उदयपुर सौर वेधशाला में बहु-अनुप्रयोग सौर दूरबीन (एमएएसटी) क्रियाशील हुई (Udaipur Solar Observatory has a Multi-Functional Application of Solar Telescope –Science And Technology)

Download PDF of This Page (Size: 175K)

उद्देश्य और महत्व

• सौर गतिविधि का चुंबकीय क्षेत्र सहित विस्तृत अध्ययन। सौर गतिविधियों के इस अध्ययन से भविष्य में अंतरिक्ष मौसम के पूर्वानुमान की सुविधा होगी।

• यह सौर चुंबकीय क्षेत्र के त्रिविमीय (3-डी) पहलुओं का पकड़ने में सक्षम है। इससे वैज्ञानिक विकृत चुंबकीय क्षेत्र में होने वाले विस्फोट और सौर चमक को बेहतर ढंग से समझ पाएंगें।

• उदयपुर सौर वेधशाला भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला का एक हिस्सा है। भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला भारतीय अंतरिक्ष विभाग की एक स्वायत्त इकाई है।

• यह वेधशाला उदयपुर की फतेहसागर झील के बीच में एक दव्ीप पर स्थिति है।

बहु-अनुप्रयोग सौर दूरबीन की विशेषताएं

• 50 सेमी व्यास (एपर्चर)

• झुके हुए अक्ष वाली ग्रेगोरियन-कोउडे दूरबीन

भारत में अन्य दूरबीन

नाम/वेधशाला

अपर्चर

वर्ष

स्थान

नेशनल (राष्ट्रीय) लार्ज (बड़ा/विशाल सोलर टेलिस्कोप

200 सेमी

प्रस्तावित

मार्क, गाँव, लद्दाख

एरीज वेधशाला

15 सेमी

1961

नैनीताल

सोलर (सूर्यसंबंधी) टनल टेलिस्कोप (दूरबीन), कोडाइकनाल सौर वेधशाला

61 सेमी (24 इंच)

1958

कोडाइकनाल