CARBFIX परियोजना (CARBFIX The Project – Environment)

Download PDF of This Page (Size: 182K)

सुर्ख़ियों में क्यों?

• हाल की रिपोर्टो से पता चला है कि यह परियोजना प्रति टन सीओ2 के लिए 25 टन पानी का उपयोग कर 2 साल में केल्साइट में डाले गए 250 टन सीबो2 के 95 प्रतिशत भाग को जमाने में सक्षम थी।

• यह एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है और भविष्य के लिए आशा प्रदान करती हैं।

यह क्या है?

• यह आइसलैंड में एक परियोजना है जिसका लक्ष्य बेसाल्ट चट्‌टानों के साथ सीओ2 की अभिक्रिया दव्ारा सीओ2 को सुरक्षित रखना है।

• कार्बोनेटेड पानी को चट्‌टानों में डाला जाता है जिससे कि यह बेसाल्ट चट्‌टानों में उपस्थिति कैल्शियम (एक रासायनिक पदार्थ, चूने का तत्व/सार), मैग्रीशियम या सिलिकेट सामग्री के साथ अभिक्रिया करता है। इसे परिष्कृत अपक्षय कहा जाता है।

• इस प्रकार सीओ2 को बिना कोई हानिकारक उप-उत्पाद मुक्त किये स्थायी रूप से संचित कर लिया जाता है।

मुद्दे

• प्रक्रिया की लागत बहुत अधिक है।

• चूंकि अभिक्रियायें ऊष्माक्षेपी हैं, अगर चट्‌टानें गर्म होती है तो यह उत्क्रमणीय हो सकती है।

पंपिंग गतिविधि भूकंपीय गतिविधि उत्पन्न करती है।

Get unlimited access to the best preparation resource for IAS - Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Developed by: