उदयपुर सौर वेधशाला में बहु-अनुप्रयोग सौर दूरबीन (एमएएसटी) क्रियाशील हुई (Udaipur Solar Observatory has a Multi-Functional Application of Solar Telescope –Science And Technology)

Doorsteptutor material for IAS is prepared by world's top subject experts: Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 152K)

उद्देश्य और महत्व

• सौर गतिविधि का चुंबकीय क्षेत्र सहित विस्तृत अध्ययन। सौर गतिविधियों के इस अध्ययन से भविष्य में अंतरिक्ष मौसम के पूर्वानुमान की सुविधा होगी।

• यह सौर चुंबकीय क्षेत्र के त्रिविमीय (3-डी) पहलुओं का पकड़ने में सक्षम है। इससे वैज्ञानिक विकृत चुंबकीय क्षेत्र में होने वाले विस्फोट और सौर चमक को बेहतर ढंग से समझ पाएंगें।

• उदयपुर सौर वेधशाला भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला का एक हिस्सा है। भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला भारतीय अंतरिक्ष विभाग की एक स्वायत्त इकाई है।

• यह वेधशाला उदयपुर की फतेहसागर झील के बीच में एक दव्ीप पर स्थिति है।

बहु-अनुप्रयोग सौर दूरबीन की विशेषताएं

• 50 सेमी व्यास (एपर्चर)

• झुके हुए अक्ष वाली ग्रेगोरियन-कोउडे दूरबीन

भारत में अन्य दूरबीन

नाम/वेधशाला

अपर्चर

वर्ष

स्थान

नेशनल (राष्ट्रीय) लार्ज (बड़ा/विशाल सोलर टेलिस्कोप

200 सेमी

प्रस्तावित

मार्क, गाँव, लद्दाख

एरीज वेधशाला

15 सेमी

1961

नैनीताल

सोलर (सूर्यसंबंधी) टनल टेलिस्कोप (दूरबीन), कोडाइकनाल सौर वेधशाला

61 सेमी (24 इंच)

1958

कोडाइकनाल

Developed by: