पश्चिमी यूरोप का भूगोल (Geography of Western Europe) Part 4

Download PDF of This Page (Size: 177K)

मध्य का विशाल मैदान-

  • यह उत्तर-पश्चिम की उच्च भूमि से दक्षिण और अल्पाइन पर्वतश्रेणियों से उत्तर में मिलता है। पर यह समतल मैदान नहीं हैं। इस पर निम्न पहाड़ियां का क्रम मिलता है।

  • यह मैदान अपरदनात्मक है। इसमें एकाकी दव्ीप की भाँति हरसीनियन पर्वतश्रेणी के अवशेष दृष्टिगोचर होते हैं, जैसे-फ्रांस में ब्रिटैनी, बेल्यिम में आडैनीज और जर्मनी में हार्स पहाड़।

  • इस मैदान की ढाल पश्चिम में उत्तर पश्चिम की ओर है, जहाँ सीन, राइन, बेसर एल्ब आदि नदियाँ बहती है। पूर्व में इसकी ढाल उत्तर की ओर हैं जहां ओउर और बिस्चुला नदियां बहती है।

  • इंगलैंड में मैदान की ढाल पूर्व की ओर है, जहाँ रेम्स प्रमुख नदी हैं। नीदरलैंड में इस मैदान का कुछ भाग समुद्रतल से नीचा है। लोगों ने यहाँ धीरे-धीरे समुद्र को पीछे ढकेल कर भूमि छीनी हैं और उसे कृषि योग्य तथा बसने योग्य बना दिया है, जिसे पोल्ड्रेस कहा गया है।

दक्षिण के पर्वतीय भाग-

यूरोपय का यह भाग संरचना की दृष्टि से अत्यंत जटिल हैं और इसमें विभिन्न युगों के दो प्रकार के पर्वत मिलते हैं-

  • पुराने भूगोत्य पर्वत

    पुराने भूगोत्य पर्वत मध्यवर्ती मैदान की दक्षिणी सीमा से सटे हुए हैं। ये हर्सीनियन रूस के अंतर्गत आते हैं। इनके नाम हैं- मेसेटा (स्पेन), फ्रांस का मध्यवर्ती पठार, ब्रिटेनी प्रायदव्ीप (फ्रांस) कॉर्नवाल और डेवन, दक्षिणी आयरलैंड, राडन उच्च भूमि, वास्जेज, ब्लैक फॉरेस्ट (काला जंगल), बोहेमिया का पठार, रोडोप पर्वत, कोर्सिका, और सांर्डिनिया दव्ीप। इन पर्वतों को अवशिष्ट पर्वत की श्रेणी में रखा जा सकता है।

  • नवीन मोड़दार पर्वत

    अल्पाइन पर्वत माला के अंग है। पश्चिमी यूरोप में अल्पाडेन पर्वत प्रणाली के अंतर्गत कैटालियन, पिरेनीज, तथा आलप्स पर्वत प्रमुख पंक्ति में आते है। इस पंक्ति से होकर दो शाखाएँ मिलती है-

  • अपेनाइन, मिसली और उत्तरी अफ्रीका के एटलस पर्वत से होकर दक्षिणी स्पेन के सियरा नेवादा तक की

  • दिनारिक आल्प्स एवं पिडस इन में आल्पस सबसे ऊँचे हैं तथा इसका सर्वोच्च शिखर है-(माउन्टेन (पर्वत) ब्लैक (काला), 4810 मी)।