हाइपोक्सिया और शीतदंश (Hypogia and Frostbite –Science And Technology)

Download PDF of This Page (Size: 135K)

• हाइपोक्सिया: यह एक ऐसी अवस्था है जिसमें शरीर या शरीर के एक भाग को पर्याप्त ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं प्राप्त होती।

• शीतदंश: यह एक चोट है जो शून्य से नीचे के तापमान पर शरीर के हिस्सों के अनावरण के कारण उत्पन्न होती है। ठंड के कारण त्वचा और उसके अंतर्निहित ऊतक जम जाते हैं। हाथ और पैर की उंगलियाँ और पाँव सबसे अधिक प्रभावित होते हैं लेकिन, नाक, कान और गाल सहित अन्य अंग भी शीतदंश से प्रभावित हो सकते हैं।

• हाइपोथर्मिया: यह शरीर के तापमान में एक संभावित खतरनाक गिरावट है, जो आम तौर पर ठंडे तापमान में लंबे समय तक रहने की वजह से होती है।

• उच्च तुंगता पल्मोनरी एडिमा: यह स्वास्थ्य से संबंधित एक ऐसी अवस्था है जिसमें फेफड़ों में गैस विनियम के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले खाली स्थान में होता है।

• उच्च तुंगता मस्तिष्क एडिमा: यह स्वास्थ्य से संबंधित एक ऐसी अवस्था है जिसमें तरल पदार्थ की वजह से मस्तिष्क में सूजन आ जाती है। यह ऊंचाई पर यात्रा करने के कारण उत्पन्न शारीरिक प्रभाव है।