चीन का भूगोल (Geography of China) Part 13 for Competitive Exams

Doorsteptutor material for CTET-Hindi/Paper-2 is prepared by world's top subject experts: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-2.

चीन के प्राकृतिक प्रदेश-

चीन को 15 प्राकृतिक प्रदेशों में बांटा गया है-

  • शान्टुंग प्रदेश
  • उत्तरी चीन का विशाल मैदान
  • लोएस का उच्च प्रदेश
  • यांगटिसीक्यांग का निचला मैदान
  • यांगटिसी का उत्तरी एवं दक्षिणी उच्च प्रदेश
  • लाल बेसिन
  • दक्षिणी पश्चिमी उच्च प्रदेश
  • सीक्यांग प्रदेश
  • दक्षिणी -पूर्वी तटीय प्रदेश
  • तिब्बत का उच्च मैदान
  • सिनकियांग प्रदेश
  • अंतरवर्ती मंगोलिया प्रदेश
  • खिंगन तथा लियाओनिंग पर्वतीय प्रदेश
  • मंचूरिया का मैदान
  • मंचूरिया का पूर्वी प्रदेश
  • शान्टुंग प्रदेश- प्राचीनकाल में यह एक दव्ीप था जो पीले सागर में स्थित था लेकिन अब यह एक प्रायदव्ीप है, जो प्राचीन पर्वतों एवं पठारों से निर्मित है। यहाँ की जलवायु चीन तुल्य है। यहाँ रेशम के कीड़े पालकर कच्चे रेशम का उत्पादन अधिक किया जाता है। सिंगताओ इस प्रदेश का मुख्य नगर, प्रसिद्ध बंदरगाह तथा औद्योगिक केन्द्र है। डेरन यहाँ का दूसरा प्रमुख बंदरगाह है।
  • उत्तरी चीन का विशाल मैदान-प्राचीनकाल में चीन का यह भाग समुद्र में डुबा हुआ था, जिसमें ह्यांगहो ने बड़ी मात्रा में मिटवित रुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्र्‌ुरुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्रुरू टी लाकर जमा की थी। इस प्रदेश में होपे, पश्चिमी शान्टुंग, पूर्वी हूनान, उत्तरी कान्सू तथा आह्यवे प्रांतों का भाग सम्मिलित है। इस प्रदेश का प्रधान व्यवसाय कृषि है, 90 प्रतिशत जनसंख्या कृषि कार्य में लगी है। उद्योग धंधों के अंतर्गत यहाँ बीजिंग में लोहा इस्पात तथा मशीन (यंत्र) निर्माण उद्योग टिएण्टसिन मेें सूती वस्त्र कृषि यंत्र निर्माण, मोटर निर्माण तथा इस्पात उद्योग एवं तांगसान में सीमेण्ट उद्योग आदि विकसित हो गए है।

चीन-प्राकृतिक प्रदेश-