Major International Relations India And The World – Part 2

Download PDF of This Page (Size: 177K)

भारत - वियतनाम (India – Vietnam – International Relations India and the World)

रक्षा मंत्री ने वियतनाम की आधिकारिक यात्रा की।

रक्षा सहयोग

• वियतनाम, जो रूस निर्मित किलो क्लास (कक्षा) पनडूब्बियों के साथ चीन के विरद्ध एक नोसैनिक निवारक का निर्माण कर रहा है, भारत दव्ारा अपने पनडुब्बी कर्मियों को प्रशिक्षित करवाने के लिए उत्सुक है।

• इसने भारत-निर्मित ब्रह्योस सुपरसोनिक (ध्वनि के वेग से भी अधिक वेगशाली) क्रूज मिसाइल (युद्ध प्रक्षेपास्त्र) प्राप्त करने में भी रुचि व्यक्त की हैं।

• भारत ने हाल ही में वियतनाम को बॉर्डर (दो देशों की विभाजक सीमा) गाडर्स (रक्षक) के लिए अपतटीय गश्ती नौकाओं की खरीद के लिए 100 मिलियन अमेरिकी डॉलर का ऋण प्रदान किया है।

• रक्षा मंत्री की यात्रा इस ओर इंगित करती है कि भारत हिंद महासागर क्षेत्र में चीन की बढ़ती उपस्थिति का मुकाबला करने के लिए वियतनाम के साथ सैन्य संबंध बढ़ाने के लिए उत्सुक है।

भारत-अमेरिका, आतंकवाद विरोधी तंत्र में सहयोग (India – Us, Collaboration in Counter-Terrorism Mechanism – International Relations India and the World)

गृह मंत्रालय ने अमेरिका की आतंकवादी स्क्रीनिंग सेंटर (केंद्र) (टीएससी) दव्ारा व्यवस्थित किये गए वैश्विक आतंकी डेटाबेस (कंम्यूटर में संग्रहीत विशाल तथ्य सामग्री) में शामिल होने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किया।

• अमेरिका के दव्ारा पहले से ही 30 देशों के साथ ऐसे समझौतों को अंतिम रूप दिया गया है। द्रष्टव्य है कि टीएससी के डेटाबेस (कंम्यूटर में संग्रहीत विशाल तथ्य सामग्री) में 11,000 संदिग्ध आतंकियों के साथ उनकी राष्ट्रीयता, फोटो, उंगलियों के निशान, पासपोर्ट नंबर आदि ब्यौरा उपलब्ध है।

• रिसर्च एंड (खोज और) एनालिसिस (विश्लेषण) विंग (किसी भवन का खंड) और खुफिया ब्यूरों (सूचना और तथ्यों की जानकारी प्रदान करने वाला कार्यालय) (आईबी) ने भारत में आतंकी संदिग्धों के डेटाबेस (कंम्यूटर में संग्रहीत विशाल तथ्य सामग्री) तक संयुक्त राज्य अमेरिका को निर्बाध पहुंच करने का विरोध किया था।