Distinguishing Signs of Factor, Examples of Factors, Prefix and Attempt

Glide to success with Doorsteptutor material for CTET-Hindi/Paper-2 : get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-2.

कारक-वाक्य में प्रयोग होने वाले किसी संज्ञा या सर्वनाम शब्द का क्रिया से साथ संबंध को कारक कहते हैं।

कारक के विभिक्ति चिन्ह (Distinguishing signs of factor)

Distinguishing Signs of Factor
कारकलक्षणचिन्ह
कर्ताजो काम रेंने
कर्मजिस पर क्रिया का फल पड़ेको
करणकाम करने (क्रिया) का साधनसे, के दव्ारा
संप्रदानजिसके लिए क्रिया की जाएको, के लिए
अपादानजिससे कोई वस्तु अलग होसे (अलग के अर्थ में)
संबंधजो एक शब्द का दूसरे से संबंध जोड़ेका, की, के, रा, री, रे
अधिकरणजो क्रिया का आधार होमें, पर
स्बााेंधनजिससे किसी को पुकारा जायेहे! अरे! हो!

कारक के उदाहरण (Examples of factors)

Examples of Factors
राम ने खाना खायावह चाकू से मरता है
राम सीता के लिए लंका गएमाता ने बच्चों को सुलाया
राम ने रावन को मार दियामाता ने मुझको पैसे दिए
राम ने धनुष दव्ारा रावण को माराश्याम ने मोहन को साईकिल दी
रावण की जय-जयकार होने लगीवह नदी से पानी ला रहा है
हे राम। हमें बचाओउसने गीत गाया
बिल्ली छत से कूदीतुम्हारे घर में दस लोग हैं।
लड़के दरवाजे-दरवाजे घूम रहे हैंमेरी बहन
नेता दव्ार-दव्ार जा रहे हैंप्रेमचंन्द्र का उपन्यास
वह कुल्हाड़ी से पेड़ काटता हैमैंने उसे पढ़ाया
माँ ने बच्चों को मिठाई दीनदियों का जल स्वच्छ है
गाड़ी में ईंधन डालोडाकू दुकान का सारा माल ले गए।

लिंग-संज्ञा के जिस रूप से किसी व्यक्ति या वस्तु की पुरुष अथवा स्त्री जाति का बोध होता हैं उसे लिंग कहते है।

लिंग के भेद-लिंग के दो भेद होते हैं:-

  • पुल्लिंग-जिन शब्दों से पुरुष जाति का बोध होता हैं उन्हें पुल्लिंग शब्द कहते हैं।
  • स्त्रीलिंग-जिन शब्दों से स्त्री जाति का बोध होता है उन्हें स्त्रीलिंग शब्द कहते हैं।
Gender Differences
पुल्लिंगस्त्रीलिंगपुल्लिंगस्त्रीलिंगपुल्लिंगस्त्रीलिंग
दादादादीहंसहंसनीयुवकयुवती
घोड़ाघोड़ीभेड़भेड़ासेवकसेविका
छात्रछात्रापड़ोसीपड़ोसिनपाठकपाठिका
धोबीधोबिनश्रीमानश्रीमतिदर्जीदर्जिन
हाथीहथिनीनर तितलीतितलीमालिकमालकिन
नरमादानर मक्खीमक्खीऊँटऊँटनी
युवकयुवतीनर चीलचीलशिक्षकशिक्षिका
मोरमोरनीनर चीताचीतावरवधु
सिंहसिंहनीनर मछलीमछलीश्रीमानश्रीमति
अध्यापकअध्यापिकाबालकबालिकापुजारीपुजारिन
लेखकलेखिकाशिष्यशिष्यानागनागिन

उपसर्ग-प्रत्यय (Prefix attempt)

