न्यूजीलैंड का भूगोल (Geography of New Zealand) Part 5

Download PDF of This Page (Size: 167K)

कृषि-

न्यूजीलैंड में मुख्यत: हे की खेती होती है। यह मुख्यत: दक्षिणी दव्ीप पर होती है। दव्ीप में अल्फाल्फा की खेती होती है। इसके अलावा न्यूजीलैंड में गेहूँ, जई और तंबाकू की खेती होती है। यह तंबाकू का निर्यात भी करता है। यह मुख्यत: उत्तरी दव्ीप पर होता है। दक्षिणी दव्ीप पर agroforesty (कृषिवानिकी) विकसित किया गया है। यहां कागज उद्योग के लिए वन लगाए गए है।

खनिज-

खनिज संसाधन की दृष्टि से न्यूजीलैंड निर्धन प्राय देश है। यहां थोड़ी बहुत मात्रा में लौह अयस्क, गंधक, सिलिका, चूना -पत्थर जैसे खनिज पाए जाते है। यहाँं का एक मात्र उल्लेखनीय धातु सोना है। यहां के स्वर्ण उत्पादन के क्षेत्र दक्षिणी दव्ीप के पश्चिमी तट पर साउथलैंड (दक्षिण दव्ीप) एवं ओटेगो में है।

दक्षिणी दव्ीप के नेल्सन प्रांत एवं ओटेगो से कुछ मात्रा में कोयला निकाला जाता है। खनिज तेल का एकमात्र उत्पादन क्षेत्र उत्तरी दव्ीप में प्राकृतिक गैस के साथ बहुत थोड़ी मात्रा में तारानकी एवं कापूनी क्षेत्र है।

विद्युत उत्पादन-

जल विद्युत विकास में यह एक आदर्श देश है। जल विद्युत का विकास दोनों दव्ीपों में सर्वत्र किया गया है। इनमें से सबसे महत्वपूर्ण उत्तरी दव्ीप की वीकाटो योजना है। विद्युत उत्पादन में जल विद्युत का योगदान 90 प्रतिशत है।