विश्व के प्रमुख प्राकृतिक प्रदेश (Major natural areas of the world) Part 3

Download PDF of This Page (Size: 176K)

उष्ण मानसून प्रदेश:-

स्थिति एवं विस्तार-

  • इसका विस्तार 80 से 280 अक्षांश रेखाओ के बीच पाया जाता है।

  • यह प्रदेश भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, म्यानमार, थाइलैंड, हिन्दचीन, दक्षिणी चीन, फिलीपिंस एवं आस्ट्रेलिया के उत्तरी किनारे (कारयेन्ट्रिया क्षेत्र) में फैला हुआ हैं।

  • इसके अलावा पूर्वी अफ्रीका एवं मध्य अमेरिका के कुछ सीमित भागों में मेडागास्कर में भी इस प्राकृतिक प्रदेश का विस्तार हैं।

जलवायु विशेषताएँ-

  • ग्रीष्म ऋतु में तापमान ऊँचा (350 c) तथा जाड़े में यह 100 c से भी कम हो जाता हैं। अत: तापान्तर अधिक रहता हैं।

  • वर्षा अनिश्चित एवं अनियमित होती है। वर्षा मुख्यत: ग्रीष्म ऋतु में होती है एवं जाड़े में शुष्कता होती हैं। जाड़े के दिनों में वाणिज्य पवन चलते हैं। समुद्र तटीय भागों में उष्ण कटिबंधीय चक्रवातों से भी वर्षा होती हैं।

प्राकृतिक वनस्पति-

  • इस प्रदेश में पतझड़ वन मिलते हैं।

  • इस प्रदेश में साल, सागवान, शीशम, महोगनी, आम, कटहल, ताड़, जामुन बांस आदि के वृक्ष पाए जाते हैं। इन वृक्षों की लकड़ियां आर्थिक दृष्टि से महत्वपूर्ण होती हैं।

आर्थिक विकास-

  • इस प्रदेश की जलवायु धान, जूट, चावल एवं गन्ने के लिए विशेष रूप से उपयोगी हैं। इसके अलावा गेहूँ, कपास, तंबाकू, तिलहन, दलहन आदि भी उपजाए जाते हैं।

  • इस प्रदेश में गाय, बैल, भैंस आदि पशुओं की संख्या भी काफी अधिक हैं।

  • यहां उद्योग धंधों, परिवहन, वाणिज्य एवं व्यापार का तीव्र गति से विकास हो रहा है। अत: इस प्रदेश को विकास का प्रदेश भी कहा जाता हैं।

  • यह scattered (बिखरा) region (क्षेत्र) है, लगातार प्रदेश नहीं हैं।

  • इस प्रदेश को आलस्यता का प्रदेश भी कहा जाता है, कारण वर्ष के 8-9 महीने तक तापमान अधिक तथा आर्द्रता भी अधिक होती है एवं शीघ्र की थकावट की स्थिति उत्पन्न करते हैं।

  • यह विश्व में सर्वाधिक सघन बसा हूआ क्षेत्र हैं।

  • यह प्रदेश बाढ़ के मैदान के लिए प्रसिद्ध हैं

  • मलेशिया तथा वियतनाम में सालोभर वर्षा होती है, पर गर्मी के उत्तरार्ध में 70 प्रतिषत से अधिक वर्षा होती हैं। अत: हर्बटसन का परिभाषा के अनुसार यह मानसूनी प्रदेश।