ऑस्ट्रेलिया का भूगोल (Geography of Australia) Part 7

Download PDF of This Page (Size: 175K)

खनिज संसाधन

ऑस्ट्रेलिया का बॉक्साडर उत्पादन में विश्व में प्रथम स्थान है। दक्षिणी महादव्ीपों में कोयला उत्पादन में ऑस्ट्रेलिया का प्रथम स्थान है तथा लौह अयस्क उत्पादन में दूसरा स्थान है।

  • लौह अयस्क- यहां पर उत्तम श्रेणी के लौह अयस्क के भंडार कई क्षेत्रों में पाए जाते हैं। संपूर्ण ऑस्ट्रेलिया में दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया का लौह अयस्क उत्पादन में प्रथम स्थान है (प्रथम-ब्राजील)। यहां के पांच क्षेत्र इसके लिए प्रसिद्ध है

  • आयरन नॉब

  • आयरन मोना

  • मिडिल बैंक श्रेणी

  • कुलका लोहा क्षेत्र

  • कुतान्न लोहा क्षेत्र।

पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में दो क्षेत्र इसके उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है-

  • कुलनदव्ीप

  • गिब्सन पर्वतीय क्षेत्र।

उत्तरी ऑस्ट्रेलिया में-

बुण्डी, फ्रासेज क्रीक क्षेत्र

न्यू साउथ वेल्स में -

कादिया लोहा क्षेत्र, तालाबीग एवं कारकोर लोहा क्षेत्र प्रमुख है। वर्तमान में इसका स्थान विश्व उत्पादन में चौथा है। प. अ. में पिलनारा

  • बॉक्साइड- ऑस्ट्रेलिया में बॉक्साइड उत्पादन के निम्न क्षेत्र हैं-

  • वाइपा क्षेत्र (क्वीसलैंड के सुदूर उत्तरी भाग में)

  • डार्लिंग रेंज क्षेत्र (पश्चिमी अस्ट्रेलिया के द. प. भाग में)

  • गोये क्षेत्र (उत्तरी अस्ट्रेलिया के सुदूर उ.पू. तटीय भाग में)

  • किम्बरले क्षेत्र (पश्चिमी अस्ट्रेलिया के उ. प. भाग में)

इस देश में अलुमिना एवं अल्युमिनियम धातु बनाने के पांच कारखाने है। इनमें देश का मुश्किल से 20 प्रतिशत उत्पादन ही शोधित किया जाता है। शेष उत्पादन बॉक्साइड के रूप में तथा उत्पादित माल का भारी मात्रा में निर्यात यू.एस.ए., कनाडा, जापान एवं पश्चिमी यूरोपीय देशों को किया जाता है।

इसका उत्पादन दव्तीय स्थान वाले गायना (अफ्रीका 1 से लगभग तीन गुना अधिक है।