अगस्त्यमाला जैवमंडल रिजर्व (सुरक्षित रखना) (Agasthamala Biosphere Reserve – Environment and Ecology)

Get top class preparation for CTET-Hindi/Paper-1 right from your home: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-1.

• अगस्त्यमाला बायोस्फीयर (जीवनही मंडल) रिजर्व (सुरक्षित रखना) को हाल की में यूनेस्कों की वर्ल्ड (विश्व) बायोस्फीयर (जीवमंडल) रिजर्व (सुरक्षित रखना) नेटवर्क (जाल पर कार्य) की सूची में शामिल किया गया है।

• यह बायोस्फीयर (जीवमंडल) रिजर्व (सुरक्षित रखना) मालाबार वर्षा धन के क्षेत्र में अवस्थित है और पश्चिमी घाट के उल्लेखनीय हॉटस्पॉट क्षेत्रों में से एक है।

• यह 3500 वर्ग किलोमीटर में विस्तृत है और तमिलनाडु तथा केरल के विभिन्न जिलों में फैला हुआ है।

• अगस्त्य माला शिखर समुद्र तल से लगभग 1868 मीटर की ऊँचाई पर तिरुवनंतपुरम में अवस्थित है। इसी शिखर के नाम पर इस बायोस्फीयर (जीवमंडल) रिजर्व (सुरक्षित रखना) का नामकरण किया है।

• इस बायोस्फीयर (जीवमंडल) रिजर्व (सुरक्षित रखना) में सकंटग्रस्त नीलगिरि तहत सहित वनस्पतियों और जीवों की विभिन्न स्थानिक और लुप्तप्राय प्रजातियाँ पाई जाती हैं।

• इस बायोस्फीयर रिजर्व के अंतर्गत विभिन्न भारतीय पारिस्थितिकीय क्षेत्र जैसे नम पर्णपाती वनों, पर्वतीय वर्षा वनों, शोला वनों और घास के मैदानों की उपस्थिति पायी जाती है।

• इस बायोस्फीयर रिजर्व के अंतर्गत तीन वन्यजीव अभ्यारण्य शेंदुर्ने, पेप्पाया और नेय्यार आते हैं।

• कालाक्कड मुंदनथुराई टाइगर (चीता) रिजर्व (सुरक्षित रखना) को हाल ही में इस बायोस्फीयर रिजर्व के एक भाग के रूप में शमिल किया गया था।

• यह बायोस्फीयर रिजर्व (सुरक्षित रखना) विश्व की प्राचीनतम जनजातियों में से एक कनिकरन का वास स्थल भी है।

• वर्तमान समय में भारत में 18 बायोस्फीयर रिजर्व हैं और उनमें से 9 यूनेस्कों के प्रतिष्ठित वर्ल्ड (विश्व) बायोस्फीयर (जीवमंडल) रिजर्व (सुरक्षित रखना) नेटवर्क (जाल पर कार्य) में सम्मिलित हैं। अगस्त्यगाला बायोस्फीयर रिजर्व को दसवें रिजर्व के रूप में इस सूची में जोड़ा जा रहा है। यूनेस्कों की सूची में सम्मिलित अन्य बायोस्फीयर रिजर्व हैं: नीलगिरि, मन्नार की खाड़ी, सुंदरवन, नंदा देवी, नोकरेे, पंचमढ़ी, सिमलीपाल, अचानकमकार-अमरकंटक और ग्रेट निकोबार।