  • उपसर्ग-वे शब्दांश जो किसी शब्द के आरंभ में लगाकर उनके अर्थ में विशेषता ला देते हैं अथवा उसके अर्थ को बदल देते है उपसर्ग कहलाते है जैसे परा-पराकर्म पराजय, पराधीन, पराभूत आदि।
  • प्रत्यय-जो शब्दांश, शब्दों के अंत में जुड़कर अर्थ में परिवर्तन लाये, प्रत्यय कहलाते है। शब्द निर्माण के लिए शब्द के अंत में जो शब्दांश जोड़े जाते हैं, वे प्रत्यय कहलाते हैं।
Prefix and Attempt
प्रत्यय से बने शब्दउपसर्ग से बने शब्द
महत्वपूर्णसुंदरताअलग, अनमोल, अनजान, अज्ञान, अधर्म, अस्वीकार
शास्त्रीयवीरताअधिकरण, अधिकार, अधिराज, अध्यात्म, अध्यक्ष, अधिपति
भारतीयधीरताअनुशासन, अनुज, अनुपात, अनुवाद, अनुचर, अनुकरण, अनुरूप
उल्लेखनीयहीनताअपकार, अपमान, अपशब्द, अपराध, अपहरण
विकासशीलदीनताअवगत, अवलोकन, अवनत, अवस्था, अवसान
परंपरागतसुखदायीआकाश, आदान, आजीवन, आगमन, आरंभ
प्रशंशपूर्वकखरीदकरउपकार, उपकूल, उपनिवेश, उपदेश, उपस्थिति, उपवन
सहसपूर्वकखेलतानाराज, नालायक, नादनामुमकिन, नादान, नापसंद
वीरतापूर्वकतोड़करनिर्भय, निर्दोष, निर्जीव, निरोग, निर्मल
न्यायपूर्वकप्रसन्नताविकास, विज्ञान, विदेश, विधवा, विवाद, विशेष, विस्मरण, विराम
कुशलताफलदायकपरलोक, परोपकार, परसर्ग, परहित
निर्बलतादुखदायकपराजय, पराक्रम, पराभव, परामर्श, पराभूत
मानवतासुखदायकबदसूरत, बदनाम, बददिमाग, बदमाश, बदकिस्मत
सफलताउत्सुकताबेकाम, बेअसर, बेरहम, बेईमान, बेरहम
सैद्धांतिकशक्तिशालीलाचार, लाजवाब, लापरवाह, लापता
प्राकृतिकप्रभावशाली
प्रचुरतावैभवशाली
भाग्यशालीसौभाग्यशाली

वचन-श्ाब्द के रूप से उसके एक अथवा अनेक होने का बोध हो उसे वचन कहते हैं। हिन्दी में वचन दो हाेेते हैं-

  • एकवचन-शब्द के जिस रूप से एक ही वस्तु का बोध हो, उसे एकवचन कहते हैं।
  • बहुवचन-शब्द के जिस रूप से अनेकता का बोध हो उसे बहुवचन कहते हैं।

उदाहरण-

Singular and Plural
एकवचनबहुवचन
पत्तापत्ते
बेटाबेटे
लड़कालड़के
आँखआँखें
किताबकिताबें
तिनकाथ्तनकें
बहनबहनें
तस्वीरतस्वीरें
ऋतुऋतुएँ
बच्चाबच्चे
कपड़ाकपड़े
बातबाते
पुस्तकपुस्तके
रुपयारुपए
भेड़भेड़े
गुरुगुरुजन
घोड़ाघोड़े
कक्षाकक्षाएँ
कमराकमरे
भाषाभाषाएँ
अध्यापिकाअध्यापिकाएँ
वस्तुवस्तुएँ
सेनासेनाएँ
कविताकविताएँ
लतालताएँ
बुढ़ियाबुढ़ियाँ
चुहियाचुहियाँ
कहानीकहानियाँ
कुरसीकुर्सियाँ
मिठाईमिठाइयाँ
अलमारीअलमारियाँ
बोलीबोलियाँ
सलाईस्लाइयाँ
चिड़ियाचिड़ियाँ
गुड़ियागुड़ियाँ
घड़ीघड़ियाँ
हड्‌डीहड्‌िडयाँ
दवाईदवाईयाँ
छुट्‌टीछुट्‌िटयाँ
सहेलीसहेलियाँ
डिबियाडिबियाँ
थाथे
वहवे
यहये
हैहैं
अध्यापकअध्यापकगण
कविकविगण
छात्रछात्रगण