रूस का भूगोल (Geography of Russia) Part 7

Download PDF of This Page (Size: 173K)

उद्योग:-

रुस में निम्नलिखित प्रमुख औद्योगिक प्रदेश हैं-

  • मास्को प्रदेश- यहाँ अनेक प्रकार के उद्योग विकसित हैं पर सूती वस्त्र उद्योग सबसे महत्वपूर्ण है। इवानोवो को रुस का मैनचेस्टर कहा जाता है। मास्को तथा योरोसोल्वल में भी सूती वस्त्र उद्योग का पर्याप्त विकास हुआ है। मास्को में सूती वस्त्र के अतिरिक्त ऊनी वस्त्र तथा कृत्रिम धागों पर आधारित उद्योगों का विकास हुआ है। कोलिनीन तथा तुला में लोहा इस्पात उद्योग सर्वाधिक विकसित है। इसी प्रदेश में गोर्की तथा लिपेत्स्क नगर इलेक्ट्रॉनिक (विद्युत) गुडस (माल), सोफ्टवेयर (क्रमानुदेश), स्पेस क्राफ्ट (अंतरिक्ष यान) , न्यूक्लियर एप्लीयन्स (परमाणु उपकरण) जैसे उच्च तकनीकी वाले उद्योगों के लिए प्रसिद्ध है।

  • यूराल प्रदेश- यह मुख्यत: धात्विक खनिज उद्योगों के लिए प्रसिद्ध है। मैग्नीसोगोर्स्क सबसे बड़ा केन्द्र है तथा लोहा इस्पात उद्योग के लिए प्रसिद्ध है। चेलिया बिन्स्क दूसरा बड़ा केन्द्र है। यहाँ मशीन (यंत्र) बनाने, सैनिक हथियार, टैंक बनाने कृषि यंत्र आदि बनाने के कारखाने है। ओमस्क में खनिज तेल शोधन का विशाल कारखाना है। नार्लिक्स में ताँबा एवं निकेल शोधन के कारखाने है। कुरगान में लकड़ी चीरने तथा चमड़े का सामान बनाने का उद्योग है। नोवोकुजनेत्स्टक में रूस का सबसे बड़ा कृषि उपकरण उत्पादन केन्द्र है। सुरगत Surgut सिटी (शहर) में रासायनिक उद्योग का विकास हुआ है।

  • कुजनेत्स्टक प्रदेश- यहाँ उद्योग धंधों का विकास दव्तीय विश्व युद्ध में प्रारंभ हुआ है। यहाँ रसायन, लोहा तथा इस्पात, शराब, सूती तथा रेशमी वस्त्र, रबड़ उद्योग विकसित है। लोहा एवं इस्पात का सबसे बड़ा कारखाना कुजनेत्स्टक नगर में है। स्टालिंक में धातु उद्योग विकसित है। नोवोकुजनेत्स्टक इस प्रदेश का प्रमुख औद्योगिक केन्द्र है। बारबोल में कपड़ा उद्योग है।

  • पूर्वी साइबेरियाई प्रदेश- इस प्रदेश में जल विद्युत के विकास के साथ-साथ उद्योग धंधों का विकास हो गया है। ब्लाडीवोस्टक सबसे बड़ा केन्द्र है। यहाँ जहाजरानी उद्योग, धातु निर्माण तथा मत्स्य परिष्करण उद्योग विकसित है। खावारोस्क जलयान निर्माण, मछली पकड़ने, तेल शोधन तथा मशीन निर्माण के कारखाने है।

    मरमानस्क में कागज उद्योग, मत्स्य उत्पाद परिष्करण, तेलशाधन तथा पेट्रोरसायन उद्योग है।

    सेंटपीट्‌सबर्ग में लोहा इस्पात, इंजीनियरिंग (अभियंता), जहाजरानी, कागज उद्योग आदि है।

    रोजतोव में लोहा इस्पात उद्योग अवस्थित है।

    अस्ट्राखान में नमक बनाने का उद्योग तथा समुद्री उत्पाद के परिष्करण का उद्योग विकसित है।