ऑस्ट्रेलिया का भूगोल (Geography of Australia) Part 8

Download PDF of This Page (Size: 170K)

  • मेगनींज - मैंगनीज उत्पादन में ऑस्ट्रेलिया का तीनों दक्षिणी महादव्ीपों में पांचवा स्थान है। यहां पर अच्छी किस्म की अयस्क मुख्यत: पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया, क्वींसलैंड एवं उत्तरी प्रांत से प्राप्त होती है पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में हेडुलैंड का पूर्वी पठारी भाग, क्वीसलैंड में मध्य पूर्वी वर्गो श्रेणी व न्यूकेलोडोनिया दव्ीप एवं उत्तरी टेरीटरी में कारपेण्टिया की खाड़ी तट पर गद्रे इलियन एवं गुदुडेलैण्ड मुख्य उत्पादक क्षेत्र है। अधिकांश मैंगनीज का यू.एस.ए. तथा जापान को निर्यात कर दिया जाता है।

  • ताँबा- ऑस्ट्रेलिया में विश्व का लगभग 3 प्रतिशत ताँबे का उत्पादन होता है। कुल उत्पादन का 40 प्रतिशत ही देश के उद्योगों आदि के काम में आता है, शेष को निर्यात कर दिया जाता है। देश के कुल उत्पादन का दो तिहाई ताँबा अयस्क क्वींसलैंड राज्य के माउंट ईसा, माउंट मारगन एवं तेनान्त क्रीक से प्राप्त होता है। न्यूसाउथ वेल्स में इसका मुख्यत: मध्यवर्ती भाग में कोबार की खानों, लायल एवं फोर्ट केम्बल से खनन किया जाता है। तस्मानिया के पश्चिमी भाग से ताँबा निकालकर फोर्ट केम्बल के रुमेल्टर को भेज दिया जाता है। थोड़ी मात्रा में ताँबा पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के रोपान्स थोर्प क्षेत्र से भी निकाला जाता है।

    ऑस्ट्रेलिया में बहुत थोड़ी मात्रा में सीसा व जस्ता कोबार (एनएसडब्ल्यू) की खानों के साथ-साथ प्राप्त किया जाता है।

  • रांगा- रांगा उत्पादन में ऑस्ट्रेलिया का विश्व में सातवाँ स्थान है। यहां के मुख्य उत्पादक प्रदेश तस्मानिया में माउण्ट मिस्कोक, टेनीसन एवं लाइना मुख्य खनन क्षेत्र है। इस दव्ीप का देश के उत्पादन में प्रथम स्थान है। न्यू साउथ वेल्स का अर्देथन क्षेत्र देश का सबसे बड़ा खनन क्षेत्र है। क्वींसलैंड तीसरा महत्वपूर्ण राज्य है। जहां मुख्य खनन क्षेत्र माउण्ट गारनेट है। सारा रांगा फोर्ट केम्बला एवं सिडनी के स्मेल्टरों में साफ किया जाता है।