आईसीटी विकास सूचकांक (आईडीआई) (ICT Development Index)

Doorsteptutor material for UGC is prepared by world's top subject experts: Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 150K)

• सूचना और संचार प्रौद्योगिकी तक पहुंच के स्तर का मापन करने वाले वैश्विक सूचकांक में 167 राष्ट्रों में भारत को 131वां स्थान दिया गया है।

• 2010 की आईडीआई रैंकिंग (श्रेणी) की तुलना में भारत की रैंक में छह स्थानों की गिरावट आई है।

• भारत में सूचना और संचार प्रौद्योगिकी के प्रसार में सुधार के बावजूद भारत की रैंकिंग में गिरावट आई है:

• ’आईसीटी’ पहुंच उप-सूचकांक का उपभोग आईसीटी तत्परता का पता लगाने के लिए किया जाता है और इसमें पांच संकेतक सम्मिलित हैं-

• फिक्स्ड (दृढ़) टेलीफोन (बिजली दव्ारा शब्द को दूर भेजने का यंत्र) सबसक्रिप्शन (मंजूरी)

मोबाइल सेलुलर टेलीफोन सब्सक्रिप्शन

• प्रति इंटरनेट उपयोगकर्ता अंतरराष्ट्रीय इंटरनेट बैंडविड्‌थ (बैंडचौड़ाई)

• कंप्यूटर (परिकलक) वाले परिवारों का प्रतिशत।

• इंटरनेट तक पहुंच वाले परिवारों का प्रतिशत।

आई.डी.आई. से संबंधित तथ्य

• इसे संयुक्त राष्ट्र अंतरराष्ट्रीय दूरसंचार संघ दव्ारा प्रकाशित किया जाता है।

• यह एक मानक उपकरण है, जिसके दव्ारा विभिन्न सरकारें, संचालक, विकास अभिकरण, शोधकर्ता और अन्य लोग देश के भीतर और विभिन्न देशों के बीच डिजिटल (अंकसंबंधी) डिवाइड (भाग करना) की माप करने और आईसीटी प्रदर्शन की तुलना करने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

• सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) विकास सूचकांक तीन समूहों: पहुँच, उपयोग और कौशल में विभक्त 11 आईसीटी संकेतकों पर आधारित है।

Developed by: