औद्योगिक इन्टरनेट (Industrial Internet – Science And Technology)

Download PDF of This Page (Size: 176K)

औद्योगिक इन्टरनेट क्या है?

• इंटरनेट ऑफ़ (के) थिंग्स (किसी उद्देश्य के लिए प्रयुक्त आवश्यक वस्तु) के औद्योगिक एप्लीकेशन (औपचारिक प्रार्थनापत्र/आवेदनपत्र) को औद्योगिक इन्टरनेट कहा जाता है।

• औद्योगिक इन्टरनेट ऑफ थिंग्स से काफी नजदीकी से जुड़ा है और इसमें व्यावसायिक क्षेत्रों जैसे कि विनिर्माण, तेल और गैस, कृषि, रक्षा, खनन, परिवहन और स्वास्थ्य आदि में मौलिक रूपांतरण आमूल चूल परिवर्तन लाने की संभावना है। सामूहिक रूप से वैश्विक अर्थव्यवस्था का दो-तिहाई हिस्सा इन क्षेत्रों कों में सम्मिलित है।

औद्योगिक इन्टरनेट कैसे कार्य करता है?

• औद्योगिक इन्टरनेट वस्तुत: मशीन लर्निंग (अध्ययन से प्राप्त ज्ञान, जानकारी), बिग डाटा (बड़ा, आंकड़ा), इंटरनेट ऑफ़ (के) थिंग्स (किसी उद्देश्य के लिए प्रयुक्त आवश्यक वस्तु) और मशीन (यंत्र) से आंकड़े प्राप्त करने के लिए मशीन से मशीन संचार, वास्तविक समय में इसका विश्लेषण और इसके इस्तेमाल संबंधी कार्यो को एक साथ प्रस्तुत करता है।

• इसमें गुणवत्ता नियंत्रण, सतत और पर्यावरणीय संकल्पनाओं तथा समग्र आपूर्ति श्रृंखला दक्षता के लिए व्यापक क्षमता है।

• औद्योगिक इन्टरनेट का उपयोग परिवहन परियोजना में भी किया जा सकता है जैसे कि ड्राइवर (चालक) रहित कारों और इंटेलीजेंट (होशियार) रेल सड़क तंत्र में।

चुनौतियाँ

• औद्योगिक इन्टरनेट अब भी प्रारंभिक चरण में है और उद्योगों में औद्योगिक इन्टरनेट के निहितार्थ के संपूर्ण प्रभाव अभी आरंभिक अवस्था में है और यह पूर्णतया स्पष्ट नहीं है।

• लेकिन ऐसा कहा जाता है। कि ऊपर उल्लेखित क्षेत्रों में इंटरनेट का अनुप्रयोग काफी तेजी से बढ़ेगा। इसके लिए केवल काफी मात्रा में बैंडविड्‌थ की आवश्यकता ही नहीं होगी अपितु उससे भी महत्वपूर्ण पूरी तरह से विश्वसनीय और वास्तविक समय में अनुक्रिया की आवश्यकता होगी।

• उपभोक्ता इंटरनेट, अर्थात स्थलीय इंटरनेट (फाइबर, केबल या वाईफाई के माध्यम से) समस्या का समाधान नहीं है, क्योंकि

o नेवस्ट जेरेशन की उपग्रह प्रौद्योगिकियां मूलत: उच्च गति के साथ-साथ अत्यंत कम समय लेने वाली और उपग्रह गतिशीलता प्रदान करने के लिए उपलब्ध होती जा रही है।

o लागत: आईओटी की लागत भी कम होगी क्योंकि इस हेतु उपग्रह आधारित ब्रॉडबैंड उच्च प्रवाह क्षमता वाले उपग्रहों के साथ स्थलीय ब्रॉडबैंड की लागत से भी कम कीमत पर उपलब्ध होगी।

इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स के बारे में

• इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स वस्तुत: भौतिक उपकरणों, वाहनों, भवनों और इलेक्ट्रॉनिक्स (इस विषय के अध्ययन के लिए विज्ञान की शाखा) के साथ अंत: स्थापित अन्य वस्तुओ, सॉफ्टवेयर (कार्यक्रम जिनसे कंप्यूटर पर काम किया जाता है।), सेंसर और नेटवर्क (जाल तंत्र) कनेक्टिविटी का एक नेटवर्क है जो कि इन वस्तुओं का आंकड़ों के संग्रहण और विनिमय हेतु सक्षम बनता है।

• इस प्रकार इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स हमारे भौतिक दुनिया को कंप्यूटर (अभिलेखन करने का विद्युत उपकरण) आधारित प्रणाली में एकीकरण के लिए अवसर पैदा करता है और इसके परिणामस्वरूप बेहतर दक्षता के साथ-साथ सटीकता और आर्थिक लाभ में सुधार होता है।

• इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स आज के स्मार्ट सिटी (आर्कषक शहर) और स्मार्ट ऊर्जा प्रबंधन प्रणालियों के प्लेटफॉर्मों (मंचो) में से एक है। इसका प्रयोग कर फसल की उपज में सुधार किया जा सकता है, जिससे दुनिया की बढ़ती आबादी को भोजन प्रदान करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।