आवर्त सारणी में नए तत्वों का समावेश (Inclusion of New Elements In The Periodic Table – Science And Technology)

Glide to success with Doorsteptutor material for IAS : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 151K)

• आईयूपीएसी ने तत्व (एलिमेंट) 113, 115, 117 और 118 के लिए प्रस्तावित नामों की घोषणा की है। इनके नाम क्रमश: निहोनियम, मॉस्कोवियम, टेनैसिन और ऑगेनेसन हैं। इन नामों को पांच महीने के प्रोबेशन (परिवीक्षा काल, वह अवधि जिसमें नियुक्त व्यक्ति की योग्यताओं की परख की जाती है) में रखा गया है जिसके बाद इन्हें आधिकारिक बना दिया जाएगा।

• ये चारों तत्व प्रकृति में नहीं पाए जाते हैं, और प्रयोगशालाओं में कृत्रिम रूप से निर्मित किए गए थे।

• अभी तक, आर्वत सारणी में इन तत्वों को अस्थायी नाम और प्रतीक प्रदान किए गए थे क्योंकि इनके अस्तित्व को सिद्ध करना कठिन था। इनका क्षय अत्यधिक शीघ्रता से होता है, इसलिए वैज्ञानिकों के लिए उन्हें पुनरुत्पादित करना कठिन है।

तत्वों के नामकरण हेतु आईयूपीएसी के नियम

• तत्वों का नामकरण पौराणिक संकल्पना या चरित्र (खगोलीय पिंड समेत), किसी खनिज या समान पदार्थ, किसी स्थान या भौगोलिक क्षेत्र, तत्व के किसी गुणधर्म या वैज्ञानिक के आधार पर किया जाता है।

• वे जिन तत्वों के समूह से संबंध रखते हैं, उसके आधार पर उनका अंत अनिवार्य रूप से “-ium,” “-ine,” “or”-on” के रूप में होना चाहिए।

• आईयूपीएसी ऐसे नामों को वरीयता देती है, जिनका प्रमुख भाषाओं में सरलतापूर्वक अनुवाद किया जा सकता है।

आईयूपीएसी के संबंध में

• शुद्ध और अनुप्रयोगिक रसायन का अंतरराष्ट्रीय संघ (आईयूपीएसी), आवर्त सारणी में नए तत्वों के नामकरण समेत रासायनिक नामकरण प्रणाली और शब्दावली, मापन की मानकीकृत पद्धतियों; और परमाणु भार, तथा अन्य कई प्रकार के सूक्ष्म स्तरीय मूल्यांकित आंकड़ों के लिए एक वैश्विक प्राधिकरण है।

Developed by: