जिका वैक्सीन (टीके की दवाई) डीएनए वैक्सीन (जीएलएस-5700) (Jika Vaccine DNA Vaccine-Science And Technology)

Get unlimited access to the best preparation resource for IAS : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 147K)

• जिका वायरस के लिए क्लीनिकल (रोगियों को देखने और इलाज करने संबंधी) ट्रायल (गुण आदि का परीक्षण) का प्रथम चरण जल्द ही प्रारंभ होने वाला है।

• इस डीएनए वैक्सीन (जीएलएस-5700) का पहले जानवरों पर परीक्षण किया जा चुका है और मजबूत एंटीबॉडी (रोगों से लड़ने की क्षमता के लिए रक्त में तैयार होने वाला पदार्थ) और टी सेल प्रतिक्रिया प्राप्त करने में सफलता भी मिली है।

• यह मानव परीक्षण वस्तुत: 40 स्वस्थ व्यस्क व्यक्तियों पर सुरक्षांं, सहनशीलता और प्रतिरक्षाजनकता के मूल्यांकन के लिए किया जाएगा और इसका अंतरिम परिणाम इस वर्ष के समाप्ति के पहले आने की संभावना है।

जिका वायरस के बारे में

• जिका वायरस रोग मुख्य रूप से एडिज मच्छरों के दव्ारा प्रेषण से होता है। यह माइक्रोइपेलि और गुलेलियन-बेरी सिंड्रोम का एक कारण है।

माइक्रोइपेलि एक ऐसी स्थिति है, जिसमें बच्चे का सिर उम्मीद की तुलना में काफी छोटा होता है। गुलेलियन-बेरी सिंड्रोम एक दुर्लभ हालत है, जिसमें प्रतिरक्षा प्रणाली पर हमला, मांसपेशियों में कमजोरी और पक्षाघात तक हो सकता है।

Developed by: