

• इन दोनों के लिए वे अपने एनआरई/एफसीएनआर/एनआरओ खातों को जोड़ सकते हैं। परिपक्वता या आंशिक निकासी के दौरान, एनपीएस फंड (ऋण प्रदान करना) केवल उनके एनआरओ खातें में जमा किया जाएगा।

प्रत्यावर्तन खाता: कानूनी तौर पर भारतीय रूपया विदेशी मुद्रा में हस्तांरित किया जा सकता है, अर्थात्‌ पैसा किसी विदेशी मुद्रा में परिवर्तित किया जा सकता है।

उदाहरण:एनआरई खाता(अनिवासी बाह्य खाता): बचत, चालू जमा और आवधिक जमा

एफसीएएनआर-बी खाता (विदेशी मुद्रा अनिवासी बैंक जमा)

गैर प्रत्यावर्तनीय खाता: पैसा किसी भी विदेशी मुद्रा में परिवर्तित नहीं किया जा सकता है।

उदाहरण: एनआरओ खाता (अनिवासी सामान्य रूपया खाता)-बचत, चालू जमा और आवधिक जमा।

महत्व

• दुनिया में भारतीय लोग दूसरे सबसे बड़े प्रवासी समूह हैं। करीब 290 लाख लोग 200 से अधिक देशों में रह रहे हैं और इनमें से 25 प्रतिशत लोग खाड़ी देशों में रहते हैं।

• विदेश में रोजगार करने के बाद भारत लौटने का इरादा रखने वाले अनिवासी भारतीयों को प्रत्यावर्तन और गैर -प्रत्यावर्तन दोनों योजनायें लुभाती हैं।

• खाड़ी या अन्य देशों में जाने वाले भारतीय एक निश्चित अवधि के लिए विदेश में रोज़गार करने के बाद भारत लौटने का विचार रखते हैं।

• एनपीस उनके बुढ़ापे की आय सुरक्षा के लिए एक दीर्घकालिक समाधान प्रदान कर सकती हैं।

• सक्रिय रिटर्न (वापस लौटाना), कम लागत, अनिवासी भारतीयों के लिए लचीलेपन की वजह से भी एनपीएस एक आर्कषक योजना है।

• इसके अलावा एनपीस को पेंशन निधि विनियामक और विकास प्राधिकरण दव्ारा विनियमित किया जा रहा है, जो पेंशन पर आश्रित वृद्ध जनसंख्या को आत्मविश्वास और विश्वसनीयता प्रदान करता है।