ब्रिक्स (Bricks – International Relations)

Download PDF of This Page (Size: 175K)

ब्रिक्स का सातवां शिखर सम्मेलन रूस के उफा नगर में जुलाई 2015 में आयोजित किया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ’इस कदम: टेन (दस) स्टेप्स (आगे बढ़ाना) फॉर (उद्देश्य से) द (यह) फ्यूचर (भविष्य)’ नाम से एक दस सूत्रीय पहल का प्रस्ताव रखा। ब्रिक्स देशों के नेताओं ने उफा घोषणापत्र को अपनाया है।

ब्रिक्स के बारे में

• ’ब्रिक्स’ नामक संक्षिप्तिकरण शुरू में गोल्डमैन (सैक्स (लिंग) के अर्थशास्त्री जिम हो ’नील, दव्ारा 2001 मे ब्राजील, रूस, भारत और चीन की अर्थव्यवस्थाओं के लिए विकास की संभावनाओं पर एक रिपोर्ट (समाचार) में दिया गया था।

• ब्रिक्स पांच प्रमुख उभरती अर्थव्यवस्थाओं जिसमें दुनिया की आबादी का 43 प्रतिशत सम्मिलित है, को एक मंच पर साथ लाना है। ब्रिक्स विश्व के सकल घरेलू उत्पाद में 37 प्रतिशत तथा विश्व व्यापार में 17 प्रतिशत हिस्सेदारी रखता है।

शिखर सम्मेलन

वर्ष

स्थान

महत्व

1.

जून 2009

येकाटेरिनबर्ग, रूस

2.

अप्रैल 2010

ब्राजीलिया, ब्राजील

3

अप्रैल 2011

सान्या, चीन

पहली शिखर बैठक जिसमें मूल ब्रिक देशों के साथ दक्षिण अफ्रीका भी शामिल हुआ।

4.

मार्च 2012

नई दिल्ली, भारत

ब्रिक्स केवल ने एक ऑटिकल फाइबर सबमरीन संचार केवल प्रणाली जो ब्रिक्स देशों के बीच दूरसंचार व्यवस्था उपलब्ध कराती है, की घोषणा की।

5.

मार्च 2013

डरबन, दक्षिण अफ्रीका

6.

जुलाई, 2015

उफ़ा, रूस

एससीओ-ईईयू (अर्थात शंघाई सहयोग संगठन एवं यूरेशियन इकॉनोमिक यूनियन) के साथ संयुक्त शिखर सम्मेलन

8वां ब्रिक्स सम्मेलन :भारत 15-16 अक्टूबर 2016 को गोवा में ब्रिक्स के आँठवे वार्षिक सम्मेलन की मेजबानी करेगा।

• अपनी अध्यक्षता के दौरान भारत एक पांच सूत्रीय उपागम अपनाएगा जिसमें संस्था निर्माण, क्रियान्वयन, एकीकरण, नवाचार एवं समेकन के साथ निरंतरता सम्मिलित है।