विचारधीन मामलों से संबंधित सर्वोच्च न्यायालय का पोर्टल (प्रवेशदव्ार) (Portal of The Supreme Court Related To The Matters Under Consideration-Act Arrangement of The Governance)

Glide to success with Doorsteptutor material for IAS : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 153K)

भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने हाल ही में सार्वजनिक प्रयोग हेतु राष्ट्रीय न्यायिक डेटा (आंकड़े) ग्रिड (छड़ लगा हुआ ढांचा) (एनजेडीजी) से संबंधित पोर्टल का उद्धाटन किया।

पोर्टल के विषय में

§ वेबपेज (जाल पृष्ठ) (ecourts. Gov. in/services) देश भर में जिला न्यायपालिकाओं में विचारधीन मामलों के समेकित आंकड़े देगा।

§ यह राष्ट्रीय और राज्य, जिला तथा न्यायालयवार सूचना का प्रसार भी करेगा।

§ यह वरिष्ठ नागरिकों और महिलाओं दव्ारा दायर मामलों से संबंधित आंकड़ों का पृथक विवरण भी प्रदान करेगा।

§ विचारधीन आंकड़ों को दैनिक आधार पर जिला अदालतों दव्ारा अद्यतन किया जाएगा।

§ यह पहल पारदर्शिता और न्याय प्रदायक प्रणाली के सभी हितधारकों के लिए सूचना की उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु हैं

राष्ट्रीय न्यायिक डेटा ग्रिड (आंकड़े, छड़ लगा हुआ ढांचा) के विषय में

§ राष्ट्रीय न्यायिक डेटा ग्रिड (एनजेडीजी), न्यायालयों को सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) के माध्यम से सशक्त बनाने हेतु शुरू की गयी है, तथा न्याय प्रदायक प्रणाली का रूपांतरण करने हेतु वर्तमान में चल रही ई-न्यायालय एकीकृत मिशन मोड (शिष्ट मंडल रीति) परियोजना का एक भाग हैं।

§ राष्ट्रीय न्यायिक डेटा ग्रिड (एनजेडीजी), विचारधीन मामलों के संदर्भ को जानने, प्रबंधित करने और कम करने हेतु निगरानी उपकरण के रूप में कार्य करेगा।

§ यह व्यवस्था में मामलों के निपटारे से होने वाले विलंब और अत्यधिक संख्या को कम करने के लिए नीतिगत निर्णयों हेतु समय पर जानकारी प्रदान करने की प्रक्रिया में सभी सहयोग करेगा।

§ यह न्यायालयों के कार्य निष्पादन और प्रणालीगत बाधाओं की बेहतर निगरानी को सुगम बनाएगा और इस प्रकार बेहतर संसाधन प्रबंधन को सुनिश्चित करेगा।

§ राष्ट्रीय न्यायायिक डाटा ग्रिड (एन.जे.डी.जी.) में किशोर न्याय प्रणाली से संबंधित मामलों समेंत सभी वर्गों के मामलों को शामिल किया जाएगा।

Developed by: