प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (Prime Minister՚S Agriculture Irrigation Scheme – Economy)

Doorsteptutor material for IAS is prepared by world's top subject experts: Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

• प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का प्रमुख उद्देश्य है-क्षेत्रीय स्तर पर सिंचाई के क्षेत्र में निवेशों का समूहीकरण, सुनिश्चित सिंचाई के तहत कृषि योग्य क्षेत्र का विस्तार, पानी के अपव्यय को कम करने के लिए कृषि जल उपयोग दक्षता में सुधार, सटीक सिंचाई और अन्य पानी की बचत प्रौद्योगिकियों को अपनाना, जल निकायों के पुनर्भरण को बढ़ाना तथा शहरी नगरपालिकाओं के उपचारित अपशिष्ट जल के प्रयोग दव्ारा शहरों में कुछ स्थानों में कृषि कार्य कर उसमें निजी निवेश लाना तथा इसके दव्ारा जल के संधारणीय उपयोग को बढ़ावा देना।

• प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के अंतर्गत वर्तमान में संचालित कुछ योजनाओं को मिला दिया गया है। यथा-जल संसाधन मंत्रालय का त्वरित सिंचाई लाभ कार्यक्रम (एआईबीपी) , नदी विकास और गंगा संरक्षण (जल सांधान मंत्रालय, आरडी और जीआर) , भूमि संसाधन विभाग (डीओएलआर) का एकीकृत जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम (IWMP) तथा कृषि और सहकारिता का फार्म (खेत) आधारित जल प्रबंधन (OFWM) कार्यक्रम। यह योजना कृषि, जल संसाधन और ग्रामीण विकास मंत्रालय दव्ारा कार्यान्वित की जाएगी।

• ग्रामीण विकास मंत्रालय मुख्य रूप से वर्षा जल संकट संरक्षण, खेतों में तालाब की खुदाई, जल प्रबंधन संरचना, छोटे चैक डैम (बांध) और समोच्च मेंडबंदी आदि पर ध्यान केंद्रित करेगा।

• जल संसाधन मंत्रालय आरडी और जीआर दव्ारा सुनिश्चित सिचांई स्रोत, डायवर्जन नहरों, फील्ड (भूमि) चैनलों (जलग्रीवा) तथा जल डायवर्जन (विनोद/परिवर्तन) /लिफ्ट (उत्थान) इरीगेशन (सिंचाई) का निर्माण और जल वितरण तंत्र का विकास सुनिश्चित किया जाएगा। कृषि मंत्रालय कुशल जन वाहक तथा सटीक जल एप्लीकेशन (प्रयोग) डिवाइसों (विधि) यथा ड्रिप (टपकना) , स्प्रिंकलर (बुझानेवाला) , पाइवोट (धुरी/अक्ष) तथा खेतों में रेन-गन सिस्टम (प्रबंध) (जल सिंचन) को बढ़ावा देगा। साथ ही यह स्रोत सृजन गतिविधियों के पूरक के रूप सूक्ष्म सिंचाई संरचनाओं और वैज्ञानिक रूप से नमी के संरक्षण आदि कृषि उपायों को बढ़ावा देने के लिए विस्तार गतिविधियों का भी सृजन करेगा।

• प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना कार्यक्रम “विकेन्द्रीकृत राज्य स्तरीय आयोजन एवं परियोजनागत कार्यान्वयन” को अपनाएगा। यह राज्यों को उनकी जरूरतों के अनुसार जिला स्तरीय सिंचाई योजना एवं राज्य स्तरीय सिंचाई योजना अपनाने की अनुमित भी प्रदान करेगा।

Developed by: