एस्ट्रोबायोलोजी मिशन (Astrobiology mission – Science And Technology)

Download PDF of This Page (Size: 167K)

• नासा, मार्स सोसायटी (मंगल ग्रह समाज) ऑस्ट्रेलिया और बीरबल साहनी इंस्टीट्‌यूट ( शैक्षिक संस्थान) ऑफ़ (का) पैलियोबॉटनी, लखनऊ के वैज्ञानिकों का एक दल इस इस साल अगस्त में लद्दाख में एक आरोहण अभियान करेगा।

• इसका उद्देश्य इस क्षेत्र के कुछ भागों की स्थालाकृति और सूक्ष्म जीवों का मंगल ग्रह के परिवेश के साथ समानता का अध्ययन करना है।

• पहली बार भारत एक स्पेसवार्ड बाउंड (बाध्य होना) कार्यक्रम का हिस्सा है।

स्पेस बाउंड कार्यक्रम क्या है?

• यह नासा दव्ारा, एम्स में विकसित एक शैक्षिक कार्यक्रम है।

• इस कार्यक्रम का उद्देश्य है भाग लेने वाले वैज्ञानिक शोधकर्ताओं, शिक्षकों और छात्रों दव्ारा दुनिया के विभिन्न भागों में स्थित दूरस्थ और चरम वातावरण की यात्रा करना और एस्ट्रोबायोलॉजिकल प्रयोगों का संचालन करना तथा जैवमंडल में रहने वाले जीवधारियों की उत्पत्ति, भोजन और अनुकूलन के बारे में अध्ययन करना एवं अवलोकन करना।

• पिछला स्पेस बाउंड प्रयोग मोजावे रेगिस्तान, नामीब रेगिस्तान, अंटार्कटिका, आदि में आयोजित किया गया था।