Major Science and Technology Developments – Part 9

Download PDF of This Page (Size: 176K)

मेघबीजन (Megbijn – Science and Technology)

कर्नाटक सरकार ने इस साल कम बारिश के कारण कृषि क्षेत्र में उत्पन्न संकट से निपटने के लिए मेघबीजन का फैसला किया है।

• मेघबीजन बादलों से प्राप्त होने वाली की मात्रा या प्रकार में परिवर्तन करने की एक विधि है। इस प्रक्रिया में ऐसे पदार्थो को ऊपरी हवा में छिड़क दिया जाता है जो आर्द्रताग्राही नाभिक अथवा बादल संघनन अभिकर्ता के रूप में कार्य कर सकें।

प्रक्रिया में प्रयुक्त रसायन: तरल प्रोपेन, सिल्वर (चाँदी) आयोडाइड, पोटेशियम आयोडाइड और शुष्क बर्फ (ठोस कार्बन डाइऑक्साइड)।

उपयोग

• एक विशेष क्षेत्र में वर्षा बढ़ाने के लिए

• ओला वृष्टि और कोहरे को रोकने के लिए

एम.टी.डी.एन.ए. (MTDNA –Science and Technology)

• माइटोकान्ड्रियल डी.एन. ए., माइटोकान्ड्रिया नामक कोशिकांग में पाया जाता है। अन्य महत्वपूर्ण डी.एन.ए. यूकैरेयोटिक कोशिकाओं के नाभिक में पाये जाते हैं।

• मनुष्यों में माइटोकान्ड्रियल डी.एन.ए. पूरी तरह से माता से वंशानुगत रूप से प्राप्त होते हैं।

• भारत के नृ-वैज्ञानिक सर्वेक्षण कार्यक्रम (एएनएसआई) के अंतर्गत विभिन्न आदिवासी समुदायों के माइटोकान्ड्रियल डी.एन.ए. का अध्ययन किया जा रहा है। यह सर्वेक्षण ’वर्तमान भारतीय जनसंख्या के आनुवांशिक उदव्कास से संबंधित डी.एन.ए. बहुरुपता अध्ययन’ के राष्ट्रीय अभियान के अंतर्गत किया गया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य मातृ परंपरा से आनुवांशिक विकास के संदर्भ को स्पष्ट करना तथा प्रागैतिहासिक काल में मनुष्यों के भारतीय उपमहादव्ीप में आगमन का अध्ययन करना है।