विदेशी निवेश प्राप्त करने में भारत का ‘प्रथम’ स्थान (India's first place in obtaining foreign investment-Economy)

Doorsteptutor material for IAS is prepared by world's top subject experts: Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 144K)

31 बिलियन (दस अरब) डालर (अमेरिका व अन्य राज्यों की प्रचलित मुद्रा) का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश प्राप्त कर भारत ने पिछले साल के 5वें स्थान से छलांग लगाकर प्रथम स्थान प्राप्त किया जो अब निवेश के मामले में सबसे पंसदीदा स्थान बन गया।

भारत के लिए क्या हैं इसके मायने?

• अन्य देशों में निरंतर घटते हुए एफडीआई तथा भारत में बगैर किसी अवरोध के आ रहा निवेश यह प्रमाणित करता है कि किस प्रकार भारत ने व्यापार परिचालन माहौल को सुधारकर विश्व बाजार में अपनी पहचान बनाने की निरंतर प्रयासरत है।

• हाल ही में विश्व प्रतिस्पर्धा सूचकांक में 16 स्थान की छलाँग लगाकर 55वां स्थान प्राप्त किया है।

• ये सभी नये घटनाक्रम विश्व के निवेशकों को सकरात्मक संदेश देते हुए बताते है कि किस प्रकार भारत उपयुक्त व्यापारिक माहौल बनाने को प्रतिबद्ध है जो समानता के सिद्धांत पर आधारित है।

Developed by: