फिले-रोसेटा (Philae Rosetta – Science And Technology)

Download PDF of This Page (Size: 176K)

फिले क्या है: यह यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी का एक रोबोटिक लैंडर है जो धूमकेतु 67 p/churyumov-gerasimenko पर उतरने तक, पृथ्वी से प्रस्थान करने के बाद 10 वर्ष से अधिक समय तक रोसेटा (आरओएसइटीटीए) अंतरिक्ष यान के साथ रहा। 12 नंवबर 2014 को इस प्रोब ने किसी धूमकेतु के नाभिक पर पहली बार सॉफ्ट (नरम/सतह) लैंडिंग (उड़ान) कर कीर्तिमान स्थापित किया।

रोसेटा क्या है: धूमकेतु 67पी की परिक्रमा करने वाला मदरशिप (अंतरिक्ष यान)। फिले, रोसेटा के साथ संचार करता है जो प्राप्त आंकड़ों को पृथ्वी पर भेजता है।

मिशन के लक्ष्य

• धूमकेतु पदार्थ की तात्विक, समस्थानिक, आण्विक और खनिजीय संरचना पर ध्यान केंद्रित करना।

• सतही और उपसतही सामग्री के भौतिक गुणधर्मों के लक्षणों का वर्णन करना।

• नार्भिक की बड़े पैमाने की संरचना तथा चुंबकीय एवं प्लाज्मा पर्यावरण का अध्ययन।

• मिशन का प्रयास धूमकेतुओं के बारे में लंबे समय से बने रहस्यों को खोलना है जो बर्फ और धूल के आदिकालीन भंडार हैं जिनके बारे में वैज्ञानिकों को मानना है कि वे सौर मंडल के निर्माण का रहस्य प्रकट कर सकते हैं।

रोसेटा की खोजें

• पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति के लिए महत्वपूर्ण माने गए अवयव जिनके विषय में ईएसए का रोसेटा अंतरिक्ष यान पिछले दो वर्षो से अन्वेषण कर रहा था, धूमकेतु पर पाए गए है।

• रोसेटा अंतरिक्ष यान ने एक जांच मिशन भेजा जिसने फॉस्फोरस एवं एमिनो अम्ल ग्लाइसिन सहित जीवन की कुछ मूलभूत इकाइयों की धूमकेतु पी67 पर खोज की।

• ग्लाइसिन सामान्यत: प्रोटीनी में पाया जाता है। एवं फॉस्फोरस डी एन ए का मुख्य पदार्थ है।

• महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि पिछले 4.5 अरब वर्षों में भी धूमकेतु में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है अत: उनमें वही तत्व हैं जो बिना हमारे सूर्य या ग्रहों के निर्मित हो सकते हैं। इसका यह अर्थ हुआ की एमिनो अम्ल सार्वभौमिक प्रकृति के हैं।

• निष्कर्ष प्रमुख रूप से यह बताते हैं कि यदि धूमकेतुओं ने पृथ्वी पर जीवन के लिए महत्वपूर्ण पदार्थों को हस्तांतरित किया है तो किसी और ग्रह पर भी किया होगा इस प्रकार दूसरे ग्रहों पर भी जीवन के पाए जाने की संभावना है।

• सिवाय ऊर्जा के धूमकेतु जीवन के सभी अनिवार्य तत्वों को धारण करता है।