प्रधान मंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (Prime Minister Health Care Plan – Social Issues)

Download PDF of This Page (Size: 172K)

एम्स के समान तीन और संस्थान स्थापित किए जाएंगे

• केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने महाराष्ट में नागपुर, आंध्रप्रदेश में मंगलागिरी और पश्चिम बंगाल के कल्याणी में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की भांति संस्थान स्थापित करने का निर्णय लिया है।

• मंत्रिमंडल के अनुसार एम्स जैसे संस्थाओं की कुल संख्या ग्यारह तक पहुँचाई जाएगी।

• इन संस्थाओं की स्थापना प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत की जाएगी।

प्रधान मंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना

मुख्य विशेषताएं

• योजना का मुख्य उद्देश्य देश के विविध भागों के बीच स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता में जो अंतर है उसे समाप्त करता है। यह विशेष रूप से विकास की मुख्य धारा में पिछड़े क्षेत्रों में गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा शिक्षा उपलब्ध कराने को प्रयास है।

• योजना को मार्च 2006 में स्वीकृत किया गया था।

• प्रधान मंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना प्रथम चरण के दो मुख्य घटक हैं। पहला एम्स की भांति छ: नए संस्थानों की स्थापना, दूसरा पहले से संचालित 13 शासकीय चिकित्सा शिक्षण संस्थानों को उन्नत करके एम्स के स्तर को बनाना।

• योजना के दूसरे चरण के अंतर्गत एम्स की भांति दो अन्य संस्थान स्थापित किए जायेंगे तथा छह संस्थानों का उन्नयन किया जाएगा।

• प्रधान मंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तीसरे चरण के अंतर्गत कई अन्य शासकीय चिकित्सा शिक्षण संस्थानों का उन्नयन किया जाएगा।

• आशा की जाती है कि स्वास्थ्य सेवा के तीनों चरणों को सफलतापूर्वक संचालित किए जाने के बाद प्रत्येक नागरिक के लिए सभी प्रकार की स्वास्थ्य सुविधाएँ सहजता के साथ उपलब्ध होंगी।